Pages

Saturday, January 28, 2012

मनतारा


चिड़ियों  की  चीं-चीं , चन-चन
भ्रमरों  का  है  गुन-गुन , गुंजन
कलियों की  चट-चट , चटकन
मानो  मंजरित हुआ  कण-कण

न  शीत की  वह प्रबल कठोरता
न ही  ग्रीष्म की है  उग्र उष्णता
मद्धम- मद्धम   पवन  है  पगता
मधुर- मधुर  है मलय महकता

मधुऋतु का  फैला है सम्मोहन
मंगल- मँजीरा  बाजे  झन-झन
ताल पर  थिरके  बदरा सा तन
मन-मयूर संग नाचे  छम-छम

प्रकृति  से  मुखरित  हुआ गीत
मदिर- मादक  बिखरा   संगीत
अँगराई  लिए  कह  रही है  प्रीत
स्वर साधो , मनतारा  छेड़े मीत .

53 comments:

  1. sundar rachna.basant ki aahat...

    ReplyDelete
  2. सच में प्रकृति कुछ इसी तरह के भाव से मुखरित हो उठती है ....
    मादकता लिए हुए बयार जब चलती है ...उन्मत्त हो उठता है मन ....बसंत का यही भाव तो है ...!!
    आपकी लेखनी को माँ का वृहद् हस्त प्राप्त है ....निरंतर प्रगति के लिए अनेक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  3. मधुऋतु का फैला है सम्मोहन
    मंगल- मँजीरा बाजे झन-झन
    ताल पर थिरके बदरा सा तन
    मन-मयूर संग नाचे छम-छम
    फूल फूल डाली डाली महके चहके ... ऋतुराज बसंत के आने की अलाकिक छटा

    ReplyDelete
  4. प्रकृति पूर्ण मदमायी इस क्षण..

    ReplyDelete
  5. मन को झंकृत करती रचना ..मनतारा ..बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर...
    आप और आपकी लेखनी पर माँ सरस्वती की कृपा सदा बनी रहे..
    शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  7. basant ka sundar chitran .....bahut sundar !!!

    ReplyDelete
  8. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  9. Amrita,

    SAB KI SAB REH GAYEE KAVITAYEIN PARHI. HAIYYA HO BAHUT HI UTSAH DILANE WALI HAI AUR FARMA AAJ KE ROZ KE MARAA MARI KA SUNDAR VARNAN HAI. BASANT RITU KA VYAKHYAN BAHUT ACHHI TAREHAN KIYAA HAI AAPNE.

    Take care

    ReplyDelete
  10. वसंत ऋतु के रंगों से निस्सृत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  11. sundar rachna
    bahut khoob
    http://drivingwithpen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. वासन्तिक रंगो से सराबोर्।
    बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बसंत की छटा बिखर रही है ...बहुत मनमोहनी रचना है

      Delete
  13. बढिया रचना।

    वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  14. बसन्त पंचमी की शुभकामनाएं .
    माँ सरस्वती की कृपा आप पर सदैव ऐसी ही बनी रहे .
    सभी गीतों की तरह यह भी सुगढ़ रचना .
    अशआर आपके अवलोकन के लिए मेरे ब्लॉग पर

    ReplyDelete
  15. मन क्यों न उमड़े, वसंत आया है। आपको वसन्त पंचमी की मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  16. मनतारा छेड़े गीत...
    बहुत ही सुंदर !
    बसंत पंचमी की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  17. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    आज चर्चा मंच पर देखी |
    बहुत बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर मनोहारी चित्रण
    सबकुछ एकदम नाचता .जगमगाता सा
    खुशनुमा अहसास से भरपूर सुन्दर रचना है
    वसंत पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ ....
    माता सरस्वती की कृपा आप पर बनी रहे...

    ReplyDelete
  19. अरे वाह...वसंत ऋतु की कविता..
    वैसे आज ही मालुम चला की पटना का मौसम बेहद अच्छा हो गया है आजकल :)

    ReplyDelete
  20. खूबसूरत रचना ...

    ReplyDelete
  21. प्रकृति का बहुत सुन्दर शब्द चित्र, बसन्त की तरह मनभावन...

    ReplyDelete
  22. मनतारे पर सुंदर गीत ।

    ReplyDelete
  23. मादकता से बोराया तनमन .बस तन्मय हो गया .

    ReplyDelete
  24. बसंत का अदभुत वर्णन...

    ReplyDelete
  25. लो फिर बसंत आई....

    ReplyDelete
  26. बहोत अच्छे ।

    नया ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    ReplyDelete
  27. प्रकृति का संगीत मन के तारों को झंकृत करता है।

    ReplyDelete
  28. Are u in Facebook or in twitter I want to follow you Over t......................

    ReplyDelete
  29. वसंत के भव्य एवं विस्तृत रूप का चित्रण

    ReplyDelete
  30. कोमल शब्दों व ध्वन्यात्मकता ने मन झंकृत कर दिया.वाह !!!!!!

    ReplyDelete
  31. सुंदर शब्दावली व कोमल पदावली ने वसंत को मुखरित कर दिया...आभार!

    ReplyDelete
  32. पीताम्बर ओढे हुए धरती मधुमास है
    अंबर की छांव तले छाया उल्लास है

    ReplyDelete
  33. बसंत का सुन्दर और मनमोहक चित्रण करती ये सुन्दर कविता....बहुत खूब|

    ReplyDelete
  34. बसंत की सुंदर छटा बिखेरती बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन प्रस्तुति,बधाई

    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  35. ऋतुराज का सुन्दर स्वागत ....

    ReplyDelete
  36. बसंत ऋतु का स्वागत करती सुन्दर रचना. जिसमे पंछियों का कलरव है और प्रकृति की सुन्दरता से भाव विभोर मन की सटीक अभियक्ति भी.

    ReplyDelete
  37. ख़ूबसूरत एवं मनमोहक गीत! मन प्रसन्न हो गया!

    ReplyDelete
  38. bahut hi sundar aur manbhaavan rahna.....

    ReplyDelete
  39. naye blog par aap saadar aamntrit hai....


    गौ वंश रक्षा मंच
    gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  40. हमारे शहर में तो शीत की प्रबल कठोरता जारी है :)
    मन वासंती रंग में डूबा तो वसंत कहाँ रहेगा पीछे !
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  41. अनुपम गीत.
    पढकर मन में मधुर झंन झंन हो रही है.
    आपकी काव्य प्रतिभा कमाल की है,अमृता जी.
    बसंतोत्सव की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  42. स्वर साधो , मनतारा छेड़े मीत
    जी कोई तो धुन छेड़ो रे साथी :)

    ReplyDelete
  43. कल 17/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  44. बहुत ही सुन्दर वर्णन!

    ReplyDelete
  45. शब्द शब्द झनक रहे...
    खूबसूरत गीत...
    सादर

    ReplyDelete
  46. देर से आने के लिए माफी..प्रकृति का ्झंकृत ..बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  47. अँगराई लिए कह रही है प्रीत.....

    ReplyDelete