Social:

Saturday, August 21, 2021

गृह लक्ष्मियाँ ..........

सँझाबाती के लिए
गोधुलि बेला में
जब गृह लक्ष्मियाँ
दीप बारतीं हैं
कर्पूर जलातीं हैं
अगरू महकातीं हैं
अपने इष्ट को
मनवांछित
भोग लगातीं हैं
और आचमन करवातीं हैं
तब टुन-टुन घंटियाँ बजा कर
इष्ट के साथ सबके लिए
सुख-समृद्धि को बुलातीं हैं

ये गृह लक्ष्मियाँ
प्रेम की प्रतिमूर्तियाँ
छुन-छुन घुंघरियाँ बजाते हुए
खन-खन चूड़ियाँ खनका कर
सिर पर आँचल ऐसे सँभालतीं हैं
जैसे केवल वही सृष्टि की निर्वाहिका हों
और अहोभाव से झुक-झुक कर
प्रेम प्रज्वलित करके
घर के कोने-कोने को छूतीं हुई
अपने अलौकिक उजाले से 
आँगन से देहरी तक को
आलोकित कर देतीं हैं
जिसे देखकर सँझा भी
अपने इस पवित्रतम
व सुन्दर स्वागत पर
वारी-वारी जाती है

तब गृह लक्ष्मियाँ
हमारी सुधर्मियाँ
तुलसी चौरा का 
भावातीत भाव से
परिक्रमा करते हुए
दसों दिशाओं में ऐसे घुम जातीं हैं
जैसे जगत उनके ही घेरे में हो
और सबके कल्याण के लिए
मन-ही-मन मंतर बुदबुदा कर
ओंठों को अनायास ही 
मध्यम-मध्यम फड़का कर
कण-कण को अभिमंत्रित करते हुए 
बारंबार शीश नवातीं हैं
फिर दोनों करों को जोड़ कर
सबके जाने-अनजाने भूलों के लिए
सहजता से कान पकड़-पकड़ कर
सामूहिक क्षमा प्रार्थना करते हुए
संपूर्ण अस्तित्व से समर्पित हो जातीं हैं
 
हमारी गृह लक्ष्मियाँ
दया की दिव्यधर्मियाँ
करूणा की ऊर्मियाँ
सदैव सुकर्मियाँ
सिद्धलक्ष्मियाँ
नित सँझा को
पहले आँचल भर-भरकर
फिर उसे श्रद्धा से उलीच-उलीच कर
मानो धरा को ही चिर आयु का
आशीष देती रहतीं हैं .

20 comments:

  1. सचमुच अद्भुत होती हैं स्त्रियाँ...,
    भोर की पहली किरण से शाम ढले अगस्त का तारा डूबने के बाद तक स्त्रियाँ अपने स्पर्श से जिलाये रखती है सृष्टि में प्रेम,करूणा और आँचल के छोर से सँभाल कर रखती ईश्वर का अस्तित्व।
    ----
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति प्रिय अमृता जी।

    ReplyDelete
  2. गृहिणियों का मंत्रमुग्ध करता शब्दचित्र । आपकी रचना को पढ़
    कर माँ साकार हो गई नजरों के समक्ष ।

    ReplyDelete
  3. कितना सुंदर और मनोरम शब्द चित्र खींचा है । तुलसी चौरे के चारों ओर घूमते हुए मानो दसों दिशाओं की परिक्रमा कर लेती हैं । सच्ची अद्भुत रस से सराबोर कर दिया ।

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 22 अगस्त 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (23-08-2021 ) को 'कल सावन गया आज से भादों मास का आरंभ' (चर्चा अंक 4165) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। रात्रि 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
  6. वाह ! अद्भुत भाव और मनोहारी चित्रण, गृहलक्ष्मियों के प्रति मन प्रेम और श्रद्धा से झुक ही जायेगा जो भी इसे पढ़ेगा, सारे अस्तित्त्व को अपने आँचल में समेटने की यह भारतीय परंपरा ही युगों-युगों से विश्व में परमात्मा की अजस्र शक्ति को प्रवाहित कर रही है, आपकी लेखनी को नमन !

    ReplyDelete
  7. गृहलक्ष्मियां सच में महान होती हैं। सुंदर रचना। आजकल ऐसी रचनाएं बहुत कम पढने को मिलती हैं।
    https://hindisuccess.com

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर रचना, आँखों के सामने सांध्य प्रदीप, तुलसी तले जैसे मद्धम रौशनी बिखेरता हुआ सा अंतर्मन को आलोकित कर जाए।

    ReplyDelete
  9. समर्पण के अद्भुत भाव | बहुत सुंदर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  10. आपकी लिखी कोई पुरानी रचना सोमवार 23 ,अगस्त 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
  11. सारे विशेषण सटीक बैठते हैं। सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी कविता हार्दिक आभार आपका

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुंदर कविता।आपको बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete

  14. सच ऐसी ही तो होती हैं गृह लक्ष्मियाँ।
    भावों से सराबोर लाज़वाब सृजन।
    वाह!

    ReplyDelete
  15. ये गृहलक्ष्मियाँ संसार होती हैं ... आशा का संचार होती हैं ... सबका प्यार, दुपार होती हैं ... जिंदगी इन्ही से होती हैं, ये ज़िन्फागी होती हैं ... लाजवाब रचना है ...

    ReplyDelete
  16. मन मोह लिया!
    अद्भुत बस अद्भुत!!
    इतना सजीव चित्रण जैसे एक एक प्रक्रिया करते हुए मन के पवित्रतम भावों को समसी में ढाला हो आपने।
    बहुत सुंदर सुंदरतम सृजन।
    सच ऐसा ही लगता है कि मन्नत के धागों में संसार को सहेज रखा है इन सुकुमार गृहणियों ने।
    अभिनव सृजन।

    ReplyDelete
  17. मन आह्लादित कर गई आपकी सुंदर रचना,हर स्त्री को कुछ न कुछ सौगात दे गई । नायाब कृति ऊर्जा भरती हुई ।

    ReplyDelete