Social:

Wednesday, September 5, 2012

मेरे होने का ...


मेरे भावों के समंदर में
तरह-तरह की लहरें
तरह-तरह की तरंग है ...

मेरे होने का
यही ढंग है

कभी बांसों-बांस
उछल जाती लहरें
कभी किनारे से लग
चुप हो जाती लहरें
कभी अपने ही तल में जा
छुप जाती लहरें
विपरीत से ही जीवन में
सारा उधम और उमंग है...

मेरे होने का
यही ढंग है

कभी हवाओं की धड़कन पर
थिरक जाती लहरें
कभी बादलों को देख
ललच जाती लहरें
कभी चाँद के छुअन से
सिहर जाती लहरें
सरपट समय जो सरका दे
बस वही मेरे संग है ...

मेरे होने का
यही ढंग है

कभी मुक्त राग में
गुनगुनाती लहरें
कभी पगुराए पत्थरों पर
कमल खिलाती लहरें
कभी मोतीवलियों से ही
सज जाती लहरें
लहर-लहर पर तिरता
पल-पल बदलता रंग है ...

जिसे देखकर
झलझलाया समंदर खुद ही
चकित और दंग है ...

क्या कहूँ ?

मेरे होने का
यही ढंग है .

38 comments:

  1. एक और सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  2. जीवन की विशिष्टता ही हमें विशेष बनाता है।

    ReplyDelete
  3. विचारों का ज्वार, यही है परिचय..

    ReplyDelete
  4. अजब निराला ढंग है, लहर लहर लहराय |
    मर्मस्पर्शी रंग है, सहलाए टकराय |
    सहलाए टकराय, सदा आनंदित करती |
    हुई कभी जो शांत, उदासी कैसी भरती |
    लहरे सारी देह, नेह की मेह पुकारे |
    अवगाहन की चाह, सुनो हे मोहन प्यारे ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

      Delete
  5. जीवन लहरियों पर लहराती कविता. रविकर ने जो कहा है उससे अधिक क्या कहा जाए. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना है, बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. Adbhut aur amritmay rang hai ...
    bahut sundar rachna ...

    ReplyDelete
  8. अनुभूतियों के ताप में
    कथा कहता मन....
    आत्मीय भाषा में
    अपने आप का स्पर्श.................

    ReplyDelete
  9. यही होना शाश्वत है

    ReplyDelete
  10. विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...

    ...बिलकुल सच कहा...बहुत उत्कृष्ट लगा यह होने का ढंग...

    ReplyDelete
  11. Very special waves :-)Full of emotions and devotion!

    ReplyDelete
  12. यही जिन्दगी है..सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  13. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  14. कभी पगुराए पत्थरों पर
    कमल खिलाती लहरें
    कभी मोतीवलियों से ही
    सज जाती लहरें
    लहर-लहर पर तिरता
    पल-पल बदलता रंग है ...
    .........सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete

  15. मेरे होने का
    यही ढंग है

    kya khoob dhang hai...bahut sundar:-)

    ReplyDelete
  16. आज भले कूड़े दान में जा रही हैं बेटियाँ ,
    कल सबक सिखाएंगी यही बेटियाँ ,|
    देखें तब कौन करें इनकी हेटियाँ .
    बिजली सी चमकेंगी यही बेटियाँ ||

    हिला हुआ समाज है आरक्षण की बेड़ियाँ ,
    टूटेंगी ये सामाजिक झडबेरियाँ |
    राज करेंगी बेटियाँ ,मार्ग गढ़ेंगी बेटियाँ ,
    सुयश दिलावाएंगी यही बेटियाँ .

    ये आरक्षण बला क्यों है ?
    चला ये सिलसिला क्यों है ?
    बदलते रंग पत्ते ,
    पतझड़ से गिला क्यों है ?

    गंधाती अब सियासत ,
    चयन से गिला क्यों है ?
    बिकाऊ वोट तेरा ,
    फिर मांझी से गिला क्यों है ?

    रुख हवा का जिधर का है ,
    उधर के हम हैं ,
    भें हम लहरों के संग ,
    रुकें हम ,लहरों के संग .

    न हों छाती पे हलचल ,
    सुनामी अबिस (abyss)में हम,
    है ये आवेग तट पर ,
    हम हैं आवेग संग संग .

    बेहतरीन भाव अभिव्यंजना .....बहे लहरों के संग संग .....
    कभी बांसों-बांस
    उछल जाती लहरें
    कभी किनारे से लग
    चुप हो जाती लहरें
    कभी अपने ही तल में जा
    छुप जाती लहरें
    विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...
    मेरे होने का
    यही ढंग है ,
    ..................
    बस उत्ताल तरंग
    मेरे संग ...
    बढ़िया रचना ...
    अबिस =गहरा समुंद (समुन्दर ,समुद्र ,सागर ,समंदर ).

    ReplyDelete
  17. रुख हवा का जिधर का है ,
    उधर के हम हैं ,
    बहें हम लहरों के संग ,
    रुकें हम ,लहरों के संग .

    न हों छाती पे हलचल ,
    सुनामी अबिस (abyss)में हम,
    है ये आवेग तट पर ,
    हम हैं आवेग संग संग .

    बेहतरीन भाव अभिव्यंजना .....बहे लहरों के संग संग .....
    कभी बांसों-बांस
    उछल जाती लहरें
    कभी किनारे से लग
    चुप हो जाती लहरें
    कभी अपने ही तल में जा
    छुप जाती लहरें
    विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...
    मेरे होने का
    यही ढंग है ,
    ..................
    बस उत्ताल तरंग
    मेरे संग ...
    बढ़िया रचना ...
    अबिस =गहरा समुंद (समुन्दर ,समुद्र ,सागर ,समंदर ).

    ReplyDelete
  18. Amrita,

    JEEVAN KE VIBHIN RANGON KA VARNAN SUNDAR SHABDON MEIN KIYAA HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  19. लहरें, तरंग और उमंग, जीवन का सबसे निराला ढंग... वाह अमृता जी बहुत सुन्दर भाव... बधाई

    ReplyDelete
  20. आपके होने का ढंग दंग कर रहा है जी.
    सुन्दर रंगारंग प्रस्तुति के लिए आभार,अमृता जी.

    ReplyDelete
  21. शुभप्रभात !
    विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...
    बहुत खूब !
    मेरे होने का यही ढंग है :)

    ReplyDelete
  22. आपके जीवन के इस ढंग के हम मुरीद हुए ...
    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  23. बेहद खूबसूरत ढंग है ये.. अनुसरण करने को जी चाहता है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  24. आपने जीवन की लहरों के खेल का अद्भुत चित्रण किया है। इसके बरक़्श आपने अपने जीने के ढंग को देखा है। कोई अतिश्योक्ति नहीं कि जल और जीवन का रिश्ता बहुत गहरा है। तालाब के ठहरे हुए पानी से, झरनों की उछलती कूदती जलधाराओं, नदियों की बलखाती मद्धम-तेज लहरों से लेकर समुंदर की अगम गहराइयों का स्थिरिता और सतह की शोर मचाती बेचैनी,उछलकूद-आपाधापी,किनारों से मिलने औऱ वापस लौट जाने का अनवरत सिलसिला और चांद के प्रति अबूझ प्यार। जो अभिव्यक्ति पाती है चांदनी रातों में समुंदर की आसमान छूती लहरों में। नदियों के श्रोतों में जीवन के भी तमाम श्रोत छिपे हैं। जो मन की गहराइयों से बार-बार निकल-निकल बाहर आते हैं और हमें खुद अपने जीने के ढंग पर हैरान करते हैं। जीवन के विरोधाभाषों की तरह। स्वागत है।

    ReplyDelete
  25. अमृता जी, बहुत सुंदर लगा लहरों का यह नृत्य और जीवन का यह ढंग...मुबारक हो !

    ReplyDelete
  26. विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...

    बहुत ही गहन और सुन्दर है ये पोस्ट.....हैट्स ऑफ इसके लिए ।

    ReplyDelete
  27. हमेशा की तरह आपकी लेखनी के माया जाल और शैली की उत्कृष्टता से अभिभूत हूँ .....

    ReplyDelete
  28. कभी मुक्त राग में
    गुनगुनाती लहरें
    कभी पगुराए पत्थरों पर
    कमल खिलाती लहरें
    कभी मोतीवलियों से ही
    सज जाती लहरें

    बहुत खूबसूरत ढंग है आपके होने का

    ReplyDelete
  29. आपके होने का ढंग प्रभावित करता है . अद्योपरांत . कई बार शब्द नहीं होते

    ReplyDelete
  30. जिसे देखकर
    झलझलाया समंदर खुद ही
    चकित और दंग है ...
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार....

    ReplyDelete
  31. जिसे देखकर
    झलझलाया समंदर खुद ही
    चकित और दंग है ...

    क्या कहूँ ?

    मेरे होने का
    यही ढंग है . bahut achhi rachana likhi hai apne .......ak shayar ko padha tha बस समंदर देख ली मैंने तेरी दरियादिली |
    त्रिश्ना लब रखा सदफ बूद पानी का ना दी ||
    lekin yahan sb kuchh palat gaya hai nayee drshti mili .....abhar ke stth badhai amrta ji

    ReplyDelete
  32. निराला ढंग. वाह अमृता जी.

    ReplyDelete
  33. विपरीत से ही जीवन में
    सारा उधम और उमंग है...

    ...बिलकुल सच अमृता जी
    नई पोस्ट .उजला आसमा
    पर आपका स्वगत है

    ReplyDelete