Pages

Wednesday, March 14, 2012

सृजन बेल


चकित हूँ / चिंतित भी
कलम - कागज़ के बीच
कसमसाती सृजनशीलता को देखकर
जी करता है हरवक्त उसे
हौले - हौले सहलाती रहूँ
विवशताओं की कमजोरियों को
अक्षरों से गुदगुदाती रहूँ........
अब तो इस कलम के सहारे
छोटे - बड़े हर पहाड़ को
जड़ से ही काट लेती हूँ
भूगर्भीय भूकंप के झटकों से
फिर बनते पहाड़ों को भी
झटके में भांप लेती हूँ........
माना कि गेंद बनाकर
शब्दों से खेलते रहना
कोई खूबसूरत शगल नहीं है
पर चोटील दर्द के डर से
चुप्पी की खाई में गिरकर
घुटनों पर घिसटते रहना भी
कोई खुशगवार हल नहीं है......
मन तो ललचता ही है कि
आँखों में जरा खुमार भरकर
सर पर कई-कई पाँव धरकर
अकल्पित/ अपरिचित ओर-छोर को
इस छोटी सी कलम की
छोटी सी नोक से नापती रहूँ
और अति यत्न से संचित
उत्साह को बेझिझक /बेवजह
बस बेहिसाब बांटती रहूँ........
मुझे क्या पता था कि
ये उत्सुकता / आकर्षण ही
सृजन बेल सी लतर जायेगी
और काँटों पर भी ललककर
खुद ही अपना आशय बताएगी .


44 comments:

  1. भावों की अभिव्यक्ति करने से बड़े बड़े बोझ उतर जाते हैं ह्रदय के...

    कलम कभी रुके ना....
    नोंक कभी घिसे ना....
    सादर.

    ReplyDelete
  2. haa kuch yesa hi hota hai .... sabdsh satya .. bahut hi sundar ...

    ReplyDelete
  3. ये उत्सुकता/आकर्षण ही
    सृजन बेल सी लतर जायेगी

    उत्सुकता और आकर्षण ही तो हैं सृजन बेल की जड़े

    ReplyDelete
  4. सृजन बेल ऐसे ही फैलती रहे और उसकी लतिकाएँ हमेशा हरी भरी रहे . सुँदर रचना .

    ReplyDelete
  5. अमृता जी
    नमस्कार !
    .......अद्भुत भावाभिव्यक्ति. हरेक भावों को बहुत सुंदर और सटीक शब्द दिए हैं..बधाई!
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    ReplyDelete
  6. अभिनव भाव अभिव्यंजन सुन्दर मनोहर रचना .

    ReplyDelete
  7. अमृता जी, आपका उत्साह बना रहे और औरों के जीवन को भी इसी तरह छूता रहे आपकी सृजन लता न केवल आपकी भव बाधा हरे अन्यों के जीवन पथ को भी सरस करे...

    ReplyDelete
  8. सृजन-शीलता दे जला, तन-मन के खलु व्याधि ।

    बुरे बुराई दूर हों, आधि होय झट आधि ।।


    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर और सटीक शब्दों की प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    ReplyDelete
  10. aap yun hi likhti rahe .. yahi dua hai .

    ReplyDelete
  11. अब तो इस कलम के सहारे
    छोटे - बड़े हर पहाड़ को
    जड़ से ही काट लेती हूँ
    लेखनी के प्रति आपकी यह आस्था हमेशा बनी रहे । रचना आपके अपराजेय मन का पता देती है। अच्छी अभिव्यक्ति के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  12. कल 15/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. एक कलम की छोटी नोंक में पूरा विश्व छिपा है।

    ReplyDelete
  14. आपकी पोस्ट कल 15/3/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-819:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  15. Bachpan mein padha tha...do mein se tumhe kya chahiye kalam ya ki talwar....sach puchho to us waqt kalam ki takat ko naapne ki kshamta na to hammein thi aur na hi samrthya hi...par aaj uski takat ka hamein pata hai...aur agar kalam aapke hathon ki shobha badha raha ho Amrita, to fir uski takat dwigunit ho jaati hai...pahar choota ho ya bara...kat hi jayega...sankat ka samadhan hona hi hai...

    bahut khoob...
    aapne Asooryampashya ki sarahna ki...shayad Artnaad miss kar gayi dekhna aap...aur aaj Man ki aankhein nam ki painting v upload kee hai maine...to dekhna na bhooliyega..

    punah...aapke kalam ko sadhuvaad aur aapko bhi...

    ReplyDelete
  16. your expression of emotions and feelings keep me waiting your new post so please keep it.
    NO THANKS JUST PRANAM.

    ReplyDelete
  17. सृजन के अपने कष्ट हैं...अपने और दूसरों के झंझावातों को झेलना...कठिन प्रक्रिया है...पर सृजन की संतुष्टि भी मिलती है...

    ReplyDelete
  18. जीवन के मसलों को उसके निर्माण की नींव खोंद कर क्रूरता को बाहर निकाल लाने वाली सृजानात्‍मक ऊर्जा इस कविता में दीखता है। इसी उर्जा ने तो लिखवाया है ...
    आंखों में ...
    ... नापती हूं ..

    ReplyDelete
  19. सृजन बेल यूं ही लहलहाती रहे ... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  20. यह उत्सुकता यह आकर्षण ही तो सृजन बेल का आसरा हैं ..जिनके सहारे वह फलती फूलती है .....अमृता जी आपकी सृजन बेल हमेशा लहलहाती हुई हमें यूहीं मंत्रमुग्ध करती रहे

    ReplyDelete
  21. सृजन बेल यूं ही बढती रहे ...इसे फलती ...फूलती देख कर बड़ा हर्षित होता है मन ....
    शुभकामनायें अमृता जी ....

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर.....आपकी कलम हमेशा चलती रहे यही दुआ है हमारी ।

    ReplyDelete
  23. कलम कागज़ के बी ह का अंतर दूर करना चाहिए और सर्जन करना चाहिए नए नए शब्दों का ... उनके अर्थों का ...

    ReplyDelete
  24. बेल की हरियाली ने जो काटों को अवगुंठित कर लिया है तो ऐसे ही बने रहने दो.....
    जा तन की झाईं परे श्याम हरित दुति होय !

    ReplyDelete
  25. बहुत ख़ूबसूरत रचना...यह सृजन बेल यूँ ही सदा लहलहाती रहे...

    ReplyDelete
  26. खूबसूरत भावो से सजी सुंदर कविता.

    सादर.

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति... एकदम मन से सीधी उतरी हुई सी...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति... एकदम मन से सीधी उतरी हुई सी..

    ReplyDelete
  29. छोटी सी कलम की छोटी सी नोक से उकेरे शब्द भीतरी हाहाकार या प्रसन्नता को व्यक्त तो करते हैं , कुछ ना करे तब भी !
    बढ़िया !

    ReplyDelete
  30. माना कि गेंद बनाकरशब्दों से खेलते रहना खूबसूरत शगल नहीं है
    पर चोटिल दर्द के डर से चुप्पी की खाई में गिर कर घुटनों के बल घिसटते रहना भी कोई खुशगवार हल नहीं है........वाह !!!!!!! जीवन के यथार्थ का इससे खूबसूरत शब्द चित्र और भला क्या हो सकता है.मेरी पंक्तियाँ याद आ गईं-
    जीवन है एक कठिन प्रश्न तो
    बड़ा सरल ही उसका हल
    जितना गहरा दु:ख का कुँआ
    उतना ही मीठा सुख का जल.

    ReplyDelete
  31. ये उत्सुकता/आकर्षण ही
    सृजन बेल सी लतर जायेगी
    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  32. srujan bet falti foolti rahe..bahut pyara likhti hain aap...

    ReplyDelete
  33. अनकहे को शब्द देकर चाहतों के गुम्बद बनते हैं , अपनी बात कह जाने का सुकून सृष्टि निर्माण से कम नहीं

    ReplyDelete
  34. आपके पास जो शब्द एवं भाव हैं वे आपकी कविता को सुदर बना देते हैं । एक अच्छी कविता सदा मन में स्थान बना लेती है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  35. हो रहा सृजन बढ़ती बेल है और बढ़ती बेल सृजन का स्वरूप है. रचना बहुत ही खूबसूरत है.

    ReplyDelete
  36. sunder prastuti ...kalam kare srajan , kabhi na thake uske kadam .........badhai .:)

    ReplyDelete
  37. भावपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  38. एक छोटी सी कलम की नोक, तलवार से ज्याजा प्रभाव कारी होती है।
    यही करवती हैं क्राँतियाँ, सत्ता परिवर्तन होता है, इन्हीं नन्हीं कलमों की नोंको से....सुन्दर एवं सशक्त अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  39. सुन्दर प्रस्तुति.....बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  40. चोटिल दर्द के डर से ......

    प्रभावशाली रचना

    ReplyDelete
  41. अच्छा लगा.. बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete