Pages

Tuesday, December 13, 2011

विरह - गीत


हमारे - तुम्हारे  विरह  ने पिया
दर्द के गीत को जनम  दे दिया


अनदेखे से परदेश में , हो  तुम
न जाने किस वेश में  , हो तुम
तेरी स्मृतियों में   ही , मैं  घूमूँ
नाम तेरा  ही ,  ले  लेकर  झूमूँ
जोगन को मैंने भी  जोग लिया
बेमोल ही दर्द  को , मोल लिया

हमारे - तुम्हारे  विरह  ने पिया
दर्द के गीत को  जनम दे दिया


हियरा   रह - रह   के   हहराये
भीतर- भीतर   घुट- घुट  जाये
हर आहट पर  ऐसे चिहुंक  उठे
लाख मनाऊँ फिर भी क्यों रूठे
नेह ने जाने कैसा हिलोर लिया
आँधी बन  मुझे झझकोर दिया
 
हमारे - तुम्हारे  विरह  ने पिया
दर्द के गीत को  जनम दे दिया


कैसे बाँधूँ अपने  बिखरे मन को
सूली के जैसे ,  इस  सूनेपन को
मुझको यूँ , अब  भटकाओ  मत
साँसों की कथा  लिखवाओ  मत
शब्दों में बस तुम्हें ही गूँथ दिया
गीतों का तो , बस  बहाना लिया

हमारे - तुम्हारे   विरह  ने पिया
दर्द के गीत  को  जनम दे दिया


कैसे  तुझ  तक ,  इन्हें  पहुँचाऊँ
इतनी पीड़ा  से ,  मैं  ही  लजाऊँ
मृग - जल मन को  है  भरमाता
मेघों से जुड़ गया  है  इक  नाता
क्या तुने ऋतुओं को  बोल दिया
इन पलकों में सावन घोल दिया

हमारे - तुम्हारे  विरह  ने पिया
दर्द के गीत को  जनम दे दिया .  






46 comments:

  1. हियरा रह - रह के हहराए...
    इस पंक्ति की ध्वनि सुनी जा सकती है... दिल पर दस्तक देती है यह आवाज़ आपकी रचना में!
    प्रभावी विरहगीत की सबसे प्रभावी पंक्ति!

    ReplyDelete
  2. विरह भावनाओं का बहुत सुंदर और भावमयी चित्रण..

    ReplyDelete
  3. काश अजन्मा यह रह जाता,
    पिया मिलन से पर हो जाता।

    ReplyDelete
  4. मन के कशमकश को दर्शाती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. विरह की सारी संवेदनाएं छलक गयीं इस गीत में ..

    ReplyDelete
  6. इस विरह गीत ने मन को संतप्त कर दिया ..लगा जैसे यह व्यक्तिनिष्ठ पीड़ा समस्त समष्टि से जुड़ती हुयी पाठकों से भी तादात्म्य स्थापित कर व्यथित कर गयी हो .....

    ReplyDelete
  7. है सब से मधुर वो गीत जिसे हम दर्द के सुर में गाते हैं...
    विरह को शब्दों में गूँथ दिया है... सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर |
    शुभकामनाएं ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. विरह के भावो का सजीव चित्रण कर दिया।

    ReplyDelete
  10. प्रेम न होता तो पीर न होती पीर न होती तो गीत न होता :)

    ReplyDelete
  11. virah ki agni ka achcha vivrankiya hai bahut sundar.

    ReplyDelete
  12. वाह! सुन्दर गीत!
    सादर...

    ReplyDelete
  13. बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

    ReplyDelete
  14. आह!
    वाह!
    नही सुझती राह
    क्या कहूँ आपकी इस अनुपम प्रस्तुति पर.
    बस तन्मय हो रहा हूँ.

    आभार... बहुत बहुत आभार आपका अमृता जी.

    ReplyDelete
  15. विरह को बेहतरीन शब्दों में बयां किया है. आभार

    ReplyDelete
  16. कैसे बांधूं अपने बिखरे मन को..
    सुली के जैसे , इस सूनेपन को

    बस कमाल का जादू है आपके शब्दों में!! आभार.

    ReplyDelete
  17. it is a fantastic experience to read your poetry after a long time. your poetry is running from the dense forest of the sprituality. a appearance of sufi way is also traceable...very nice keep it up.

    ReplyDelete
  18. आपका पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट नकेनवाद पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  19. आप इतना खूबसूरत गीत लिखतीं हैं कि क्या कहूँ सोचना पड़ जाता है!!

    ReplyDelete
  20. virah ke bhawon ko bahut hi achhe se likha hai...

    ReplyDelete
  21. मन की गहरी संवेदना लिए विरह गीत .....

    ReplyDelete
  22. अति सुन्दर ....!!
    कोमल -कोमल प्यारा सा एहसास .

    ReplyDelete
  23. विरह के भावों का सुंदर तरीके स‍े चित्रण।

    ReplyDelete
  24. दर्द की पीड़ा से भरी कविता

    ReplyDelete
  25. विरह दर्द को ही जनम देता है ... सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
  26. एक प्यारा सा मीठा विरह गीत..सुन्दर..

    ReplyDelete
  27. विरह वेदना का सजीव चित्रण ..बधाई

    ReplyDelete
  28. अच्छी लगी रचना.........

    ReplyDelete
  29. हमारे तुम्हारे विरह ने पिया
    दर्द के गीत को जन्म दे दिया
    यही काव्य का संपूर्ण सत्य है जो सृष्टि के आदि-अंत को वर्णित करता है.

    ReplyDelete
  30. दर्द असीमित है कविता में,
    शब्द-शब्द में आँसू दिखते।
    बहन अमृता सच बतलाना,
    ऐसी कविता कैसे लिखते।।

    ReplyDelete
  31. किसी ने लिखा है
    जो धुन तार से निकली है उसे सबने सुनी है
    पर जो साज पर गुजरा है सिर्फ उस दिल को पता है.
    शब्द नहीं है,लगता है सबों के दिल का हालयही होगा .बधाई भी नहीं.सिर्फ एहसास .मीरा राधा की ब्यथा को सिर्फ जिया जा सकता है.फिर भी......

    ReplyDelete
  32. सुभानाल्लाह..........हैट्स ऑफ.....बेहतरीन और लाजवाब 'गीत' लिखा है इस बार आपने|

    ReplyDelete
  33. विरहे के भावों को शब्दों मे ढालकर बहुत ही खूबसूरती के साथ गीत के रूप मे सजाया है आपने ....बहुत खूब समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. बहुत सुदर चित्रण और एक लाजवाब अभिवयक्ति

    ReplyDelete
  35. हमारे तुम्हारे विरह में पिया,
    दर्द के गीत को ही जनम दे दिया

    अनदेखे परदेस में हो तुम
    ना जाने किस वेश में हो तुम
    तेरी स्मृतियों में घूमू
    नाम तुम्हारा लेकर झूमू
    जोगन जैसा ही जोग लिया
    बेमोल दर्द को मोल लिया !

    अब हमारे तुम्हारे विरह ने पिया
    दर्द के गीत को ही जनम दे दिया !

    आनंद आ गया .....शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  36. बढ़िया गीत है। प्रवाह और भी होता तो लाज़वाब हो जाता।

    ReplyDelete
  37. hriday ko jhakjhor dene wali abhivykti .. vah ... badhai.

    ReplyDelete
  38. शाश्वत प्रेम....बधाई

    ReplyDelete
  39. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    ReplyDelete
  40. कई पोस्ट पर आपको अमृता कह दिया ...
    मुझे माफ़ कर दीजिये ....

    ReplyDelete