Pages

Saturday, February 25, 2012

क्षणिकाएँ...

सुबह से ही
खोल - खोलकर
खाली किताबों को 
बोल - बोलकर 
पढ़ती हूँ
और रात ढलने तक 
अदृश्य लिखाई से 
अपने पन्नों पर 
केवल तुम्हें ही 
भरती हूँ .

    ***

मर्म की बात
ओठों से कहूँ 
या कि न कहूँ
तुम ही कहो
कि कैसे मौन की 
शेष भाषा में 
केवल  तुम्हें ही गहूँ .

      ***

कुछ साधारण से 
शब्दों को 
जोड़ - जोड़कर
अपने गीतों में 
केवल तुम्हें ही 
रचा है 
पर मुझ सीपी में 
गिरने को 
वो स्वाति बूंद
अभी भी बचा है .

     ***

मोतियों की 
मंडी में तो
एक से बढ़ एक 
मोती चमक रहे हैं
पर मेरी 
चुंधियाई आँखें 
केवल तुमसे ही 
दमक रहे हैं .

54 comments:

  1. सीप को इंतज़ार है स्वाति बूंद का ... कहती है सीप
    इस प्यार को समझो

    ReplyDelete
  2. वाह ..
    बहुत सुन्दर..
    सभी क्षणिकाये अच्छी........

    ReplyDelete
  3. वाह ... सभी एक से बढ़कर एक हैं ...

    ReplyDelete
  4. "तुम " में समाई सारी क्षणिकाएं .... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. गहरे अर्थ लिए सुन्दर क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  6. उत्कृष्ट क्षणिकाएं ....!!

    ReplyDelete
  7. वाह .....बहुत सुन्दर है सभी .... क्षणिकाओं में भी बाज़ी मार गई अमृता जी

    ReplyDelete
  8. क्षणिकाएं या मुक्तक आप सब में धाराप्रवाह लिखती हैं
    भावों की कभी नहीं . बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन क्षणिकाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर क्षणिकाएँ...प्रेम में डूबी हुईं...

    ReplyDelete
  12. सुन्दर और अर्थपूर्ण क्षणिकाएँ ..

    ReplyDelete
  13. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपकी उपस्थिति पार्थनीय है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  14. Amrita, behad prabhawi kshanikayein hain...ham sab maun ka aartnaad sunkar bhi use shaabdik astitw nahin de paate aur naa hi khud ko seep kar kisi moti ke srijan ka kaaran hi ban paate...sach kaha hai aapne....ashru bond roopi moti se uttam moti Maine bhi aajtak nahin dekha aur isliye mujhe bhi apni aankhon ki seep bahut pasand hai...badhayi ,aisi sundar rachna ke liye.

    ReplyDelete
  15. बहुत-बहुत ही अच्छी भावपूर्ण रचनाये है......

    ReplyDelete
  16. ओहो, बड़ी सुन्दर सुन्दर क्षणिकाएं हैं :)

    ReplyDelete
  17. सारगर्भित क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन क्षणिकाएं।

    ReplyDelete
  19. आपको स्वाति बूँद की प्रतीक्षा है और हम आपकी रचना मुक्ताओं के बीच मुग्ध खड़े हैं कैसी सीप है है जो हर बूँद को मोती बना देती है शायद श्रेष्ठतम की प्रतीक्षा ही आपके सुन्दर रचना संसार के सौंदर्य को दिनोंदिन बढ़ा रहि है ....शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  20. सभी क्षणिकाएँ सुंदर हैं. तीसरी क्षणिका सुंदर सृजन की मिसाल है.

    ReplyDelete
  21. waah bahut sunder kshanikaye .....2 , last one bahut acchi lagi . sabhi sunder hai
    badhai .

    sapne://shashi.blogspot.com

    amrita ji kabhi- kabhi to aayiye hamare blog par ......:):)

    ReplyDelete
  22. कुछ कहने के लिये मौन से भरे शब्द ही है ..अमृता. तुम्हारी नज्मे मेरे शब्दों को भिगो देती है .

    ReplyDelete
  23. हृदय में अंकुरित भावों को जब शब्द मिल जाते हैं तो वे कितने प्रभावी हो जाते हैं !
    आपकी कविताएं इस कथन की पुष्टि कर रही हैं।

    ReplyDelete
  24. बहूत हि सुंदर क्षणिकाएं......

    ReplyDelete
  25. खाली पन्नों पर लिखने को प्रस्तुत न जाने कितने प्रेमगीत, वह जो मन को छू जाये...

    ReplyDelete
  26. वाह ...गगार में सागर .../
    सबसे ऊपर वाली क्षणिका बहुत ही अच्छी लगी /
    आज कल आप मेरे ब्लॉग पर नहीं आ रही हैं

    ReplyDelete
  27. bahut khubsurat kshnikaanye....prathm wali jyada hi bha gai..

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन क्षणिकाएं...
    सादर.

    ReplyDelete
  29. एक ही भाव का विस्तार हैं एक की ही लग्न है सुन्दर विचार क्षणिकाएं भाव कणिकाएं .इस पंक्ति में 'कवल' को 'केवल' कर लें (बाशर्ते कवल कोई और अर्थ न लिए हो )
    मर्म की बात ,ओठों से कहूँ,
    ..................................
    शेष भाषा में 'कवल' तुम्हें ही गहूँ.

    ReplyDelete
  30. Hi, I am the owner of a Photography blog photographymc.blogspot.com

    I'd like to exchange links with you. I added your blog to my Favorites!

    Pay me a visit and let me know with a comment on the blog what you think about it.

    P.s.

    There's something you may be interested in, on my blog started a free online photography course, that includes over 200 lessons at this link: Free online Digital Photography Course

    ReplyDelete
  31. सुंदर क्षणिकाएं जिनमें "पल" की अनुभूति को शब्द मिल रहे हैं।

    ReplyDelete
  32. सुन्दर भाषिक प्रयोग की मिसाल हैं यह भाव कणिकाएं .शुक्रिया आपकी द्रुत टिपण्णी के लिए .

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर हैं क्षणिकाएं. सरल भाषा में लिखी हुई गहन भाव समेटे.

    ReplyDelete
  34. मन के खास कोनों को छूता सुंदर भावनात्मक गीत.

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर भावविह्वल करती क्षणिकाएं!

    ReplyDelete
  36. अति उत्तम,सराहनीय भाव भरी क्षणिकाए सुंदर प्रस्तुति .....

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    ReplyDelete
  37. प्रेम की सर्वोच अवस्था में उमड़ती पीड़ा को अभिब्यक्ति देने जैसा कठिन प्रयोग जो इस कविता के माध्यम से आपने किया है उसे सराहने के लिए शब्द मिलना अत्यंत ही कठिन लग रहा है,हिंदी की कविताओं में आप जैसा कवियत्री का एक अलग सा ही स्थान है और होगा.इस पीड़ा ने तो हमें भी झकझोर कर रख डाला है.उस चैतन्य से मिलन की तड़प शब्दों से हो नहीं सकती है.यह तो भाव के बदल है जो बरसते ही रुलाने के लिए...............

    ReplyDelete
  38. सभी लाजवाब ... भावों को शब्द दिया हैं ...

    खुद की आँखों की चमक उनसे ही है ... गज़ब के भाव .. क्या बात है ..

    ReplyDelete
  39. मर्म की बात ओंठों से कहूँ ,बहुत खूब अच्छी क्षणिकाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  40. सुंदर क्षणिकाए ....

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब...भावों में सरावोर बहुत सुंदर क्षणिकाएं ...

    ReplyDelete
  42. बहुत सुंदर क्षणिका है तीसरी वाली अच्छी लगी

    ReplyDelete
  43. मर्म की बात

    होठों से कहूं

    या न कहूं.......

    अंतर्मन को डूबोती शब्दों की यात्रा.... सिर्फ मौन और मौन

    ReplyDelete
  44. अद्भुत अभिव्यक्ति है यह :) बधाई !
    मेरा भी एक ब्लॉग है :) http://ntyag.blogspot.in/

    ReplyDelete
  45. अमृत रस अब बरस , पुलकित हो रहा सरवर है . गहन क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  46. बेहद खूबसूरत क्षणिकाएं मन को भिगो गयी !

    ReplyDelete
  47. सुंदर क्षणिकाएं अमृता जी

    ReplyDelete
  48. बहुत खूब.
    एक से बढ़कर एक क्षणिका.
    पढकर मन मग्न हो गया है.

    ReplyDelete