Pages

Tuesday, November 22, 2011

द्वार तुम्हारा खुला नहीं...


इक  झलक  तेरी  जो  मिली
चली  आई  तेरे  द्वार   तक
बड़ी  देर से साँकल बजा रही
प्राणों से  भी  खूब  थपकाया
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं

जोर - जोर से  तुम्हें  पुकारा
रुंधा गला तो विवश  निहारा
तुमने कैसे  मुझे  सुना  नहीं
या अनसुना कर अस्वीकारा
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं

व्यथा - पुष्पों  से  सजा कर
वेदना का  वंदनवार बनाया
साँसों  की   वेद - ध्वनि   से  
आर्तनाद  कर  तुम्हें बुलाया
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं

आँसुओं का  अर्घ  चढ़ा  कर
नैनों का अखंड दीप जलाया
भावों का  ह्रदय - थाल लिए
विरव समर्पण कर मनुहारा
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं

मैं  अलबेली   हार   न  मानूं
द्वार पड़ी  बस  तुझे  पुकारूं
इक  झलक  पाने   के   लिए
अब तो अपना मान भी वारा
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं

मैं  विरहिणी  आस  न  छोडूं
कर तो  रही  हूँ  सारा  जतन
रूठे  हो   क्यूँ   मेरे   प्रियतम
क्यूँ  तुमने  है  मुझे  नाकारा
पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं .

45 comments:

  1. मैं यहीं रहूंगी...तब तक
    जब तक तुम खोल न दो द्वार

    ReplyDelete
  2. बस यही आस बनी रहे उसका द्वार तो सदा खुला है....... ज़रूर हमारी ही दृष्टि में दोष होता है जो हमे द्वार बंद नज़र आता है......वो तो चारो तरफ से हमे घेरे हुए है......बस हमारी आँख खुलने की ही देर है..........अमृता जी इस मुकम्मल पोस्ट के लिए आपको लगातार तीसरी बार हैट्स ऑफ |

    ReplyDelete
  3. विरह की गहरी संवेदना .... अद्भुत अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर कोमल एहसासपूर्ण रचना ..!
    मेरी नई पोस्ट पे आपका स्वागत है ..!

    ReplyDelete
  5. अमृता जी,बड़े निर्मोही हैं आपके प्रियतम
    करती रहिएगा दिल से जतन.
    खुद ही आ जायेंगें प्रियतम एक दिन.
    आप अलबेली के प्रेम में वे भी तन्मय हैं जी.

    ReplyDelete
  6. कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना ....

    संजय भास्कर
    आदत...मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. Sundar bhavavyakti...
    Dwar khulne tak khade rehne wali baat chu gayi...sundar

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  8. पुष्प , अर्घ सब ही चढा दिए ... अब तो ज़िद है की द्वार तो खुलने ही चाहिए ...

    सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर भावनाओं से पिरोयी इस प्रार्थना को सुनकर तो द्वार बंद रह ही नहीं सकता... बधाई!

    ReplyDelete
  10. आदरणीय अमृता जी,
    आपकी रचनाएं अलग ही लोक में ले जाती हैं...
    अनमोल प्रस्तुति...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. आस लगाये रखियेगा,
    आँख बिछाये रखियेगा,
    प्रियतम वापस आ जायेंगे,
    प्यास बनाये रखियेगा।

    ReplyDelete
  12. हठ से जीता सब कुछ .. एक प्रियतम के प्रेम के सिवा..

    ReplyDelete
  13. बहुत भाव से लिखी गयी भावपूर्ण रचना ।

    प्रस्तुत कहानी पर अपनी महत्त्वपूर्ण प्रतिक्रिया से अवगत कराएँ ।

    भावना

    ReplyDelete
  14. वाह, बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  15. भावपूर्ण रचना.....सुन्दर प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  16. आज तो आपने जैसे मेरे ह्रदय की बात कह दी…………प्रेम पुष्प अर्पित करती हूँ बस इसके सिवा कहो और क्या अर्पण करूँ सांवरे।

    ReplyDelete
  17. विकलता से भरी गहरी आध्यात्मिक अनुभूति भी जगाती है यह भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. इतनी देर आमतौर पर लगाते नहीं वो ....
    कुछ बात होगी ... कुछ वो भी इंतज़ार का सुख लेना चाह रहे होंगे !

    ReplyDelete
  19. सोचा कि कोई दो पंक्तियाँ select कर के कुछ लिखूं
    लेकिन आपने असमर्थ कर दिया हर जगह..किसी एक को चुनुं तो दूसरी के साथ नाइंसाफी होगी...
    सारी ही अपने आप में पूर्ण और सुन्दर हैं

    ReplyDelete
  20. बहुत ही खूबसूरत और कोमल एहसास हैं ..

    ReplyDelete
  21. अमर प्रेम के नाम सुन्दर समर्पण-गीत...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण ..ढंग से लिखा है

    ReplyDelete
  23. आस हठपूर्वक डटा रहे!

    ReplyDelete
  24. प्रेम का समर्पण और प्रेम का हठ द्वार को तोड़ लेगा. सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  25. जब उपरवाला एक दरवाज़ा बंद कर देता है तो दूसरा खोल देता है...गलत दरवाजे पर ज्यादा देर प्रयास नहीं करना चाहिए...नया दरवाज़ा तलाश लेना चाहिए...आपकी रचना ने प्रेरित किया ये सब लिखने को...

    ReplyDelete
  26. बहुत भाव पूर्ण |
    आशा

    ReplyDelete
  27. विरहिणी की वेदना का सुन्दर वर्णन

    ReplyDelete
  28. गहरे भाव....
    उम्‍मीद का दामन कभी न छोडें.....

    ReplyDelete
  29. प्रेम रस में डूबी हुई , बहुत ही प्यारी कविता .
    दिल से बधायी .

    ReplyDelete
  30. "मैं अलबेली हार न मानूँ .....पर द्वार तुम्हारा खुला नहीं!"

    बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ हैं।

    सादर

    ReplyDelete
  31. विरह भारी रचना ...सशक्त लेखनी

    ReplyDelete
  32. वेदना की भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन

    ReplyDelete
  33. प्रेम की राह में ...उन कछु और ही ठानी ...मधुकर प्रीत किये पछितानी ...याद आ रहा है ....
    बहुत ही सुंदर रचना ...अमृता जी ....!!

    ReplyDelete
  34. सुन्दर भावपूर्ण रचना !! आस न छोड़ने की बात कहके आपने कितनों की हिम्मत बढ़ा दी है.

    ReplyDelete
  35. अम्रता जी नमस्कार,भाव पूर्ण रचना्।

    ReplyDelete
  36. बहुत ही सुंदर पोस्ट बधाई...
    नई पोस्ट में स्वागत है

    ReplyDelete
  37. Amrita,

    4 KAVITAYEIN PARHI. SARDI KAA PARH KAR AANKHON KE SAAMNE CHALCHITRA AA JAATAA HAI SARDI KAA. YEH KAVITA SE LAGTAA HAI KI MEERA KRISHAN SE ULHAANAA KAR RAHI HAI KI DWAR KYOON NAHI KHOLAA.

    Take care

    ReplyDelete
  38. इस्ट के लिए कोई द्वार नहीं सिर्फ जूनून j

    और दीवानगी तबतक जबतक वह हो नहीं जाना है.राधा या कृष्ण एक दुसरे में समाहित नहीं हो जाते .द्वार तो अपने ही विचारों से निर्मित स्व का बंधन है.गहन संकल्प से ही समर्पण और पर्यवसान संभव .
    फिर भी यह कविता उस परम चैतन्य की और इंगित करती हुई और उस परम प्यार को पाने की इच्छा को रह देती हुई मानव मात्र को सन्देश दे रही है .मानव आजीवन प्यार के उसी आनंद को पाने के लिए जीवन भर इसी सिमित में उस असीमित को खोजते रह जाते हैं .आपके हम आभारी है की आपने उस और इंगित तो कार रही हैं.

    ReplyDelete
  39. पर कितने देर कोई बैठा रहे किसी के इंतज़ार में, न खुले द्वार...आगे तो बढ़ना ही है..:)

    ReplyDelete
  40. I likewise think so , perfectly written post!
    From everything is canvas

    ReplyDelete
  41. Amrita, kshamaprarthi hun...mahino ke baad neend khuli...Kumbhkaran ki neend thi na jaane kab tak besudh para raha....kuch mahine ast tha...kuch mahine vyast tha...aur shayad khud se trast bhi...

    beech me kayi baar man kiya ki khud ko fir se khojun....par nakab ke peeche ka charitra jyada balwan ho gaya tha....apne aap ko punarjeewit karne ki koshish me fir aa khara hua hun yahan...

    Itni samvedan sheel pranay yachna maine virle hi dekhi hai...bhala aisi rachna ko padh kar apna mantavya kaise na deta....

    Bedna jab vandwar sajati...to fir kaun sa priyatam hai jo rootha rah sakta...saanso ki ved dhwani mukharit ho chuki....use ansuni nahi kar sakta...kitna bhi nirmohi kyun na ho ...

    Bahut achha laga...koshish karunga ki saari padh lun aapki rachna...idhar likh bhi na paaya...khud ko paane ki koshish kar raha hun...aapki har rachna padh pahle mantavya doonga...

    ReplyDelete