Pages

Saturday, May 25, 2013

भ्रूणमेध यज्ञ करते हुए ...


जननी जो जानती कि
वह किसी
मलेच्छ की माँ बनने जा रही है
जो जनि (स्त्री) पर ही
अत्याचार की सीमाओं का
भयानक अतिक्रमण करेगा
और अपने ऐसे घोरतम अपराध से
उसे मुँह दिखाने के लायक नहीं छोड़ेगा
तो वह स्वयं ही
अपना नाक-कान काटकर
शूर्पनखा बनना स्वीकार कर लेती .....
यदि वह जानती कि
जिसे गोद में रख
अपने आँचल का ओट देकर
अमृत-जीवन दे रही है
वही आँचल तार-तार करके
जहाँ- तहाँ विष-वमन करेगा
और जघन्यता-से कई गोद उजारेगा
तो वह स्वेच्छा से
पूतना ही बनना स्वीकार कर लेती ....
यदि वह जानती कि
थोड़े-से कागज़ के टुकड़ों के लिए
उसके मातृत्व का टुकड़ा-टुकड़ा कर
उसी के माथे पर
वह कुकृत्यों का इतिहास लिखेगा
तो वह स्वयं ही
अपने गर्भ में
वेदों-उपनिषदों का वेदी बनाती
और भ्रूणमेध यज्ञ करते हुए
एक नया वेद का सृजन कर देती
पर किसी मलेच्छ की माँ बनना
किसी कीमत पर स्वीकार नहीं करती .

35 comments:

  1. वाकई ...
    मां तो कभी नहीं चाहेगी कि उसकी कोख से राक्षस जन्में ..
    सामयिक प्रभावशाली अभिव्यक्ति !
    बधाई अमृता !

    ReplyDelete
  2. कितनी बड़ी विडम्बना है एक माँ के लिए ...बहुत सशक्त एवं गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. बहुत बेहतरीन प्रभावशाली रचना,,,सुंदर अभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST : बेटियाँ,

    ReplyDelete
  4. अच्छी रचना, बहुत सुंदर

    मां मेरे गुनाहों को कुछ इस तरह से धो देती है,
    जब वो बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।

    ReplyDelete
  5. सच......
    बेहतरीन रचना....

    अनु

    ReplyDelete
  6. Saabash
    .mahan aalochak
    Push pa Birendra looked.

    ReplyDelete
  7. Saabash
    .mahan aalochak
    Push pa Birendra looked.

    ReplyDelete
  8. बहुत सशक्त रचना अमृता जी ... |जबरदस्त ...!!

    ReplyDelete
  9. वाकई माँ यदि ये जानती की उसकी कोख से राक्षस पैदा होने वाला है तो वो ऐसा ही करती है ..दिल को छू गयी ..हमेशा की तरह शानदार ..और खासियत यह भी है की ये हर पाठक के पहुँच में है ..और सीधे दिल में उतरती है ..ढेर सारी बधाई के साथ

    ReplyDelete
  10. उत्‍कृष्‍ट.....।

    ReplyDelete
  11. वाह... उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    @मेरी बेटी शाम्भवी का कविता-पाठ

    ReplyDelete
  12. बेहद सशक्त और उत्कृष्ट अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  13. कोई भी माँ अपने बच्चे को बुरा नहीं बनाना चाहती .... बहुत गहन रचना ।

    ReplyDelete
  14. सही शब्दों में सही आक्रोश और पीड़ा की अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. जीवन देने वाली कभी नहीं चाहती है कि उसका अंश आँचल को तार-तार करने वाला निकले...पर आज का सच काफी दारूण है..
    कितनी देर बजेगी रणभेरी
    कहीं मैंने तुम्हें अपनी कोख से
    जन्म के निर्णय को स्थगित कर दिया तो ......?

    ReplyDelete
  16. totally agree!!!sach hi to hai ye kavita!!!

    ReplyDelete
  17. भ्रूण हत्या से घिनौना ,
    पाप क्या कर पाओगे !
    नन्ही बच्ची क़त्ल करके ,
    ऐश क्या ले पाओगे !
    जब हंसोगे, कान में गूंजेंगी,उसकी सिसकियाँ !
    एक गुडिया मार कहते हो कि, हम इंसान हैं !

    ReplyDelete
  18. काश किसी माँ को यह पहले से ज्ञात होता, मार्मिक पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  19. कोई माँ ऐसे बच्चे को जन्म नही देना चाहेगी बेहद उम्दा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  20. पूर्वजों के संस्कार घटिया होते हैं,
    पालन पोषण घटिया होता है
    समाज घटिया होता है
    आसपास का वातावरण घटिया होता है

    मनुष्य तो सिर्फ कुरूप या, रूपवान
    मूर्ख, मंदबुद्धि, बुद्धिमान होता है

    राक्षस, पापी, अनैतिक कोई नहीं होता

    पाप-पुण्य, नैतिक-अनैतिक
    यह सिर्फ उन लोगों का मापदण्ड है ।
    जो उस व्यक्ति का विश्लेषण कर रहे हैं ।

    विशेष- मापदण्ड भी घटिया हो सकता है ।

    ReplyDelete
  21. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  22. माँ का बस चलता तो दुनिया का ढंग ही कुछ और होता!

    ReplyDelete
  23. ख़ुशी तो हर जन्म पर होती है माँ को । बच्चे ही अपने कृत्यों से उसे ऐसा सोचने को विवश कर देते हैं । मार्मिक रचना ।

    ReplyDelete
  24. वह कुकृत्यों का इतिहास लिखेगा
    तो वह स्वयं ही
    अपने गर्भ में
    वेदों-उपनिषदों का वेदी बनाती
    और भ्रूणमेध यज्ञ करते हुए
    एक नया वेद का सृजन कर देती
    पर किसी मलेच्छ की माँ बनना
    किसी कीमत पर स्वीकार नहीं करती

    आपने सच कहा गलानी से भर जाता है मन

    ReplyDelete
  25. जीवनदायिनी के लिए सबसे कठिन काम ये. किन्तु संतति ऐसे हों तो माँ जीते जी ही मर जाए. सुन्दर लेखनी.

    ReplyDelete
  26. कोई नहीं जानता की कोख में कौन पल रहा है.....भगत सिंह या जयचंद....रखवाला या हत्यारा...एक कहानी पढी थी...एक औरत ने कठोर तप किया...तब जाकर भगवान प्रगट हुए ..भगवान ने कहा कि उसकी इच्छा पूरी होगी..पर वो अवगुणों से भरा होगा..पर औऱत के अंदर की मां को वो भी मंजूर था...पर जब भगवान ने कहा कि वो देशद्रोही भी होगा....तो ये सुनकर औरत बिना कुछ वापस चली गई...जाहिर है मां बनना कम से कम भारत की नारियों के लिए आज भी तमाम दर्द के बाद भी भगवान कि नेमत है...पर ये नेमत आगे क्या गुल खिलाएगी ये तो वो मां भी नहीं जानती...क्योंकि कोई भी औऱत जो मां होगी वो कभी भी अपने संतान को गलत करना नहीं सिखाती...हाल कि पढ़ी बेहतरीन कविताओं में एक

    ReplyDelete
  27. जो जननी जानती ...
    बस यही एक अंजाना सत्य रहता है जो उजागर नहीं होता समय के गर्भ से ... गहरे भाव सी उपजी रचना ...

    ReplyDelete
  28. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज २७ मई, २०१३ के ब्लॉग बुलेटिन-आनन् फ़ानन पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  29. Kuputro jaayet tadapi kumaata n bhavati!

    ReplyDelete
  30. मातृत्व का उलाहना, क्षोभ का गर्भ
    और माता होने की विवशता एक साथ प्रकट करती रचना
    ....साधो आ. अमृता जी

    ReplyDelete
  31. सचमुच बहुत ही सशक्त अभिव्यक्ति। कोई भी माँ नहीँ जानती कि वह किसे जन्म दे रही है. मानव को या दानव को

    ReplyDelete