Social:

Thursday, September 13, 2012

कवि का क्या भरोसा ?


कवि का क्या भरोसा ?
कब क्या कह दे
मात खायी बाज़ी पर भी
शह पर शह दे...
कविता का क्या मोल है ?
हिसाब में बड़ा झोल है...
क्या ये नारियल का खोल है ?
या फूटी हुई ढोल है ?
इससे न तो पेट भरता है
न ही तन ढकता है
न ही छप्पड़ बन कर
किसी के सर पर लटकता है
तो कोई कवि कविता क्यों कहता है ?
बर्दाश्त की सारी हदों को
बार-बार जानबूझकर तोड़ता है
आह-वाह सुनने के लिए
लार बनकर टपकता है...
उससे कुछ पूछो तो -
स्वांत: सुखाय रटता है ...
ये कवि -जमात बड़ा ही
ख़तरनाक मालूम होता है
दिनदहाड़े सबके दर्द पर
डाका डालकर रोता है
हँसने की बात करो तो
ऐसे आपा खोता है
और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
अपनी कविता को ढ़ोता है .

45 comments:

  1. ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है

    :) :) sachh :D

    ReplyDelete
  2. इन बेचारे शब्द-जीवियों पर कोई भरोसा नहीं करता फिर भी इनका आत्मविश्वास देखने लायक होता है :))

    ReplyDelete
  3. कविता कर कर के करे, कवि कुल आत्मोत्थान ।

    जैसे योगी तन्मयी, करे ईश का ध्यान ।

    करे ईश का ध्यान, शान में पढ़े कसीदे ।

    भावों में ले ढाल, ढाल से सौ उम्मीदें ।

    रोके तेज कटार, व्यंग वाणों को रविकर ।

    कायम रख ईमान, हमेशा कविता कर कर ।।

    ReplyDelete
  4. ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है
    दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है .
    इस मर्तबा नै ज़मीन तोड़ी है ,कविता भी नहीं छोड़ी है ,

    कहता है फूंक फूंक ग़ज़लें शायर दुनिया का जला हुआ ,
    उसके जैसा चेहरा देखा एक पीला तोता हरा हुआ ,
    आंसू सूखा कहकहा हुआ .
    पानी सूखा तो हवा हुआ .

    वियोगी होगा पहला कवि आह से निकला होगा गान ,
    निकल कर अधरों से चुपचाप बही होगी कविता अनजान .

    क्रोंच (नर पक्षी )के बहेलिया द्वारा मारे जाने पर वाल्मीकि ऋषि के मुख से कुछ निकला था ,शायद वही पहली कविता थी ,जो आज इस मोड़ पे आगई ,अपना ही उपहास करवा गई .

    अमृता जी छा गईं .

    ram ram bhai
    बृहस्पतिवार, 13 सितम्बर 2012
    आलमी होचुकी है रहीमा की तपेदिक व्यथा -कथा (आखिरी किश्त )
    http://veerubhai1947.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  6. कविता हो,या कहानी.... नहीं कुछ भी बेमानी.भले इससे तन ना ढंके,भूख ना मिटे,-पर एक अव्यक्त सुकून मिलता है

    ReplyDelete
  7. वाह: क्या बात है..?अच्छा अंदाज है..

    ReplyDelete
  8. गहन भाव लिए सशक्‍त लेखन ...आभार

    ReplyDelete
  9. ्बडी गज़ब की प्रस्तुति है।

    ReplyDelete
  10. सशक्त उत्कृष्ट प्रस्तुति के लिये बधाई ,,,,अमृता जी

    क्या अपनी, परिभाषा लिख दूँ
    क्या अपनी,अभिलाषा लिख दूँ
    शस्त्र कलम को, जब भी कर दूँ
    तख्तो त्ताज ,बदल के रख दूँ

    केंद्र बिंदु, मष्तिक है मेरा
    नये विषय का , लगता फेरा
    लिखता जो , मन मेरा करता
    मेरी कलम से , कायर डरता

    क्रोधित होकर कभी न लिखता
    सदा सहज बन कर ही रहता
    विरह वेदना ,पर भी लिखता
    प्यार भरी भी , रचना करता

    कभी नयन को,रक्तिम करता
    कभी मौन हूँ, सब को करता
    कभी वीरता के , गुण गाता
    दुर्गुण को भी , दूर भगाता

    मन मेरा है, उड़ता रहता
    अहंकार से , हरदम लड़ता
    गुनी जनीं का ,आदर करता
    सारा जग,कवि मुझको कहता,,,,,

    RECENT POST -मेरे सपनो का भारत

    ReplyDelete
  11. अमृता जी, पंछी क्यों उड़ता है, सूरज क्यों जलता है..कवि कवि है इसलिए कविता करता है, कवि न होता तो जो होता वही करता जैसे आलू बेचता या टीवी पर शो करता...वैसे आपकी कविता बहुत अच्छी है.

    ReplyDelete
  12. छा गयी अमृता जी.....क्या कहूँ शब्द नहीं है मेरे पास.....हैट्स ऑफ इसके लिए।

    ReplyDelete
  13. कवि तो वे भी कह देते हैं जैसा कि एक कवि ने ही कहा है -
    जहां न जाए रवि,
    वहां जाए कवि।

    ReplyDelete
  14. दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है
    कवि कुछ-कुछ सिरफिरा कहलाता है

    ReplyDelete
  15. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete

  16. सच में कवि का क्या भरोसा... :)

    ReplyDelete
  17. ऑपरेशन ग़लतफ़हमी और ऑपरेशन अफवाह के बीच
    झूलता ये कवि जमात और कुछ कर भी तो नहीं सकता...
    कवि को ग़लतफ़हमी ये कि..... उसके रचे शब्दों का सर्वाधिकार सुरक्षित रहे....
    लोगों के बीच फैला अफवाह ये कि... क्या भरोसा.....कब क्या कह दे.....
    .................................
    मीर तकी मीर ने कितना सटीक कहा है.....
    ये उदास-उदास चेहरे, ये हंसी-हंसी तबस्सुम
    तेरी अंजुमन में शायद कोई आईना नहीं है
    .............................

    ReplyDelete
  18. ये कवि बड़ा ही जीवट शै है ...
    शब्दों के साथ खेलता है ... जादू रचता है ...
    बहुत उम्दा ...

    ReplyDelete
  19. जोरदार कविताई!
    जब विषय कुछ न मिले तो भी कवि जोरदाकर कविता लिखता है।:)

    ReplyDelete
  20. ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है
    दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है .

    कवि की यही बेबाकी उसे अन्य लोगो से भीड़ में ही अलग बनाती है

    ReplyDelete
  21. शब्द ऊर्जावान होते हैं, उन्हें सम्हालना ही होगा।

    ReplyDelete
  22. Amrita,

    AGAR KAVI NIDAR NAA HOTE TO HAMEIN PREM KAA KAISE PATAA LAGTAA?

    Take care

    ReplyDelete
  23. वाह वाह......
    बहुत बढ़िया...
    निराले लोग...निराली बात...

    अनु

    ReplyDelete
  24. सशक्‍त लेखन ... बहुत बढ़िया...........आभार

    ReplyDelete
  25. उससे कुछ पूछो तो -
    स्वांत: सुखाय रटता है ...
    ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है
    दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है .

    वाह...वाह...
    :)))))

    ReplyDelete
  26. :) आज तो हवा दूसरी दिशा में ही बह रही है!

    ReplyDelete
  27. हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है .

    आत्म मंथन पर मजबूर कर दिया आपने तो

    ReplyDelete
  28. http://vyakhyaa.blogspot.in/2012/09/blog-post_14.html

    ReplyDelete
  29. अब इतना धो-धो के धोबीपाट देंगी तो कौन हिम्मत करेगा कवि कहलाने की। हां नहीं तो

    ReplyDelete
  30. sach likha lekin ek baat to kahni padegi chaahe lekhak dusre k dard pe daka daal k rota hai magar aaj aisa kon jo dosron k dard pe roye.

    ReplyDelete
  31. सचमुच बड़ा ही कोमल होता है कवि ह्रदय...लाज़वाब रचना...
    हिंदी दिवस की शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  32. कवि ... शायद बहुत भावुक होता है हर बात उसके मन को उदद्वेलित करती है ॥फिर चाहे खुद आ दर्द हो या किसी और का ... कवि की कल्पना तो न जाने कहाँ से कहाँ ले जाती है ....

    एक अलग रंग की रचना

    ReplyDelete
  33. और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है ....

    तभी कवि सबसे अलग होता है अपनी ही सोच के साथ वो कुछ खास है ...

    ReplyDelete
  34. ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है
    दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है .
    अजी कविता तो वो हथियार है जहां तलवार काम नहीं करती वहां कविता करती है बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  35. कवि की खबर लेने वाली कविता का स्वागत है। कई अहम सवालों की तरफ ध्यान खींचती कविता। जो कवि के जमात में तब्दील होने और गुटबाजी में शामिल होने के कुचक्र की तरफ भी खामोशा इशारा करती है। स्वागत है।

    ReplyDelete
  36. पहली बार आपकी कविता एक ही बार में पढ़ ली...और समझ ली.....आभार ! जोक्स अपार्ट .....सच कहा आपने ...लोग हालाँकि इस जमात से बहुत डरते हैं .....फिर भी ...!!!!

    ReplyDelete
  37. सुन्दर और सार्थक सृजन, बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग" meri kavitayen " की नवीनतम पोस्ट पर पधारकर अपना स्नेह प्रदान करें, आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  38. sundar sarthak lekhan ......ये कवि -जमात बड़ा ही
    ख़तरनाक मालूम होता है
    दिनदहाड़े सबके दर्द पर
    डाका डालकर रोता है
    हँसने की बात करो तो
    ऐसे आपा खोता है
    और रक्त-निचुड़े शब्दों पर ही
    अपनी कविता को ढ़ोता है ...kavi aur kavita ka sarthak chitran

    ReplyDelete
  39. बहुत खूब सार्थक रचना |

    ReplyDelete
  40. sach hi hai ...kavi jo na kahe so thoda hai ...!!
    sarthak baat ...!!

    ReplyDelete
  41. आप तो कवि हैं अमृता जी.
    खूब कटाक्ष किया है आपने स्वयं पर ही.
    कवि की छवि खुद कवि ही समझ सकता है जी.
    हम तो वाह वाह करने वालों की जमात में ही है,

    ReplyDelete
  42. आज 18/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete