Pages

Tuesday, January 3, 2012

कर्फ्यु


मेरे मन के
शांत संसार में
कुछ असामाजिक
विचारों ने अनायास
कर दिया है
बम - धमाका
पुनर्शान्ति के लिए
लगा दिया है
मैंने भी कर्फ्यु..
पर कविता तो
छूट गयी है
उन्हीं विचारों के
अभेद्य दुर्ग में..
न जाने कैसे
लुट-पीट रही होगी
और उसे
बचाने के लिए
रोक रही हूँ
मैं भी कलम .

40 comments:

  1. कविता विचारों के अभेद्य दुर्ग से ही निकलती है...

    ReplyDelete
  2. kalam ko rokane ka to koi kaaran nahi dikhta hain.
    likhte rahiye
    nice lines

    ReplyDelete
  3. अंतर्द्वंद्व ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. गहन अहसासों से परिपूर्ण एक सशक्त प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. वो तो रास्ता निकाल ही लेगी बहार आने का .....!बल्कि अबकी कुछ गज़ब के भाव लिए आएगी ....!!

    ReplyDelete
  6. अशांत मन में कैसी कविता!!!!!!

    ReplyDelete
  7. अंतरद्वंद पर सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. कृपया आप अपनी कलम ना रोकें.. थोड़ा विश्राम कर ले.

    नए वर्ष की मंगलकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. ये भी होता है। नववर्ष की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  10. हलचल आती, थम जाती है,
    समय बहुत लेने के बाद।

    ReplyDelete
  11. निकल कर हलचल मचाने लगी।

    ReplyDelete
  12. बहोत अच्छे ।

    हिंदी ब्लॉग

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  13. नव-वर्ष की मंगल कामनाएं ||

    धनबाद में हाजिर हूँ --

    ReplyDelete
  14. अंतर्द्वान्दीय कर्फ्यू ...
    कविता कर्फ्यू में नहीं फसेगी

    ReplyDelete
  15. कोई फ़िक्र नहीं, कविता बड़ी सख्तजान है..सब कुछ झेल कर भी सुरक्षित निकल आयेगी...

    ReplyDelete
  16. शब्द शब्द बेजोड़...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन और गहन भावों से सजी हुई रचना ...

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर प्रस्तुति, अच्छी रचना,
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट " जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । नव-वर्ष की मंगलमय एवं अशेष शुभकामनाओं के साथ ।

    ReplyDelete
  21. अमृता जी,
    यह गज़ब मत कीजिएगा .
    कलम को मत रोकियेगा.
    आपके कितने पाठक जां बहक हो जायेंगे.

    ReplyDelete
  22. कविता बाहर आने का रास्ता खोज ही लेती है.संक्रमण काल से गुजरने के दौरान व्यक्ति की तरह कविता भी निखरती है.अगर कविता की सीमा दिख रही हो तो निबंध ,रेखाचित्र या अन्य विधाओं का सहारा लिया जा सकता है.असामाजिक विचारों की बात और कर्फ्यू का रिश्ता पूरी तरह समझ में नहीं आया.

    ReplyDelete
  23. जीवन के विभिन्न सरोकारों से जुड़ा नया ब्लॉग 'बेसुरम' और उसकी प्रथम पोस्ट 'दलितों की बारी कब आएगी राहुल ...' आपके स्वागत के लिए उत्सुक है। कृपा पूर्वक पधार कर उत्साह-वर्द्धन करें

    ReplyDelete
  24. बहुत ही लाजवाब... मन के उद्दवेलन को बड़ी खूबसूरती से पेश करती रचना..
    आभार..

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  26. कड़े से कड़े कर्फ्यू में भी ढील दी जाती है......हम इंतज़ार करेंगे|

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर अहसासों की प्रस्तुति,मगर मुझे कर्फ्यू से डर लगता है
    कारण १२ घंटे तक कर्फ्यू में फसा रहा,मुशिकल से जान छुटी...

    WELCOME to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  28. रचना से प्रभावित होकर मै आपका समर्थक बन रहा हूँ,निवेदन है कि आप भी बने,तो मुझे हार्दिक खुशी होगी,....

    WELCOME to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  29. कविता को बचाने के लिए कलम को रुकने की नहीं , चलने की जरुरत है.... !! एक अच्छी प्रस्तुति.... :)

    ReplyDelete
  30. He kalam chalti rahni chahiye tabhi ye karfu khatam Bhi hoga .... Umda rachna ...

    ReplyDelete
  31. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !
    बहुत ख़ूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  32. अरे बाप रे बाप!
    कहाँ से आये ये असमाजिक विचार.
    अब तो बम निरोधक यंत्र की भी जरुरत पड़ेगी जी.

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छी रचना,सुंदर प्रस्तुति
    नई रचना-काव्यान्जलि--हमदर्द-

    ReplyDelete
  34. भीतर की अशांति पर भी कर्फ्यू लगाना पड़ता है. सुंदर कविता.

    ReplyDelete