Social:

Sunday, April 4, 2021

ये चिट्ठा कवि क्या कह रहा है ...

                          हर व्यक्तित्व का अपना स्वभाव, अपना संस्कार, अपना व्यवहार होता है और बहुआयामी व्यक्तित्व वो होता है जो किसी भी बौद्धिक आयामी सांचे में न बंधकर, जीवन जनित समस्त अनुभवों को स्वतंत्र रूप से आत्मसात करता है। जब कभी उसके भीतर छिपा हुआ कवि उसे आवाज देता है तो वह अपनी ही सारी सीमाओं को तोड़कर शब्दों में गढ़ देता है । वो खुद ही प्रथम पाठक के रूप में उस कविता की खोज में सतत् लगा रहता है जो उसके नितांत व्यक्तिगत प्रतिक्रिया के परिणाम स्वरूप जन्म लेती है । संभवत उस कविता में कहने वाला मौन हो जाता है और जीवन का गहरा अर्थ अपने आप प्रकट हो जाता है । जो किसी भी संकुचित दायरा को विस्तार देने के लिए कटिबद्ध होता है ।

                     लेकिन शब्द और शब्द की अन्तरात्मा का ज्ञान भी शब्दों की सीमा का अतिक्रमण नहीं कर पाते है जब अर्थ अनंत हो तो । उन अनंत अर्थों की भावनाओं में कुछ भावनाएं ऐसी भी होती है जो किसी के लिए अनायास होती है और प्रकट होकर भार मुक्त होना चाहती है । मानो वह कहना चाह रही हो कि मुझ हनुमान के तुम ही जामवंत हो और तुम न मिलते तो अपनी ही पहचान नहीं हो पाती । फिर कविता रूपी सिंधु पार करना तो असंभव ही था। यदि यह प्रकटीकरण किसी अंतर्मुखी चेतना के द्वारा हो तो शब्द और भी स्वच्छंद हो जाते हैं अपनी महत्ता स्थापित करने के लिए । फिर उन्हें संप्रेषण के लिए मनाना किसी पहाड़ पर चढ़ने के जैसा हो जाता है । पर पहाड़ चढ़े बिना भी तो कैलाश नहीं मिलता है और कैलाश के बिना आप्त शिव नहीं मिलता । 

                         वह अंतर्मुखी व्यक्तित्व अपने लेखन के यायावरी यात्रा को पलट कर देखता है तो पाता है कि जैसे वह अपने ही खदान से निकला हुआ कोई बेडौल , बेढंगा, अनगढ़-सा रंगीन पत्थर हो । जिस पर कुछ जौहरियों की नजर पड़ती है, जो बड़े प्यार से उसे छेनी और हथौड़ी थमा देते हैं और प्रेरित करते हैं कि खुद ही अपने को काटो, छांटो और तराशो । साथ में ये भी बताते हैं कि तुम हीरा हो ।  वो रंगीन पत्थर प्रेमपूर्ण प्रेरणा और संबल पाकर खुद को धार देते हुए संवारने लगता है । कालांतर में वह अपने ही निखार से चकित और विस्मित भी होता रहता है । तब उसे पता चलता है कि वह भी एक कोहिनूर हीरा है । अक्सर कुछ जौहरी जरूरत के हिसाब से खुद छेनी और हथोड़ी भी चला दिया करते हैं ताकि उस हीरा में और भी निखार आ सके ।  तब वह हीरा उन जौहरियों के आगे बस नतमस्तक होता रहता है ।

                        उस यात्रा में काव्य तत्व की तलाश में भटकने का अपना एक अलग ही रोमांच है । कल्पना के कल्पतरू पर नया प्रयोग, नयी शैली, नया जीवन संदर्भ जैसे मौलिक फूलों को उगाना भी अपने आप में रोचक है । किसी की बातें उसके मुंह से छीन लेने की इच्छा, किसी के सत्य से खुद को जोड़ लेने की लालसा, किसी की संवेदना में खुद को तपा देने की आकांक्षा परकाया गमन को अनुभव करने जैसा ही है । फिर ये कहना कि चेतना के तल पर हम एक ही तो हैं पूर्णता को पाने के जैसा ही है । उसे जब एक-एक शब्द पर सराहते हुए पढ़ा जाता है तो वह और भी विनयशील होकर अपने को नये ढंग से संस्कारित करता है । पर वह अपने मनोवेगों को अधिक मुखर नहीं होने देता है और संतुलन के साथ वाक्-संयम के तप में लीन रहता है । जिससे कुछ गलतफहमियां भी होती रहती है, कुछ नाराजगी भी होती होती रहती है और वह हाथ जोड़कर क्षमा मांगने के अतिरिक्त कुछ नहीं कर पाता है । 

                        अंत में सारे दृश्य और अदृश्य सम्माननीय पाठकों को हार्दिक आभार प्रकट करते हुए ये चिट्ठा कवि कहना चाहता है कि आंतरिक इच्छा होती है कि अपने ही उन अव्यक्त भावों को शब्दों में बांध कर अंकुरित करता रहे जो स्नेह-बूंदों से पल्लवित-पुष्पित होकर सर्वग्राही होता रहे । साथ ही उत्साहित होकर अपनी ही बनाई हुई सीमाओं को लांघने के लिए उत्सुक भी है । जिसे देखना उसके लिए भी काफी दिलचस्प होगा ।

ये चिट्ठा कवि कह रहा है ...

19 comments:

  1. प्रिय अमृता जी, काव्य यात्रा की ये मोहक विवेचना अपने आप में किसी मधुर, सरस काव्य से तनिक भी कम नहीं। सच है कवि मौन हो जाता है पर भाव खुद शब्द- शब्द निर्झर से अविरल बह निकलते हैं। और सृजन यात्रा में कोई ना कोई प्रेरक तत्व कल्पतरु की भाँति प्रकट हो अपने खोये अस्तित्व से मिलवा जाता है या कहूँ मिटते वज़ूद को बुलंदी का रास्ता दिखा देता है। कविमन की आभार की ये अनोखी अदा याद रहेगी। कोटि आभार इस सुंदर काव्यात्मक गद्य के लिए। ये भावयात्रा यूँ ही निरंतर जारी रहे 🌹🌹🙏❤❤

    ReplyDelete
  2. रचनाओं के मन में जन्मने से लेकर शब्दों में गढ़ने तक की सृजनात्मकता की यात्रा अपने आप में अनूठी होती है।
    रचनाएँ मात्र शब्द संरचना नहीं होती एक कवि मन का भावनात्मक अभिव्यक्ति होती है।
    मन से मन पुल बाँधता सुंदर लेख।
    सादर।

    ReplyDelete
  3. अदभुद है आपका रचना संसार। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. आपके इस आलेख को पढ़कर बहुत कुछ सीखा जा सकता है । प्रथम पंक्ति ही पर्याप्त है इस प्रयोजन के लिए - 'हर व्यक्तित्व का अपना स्वभाव, अपना संस्कार, अपना व्यवहार होता है और बहुआयामी व्यक्तित्व वो होता है जो किसी भी बौद्धिक आयामी सांचे में न बंधकर, जीवन जनित समस्त अनुभवों को स्वतंत्र रूप से आत्मसात करता है'। हृदयतल से आभार तथा असीमित अभिनंदन आपका ।

    ReplyDelete
  5. मन को शीतल करती सराहनीय अभिव्यक्ति विचारों की गहनता मन मोह गई।
    सादर नमस्कार।

    ReplyDelete
  6. वाह ! कवि के अंतर में झाँक कर देखना तो कोई आपसे सीखे, कविता कैसे आकार पाती है और कैसे उसका पहला पाठक कवि स्वयं होता है, इन सारे तथ्यों को कितनी ख़ूबसूरती से आपने व्यक्त कर दिया है, आपकी उन्मुक्त रचनाधर्मिता को अनेकानेक नमन !

    ReplyDelete
  7. मन से मन तक की यात्रा का जीवंत चित्रण अमृता जी !
    आपकी अद्भुत सृजनात्मक शैली और लेखनी हर बार एक अलग सा भावसिक्त संसार सृजित कर मंत्रमुग्ध कर देती है।

    ReplyDelete
  8. एक अंतर्मुखी व्यक्तित्व अपने लेखन के यायावरी यात्रा को पलट कर देखता है तो पाता है कि जैसे वह अपने ही खदान से निकला हुआ कोई बेडौल , बेढंगा, अनगढ़-सा रंगीन पत्थर हो । जिस पर कुछ जौहरियों की नजर पड़ती है, जो बड़े प्यार से उसे छेनी और हथौड़ी थमा देते हैं और प्रेरित करते हैं कि खुद ही अपने को काटो, छांटो और तराशो । साथ में ये भी बताते हैं कि तुम हीरा हो ।

    एक सत्य को बड़े ही सुनाई तरीके से स्पष्ट किया है आपने। ऐसा कर पाना तभी संभव है जब लिखने वाला स्वयं भी एक गंभीर अंतःमुखी चिंतन वाला व्यक्तित्व हो।

    हार्दिक शुभकामनाएँ आपकी आदरणीया अमृता तन्मय जी। आपकी बहुआयामी लेखनी दिन ब दिन मुझे और भी प्रभावित करती जाती है। आभारी हूँ। ।।।

    ReplyDelete
  9. कवि के अंतर्मन को व्यक्त करती बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  10. अमृता जी,कवि मन की व्याख्या करते करते आप हर उस मन को छूने में कामयाब रहीं,जो इन्हीं सुंदर स्थितियों से गुजरता है,आपका गद्य विधा में लेखन बड़ा प्रभावित कर गया अति सुंदर, एहसासों के अनुभूति की सुंदर अभिव्यक्ति के लिए आपको हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई ।

    ReplyDelete
  11. अद्भुत, मैं तो शब्दों की गहराइयों मे डूबती ही चली गई, कब किनारा आ गया पता ही नहीं चला, बहुत ही अच्छा लग रहा था पढ़ना, आपकी पोस्ट बेहद कमाल की है, आपकी लेखनी सराहनीय है, सादर नमन अमृता जी 👏👏🙏🙏

    ReplyDelete
  12. कवि के अंतर्मन की गूढ़ चेतना का सतर्क अन्वेषण!

    ReplyDelete
  13. कविता रचना की प्रक्रिया का पुनर्प्रस्तुतीकरण ,यथाक्रम और सुचारु रहा,
    हाँ, कविता हर मन में भिन्न प्रतिध्वनि जगाती है,यह उसकी सार्वजनिकता है.

    ReplyDelete
  14. आपकी सृजन यात्रा और आपका चिंतन दोनों ही बढ़िया है। आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ और बधाईयाँ।

    ReplyDelete
  15. किसी के सत्य से खुद को जोड़ लेने की लालसा, किसी की संवेदना में खुद को तपा देने की आकांक्षा परकाया गमन को अनुभव करने जैसा ही है । फिर ये कहना कि चेतना के तल पर हम एक ही तो हैं पूर्णता को पाने के जैसा ही है । उसे जब एक-एक शब्द पर सराहते हुए पढ़ा जाता है तो वह और भी विनयशील होकर अपने को नये ढंग से संस्कारित करता है ।---बहुत गहरा आलेख है

    ReplyDelete
  16. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय सम्पूर्ण लेख । मन pr अटूट छाप छोड़ने वाला ।

    ReplyDelete
  17. गद्य में आपने पहले भी लिखा है।
    चिट्ठा कवि पद्य की जगह गद्य लिखे तो उसके गद्य में कविता साथ नहीं छोड़ती। इस चिट्ठे में यहां-वहां उसका उभार सामने आया है। इसमें अंतः के सुख-दुख और ऊहापोह के अनुभव मुखर हो कर संप्रेषित होने लगते हैं। इसमें ऐसे अनुभव भी शामिल हुए हैं जो शायद कविता के सांचे में ढलने वाले थे ही नहीं।
    बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  18. एक कवि को बनाने में न जाने कितनों का प्रयास लगा होता है । छेनी , हथौड़ी सबका प्रयोग करवा दिया । बहरहाल कवि बनाने की प्रक्रिया रोचक रही ।

    ReplyDelete