Social:

Friday, January 20, 2012

फरमा

एक ही फरमा में
भली-भांति कसकर
कितनी कुशलता से
सभी सम्पादित करते हैं
दैनंदिन दैनिक-चर्या
सेंटीमीटर , इंच से
नाप - नाप कर..
कांटा - बटखरा से
तौल - तौल कर..
रात को शुभरात्रि
कहने से पहले ही
करते हैं हिसाब-किताब
नफ़ा - नुकसान का
वही चित्रगुप्त वाला
बही-खाता पर
वही-वही लेखा-जोखा....
भावी योजना पर विचार
ज़रूरी फेर - बदल
कुछ ठोस उपाय
कुछ तय - तमन्ना
कल को और
बेहतर बनाने का....
आँख लगने के पहले ही
आँख खुलने के बाद के
कार्यक्रम को तय करना...
वाह रे ! माडर्न युगीन
मशीनी मानव
फिर -फिर
खुद को ही
फ़रमान जारी करते रहो
उसी फिक्स फरमा में
फिर से फ़िट होने का .

43 comments:

  1. bahut achhaa prashn uthaayaa aapne
    janm se ant tak yah karo yah naa karo
    yah nahee karoge to anarth ho jaayegaa
    yah karoge to swarg mil jaayegaa
    in sab ke farmo mein insaan ko fit kar diyaa jaataa
    apnee ichhaa se jee nahee paataa

    ReplyDelete
  2. समाज और देश के फरमों में कसा मानव जीवन

    ReplyDelete
  3. ha ha ha bahut hi accha farma hai !! bahut sundar mem really ...insaani farma !!

    ReplyDelete
  4. adhunik jeevan ka sunder khaka khincha hai aapne.......

    ReplyDelete
  5. यह ख़ास अंदाज आपका ही है लिखने का .... बहुत अलग सा , बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  6. सार्थक प्रसन...

    ReplyDelete
  7. आज की रोबोटीय ज़िन्दगी के रोजनामचे की सुन्दर प्रस्तुति .
    औरों से क्या रहते खुद से ही अलसाए लोग ,
    बने बनाए सांचे लेके फिरतें हैं बौराए लोग .

    ReplyDelete
  8. जो फिट है वो हिट है...फरमे में कसे जाने पर ही जीवन निखरता है...

    ReplyDelete
  9. वक़्त के साथ चलना है कल को बेहतर बनाना है, तो भावी योजना पर विचार करना ही होगा... अच्छा अंदाज़

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छा लिखा है आपने....
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. सच में...कभी नियमों को तोड़ कर भी तो जिया जाये...
    ये जीना भी कोई जीना है ???
    बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  12. आज सब रोबोट बन गए हैं और फरमें में फिट हो जाते हैं ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. बढिया रचना।

    वक्‍त किसी के लिए नहीं रूकता इसलिए इसका कद्र करना जरूरी है।

    ReplyDelete
  14. बहुत कुछ बांधते नापते फरमे ......सशक्त रचना

    ReplyDelete
  15. माया, महा ठगिनी ...

    ReplyDelete
  16. कितनी प्रोत्साहन देती पंक्तियाँ है...... बहुत बढिया रचना

    ReplyDelete
  17. सच है .....वही फर्मा ...उसी में फिर फिट होने की जद्दोजहद में ही जीवन बीत रहा है ....!!

    ReplyDelete
  18. इसी तरह की फिटनेस सारे समाज में है.सफलता की चढ़ाई के लिए जरुरी है कि फिटनेस के खांचे में ही रहा जाए..इसमें वही लोग नहीं समा पाते जो या तो फिटनेस के खांचे से ज्यादा मोटे होते हैं..या जो विद्रोही होते हैं...अधिक मोटे लोग पिछडते रहते हैं और विद्रोही खत्म कर दिए जाते हैं.....हैरानी है कि खांचा में फिट होते रहने को लेकर फिर भी मारामारी कम नहीं होती....

    ReplyDelete
  19. लाजबाब ,बहुत कुछ कह दिया |

    ReplyDelete
  20. अमृताजी, आपने तो कितनों की दुखती रग पर हाथ रख दिया...

    ReplyDelete
  21. आखिरी पंक्तियाँ इस पूरी पोस्ट की जान है......मशीनी मानव......बिकुल सही शब्द दिया है आपने इस मॉडर्न युगीन मनुष्य को..........सुन्दर पोस्ट|

    ReplyDelete
  22. ये ही सच है ...आज के वक्त का आईना

    ReplyDelete
  23. Amrita ji .......bilkul alag andaj aur prabhavshali rachana likhi hai apne ...badhai sweekaren .

    ReplyDelete
  24. फरमा को सही ही होना चाहिए .
    फरमा हमारा मानक स्वरुप तय करता है .
    हमारा दृष्टिकोण स्पष्ट हो तब आनंद भी दुगुना होता है .
    सुन्दर संवेगात्मक रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  25. wah sunder prastuti .........alag andaj me alag sawal , alag khayal . badhai .

    ReplyDelete
  26. फरमा का फरमान बढ़िया लगा.

    बधाई.

    ReplyDelete
  27. शानदार प्रस्तुति ! आज के मशीन होते जा रहे मानव की विवशता का सुन्दर चित्रण.

    आभार.

    ReplyDelete
  28. ..और दैव संजोग से फरमा में फिट होने वाला कवि ह्रदय हो तब तो उसे बेचैन रहना ही है।

    ReplyDelete
  29. बहुत ही प्रशंसनीय प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  30. बहुत बढ़िया सार्थक अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  31. जीवन को यंत्रवत हमने ही बना डाला है.बहुत ही यथार्थवादी रचना.कदम-कदम पर पैमाना, नापजोख, लेखाजोखा.

    ReplyDelete
  32. लकीर का फ़कीर बनने के फायदे इतने हैं
    कि इंसान सिर्फ "फरमे" में सेट होने से ही संतुष्ट नहीं होता

    फरमे को मजबूत बनाने के जतन भी करता है
    इसे कमजोर बनाने वालों के खिलाफ भी रहता है

    अगर वे सफल हुए तो मन मारकर तारीफ़ भी करता है.

    एक बेहतर विचार के साथ आने की अच्छी कोशिश. स्वागत है.

    ReplyDelete
  33. आज का आदमी इसके सिवा और कर ही क्या सकता है।
    प्रभावशाली कविता।

    ReplyDelete
  34. गहन प्रश्न उठाती कविता...

    ReplyDelete
  35. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना!

    ReplyDelete
  36. बहुत बढ़िया सार्थक प्रस्तुति। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  37. बहुत बढिया प्रस्तुति........जन-मानस के मन की बात । अति उत्तम रचना :))

    ReplyDelete
  38. आज के मुकाबले भविष्य में बेहतर करना एक आवश्यकता बन गई है ताकि व्यक्ति दुनिया के बाज़ार में टिक सके. फ़रमे की सीमाएँ तो रहेंगी.

    ReplyDelete
  39. फरमा होंने के फायदे हैं और नुक्सान भी पर... छटपटाहट बखूबी व्यक्त की आपने

    ReplyDelete
  40. फर्में में फंसे
    कैसे निकलें.

    आत्मानुभूति करते हुए तन्मय होना ही इसका उत्तर है.

    ReplyDelete
  41. आज तक कहाँ बन पाया है बेहतर कल ?

    ReplyDelete