Pages

Wednesday, October 5, 2011

मेरे शब्द

मेरे शब्द
जिससे मैं कहती हूँ
दुनिया भर की
बेसिर-पैर की हर
छोटी-बड़ी बातें......
कभी खड़ी करती हूँ
बहुमंजली इमारतें
ताशों के मानिंद
तो कभी गढ़ती हूँ
रेशमी धुआँ से
लच्छेदार छल्लेदार इबारत...
अक्सर उसी में छुपकर
कर लेती हूँ चुपके से
उसी की इबादत..........
मेरे शब्द
जिसे मैं महसूसती हूँ
अत्यंत आंतरिक स्तर पर
जो अपने आवरण में
कभी शराफ़त से
तो कभी शरारत से
लपेटे रहता है मुझे.......
कभी वह किसी सच के
बेहद करीब जाकर
अड़ जाता है
तो कभी खुद पर बिठा
न जाने कौन-कौन सी
जहान की सैर
करा देता है मुझे.........
मेरे शब्द
शायद शब्द भी
कम पड़ रहे हैं
या मैं ही हूँ कोई
निःशब्द शब्द .

52 comments:

  1. शब्द ही तो सफलता की पूंजी होते हैं।

    ReplyDelete
  2. लच्छेदार छल्लेदार इबारत...
    अक्सर उसी में छुपकर
    कर लेती हूँ चुपके से
    उसी की इबादत..........


    Very smooth creation.. Regards..

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत |
    सादर नमन ||

    http://neemnimbouri.blogspot.com/2011/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  4. शब्द शक्ति हैं, शब्द भक्ति हैं,
    बन्धन गहरे, शब्द मुक्ति हैं।

    ReplyDelete
  5. मौन की गूँज अधिक मारक होती है लेकिन अभिव्यक्ति के लिए चाहिए होता है शब्द।

    ReplyDelete
  6. "...शब्द...
    अक्सर उसी में छुपकर
    कर लेती हूँ चुपके से
    उसी की इबादत...."

    शब्दों में छुप कर इबादत तो हो ही जाती है, बस वो समझ भी सकें !!! मौन भी हावी होता जा रहा है आजकल शब्दों पर, पता नहीं उचित है या अनुचित.....
    रचना ने प्रभावित किया, धन्यवाद.

    ReplyDelete
  7. ये शब्द बहुत कुछ कह देते हैं।
    ----
    कल 06/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. अमृता तन्मय जी,
    आपकी रचना की कशिश एवं उसमे समाहित भाव बहुत ही अच्छा लगा । इस कविता के हरेक शब्द मुखर हो उठे हैं । धन्यवाद । .मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  9. क्या बात है, बहुत सुंदर
    वैसे भी आपको पढना अच्छा लगता है।

    ReplyDelete
  10. शब्दों का निःशब्द होना कितना जलाता है ना !
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  11. शायद शब्द भी
    कम पड़ रहे हैं
    या मैं ही हूँ कोई
    निःशब्द शब्द .

    ....बहुत सुन्दर..शब्द ही अपने आप में भावों का दर्पण है..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर शब्द की सही व्याख्या करती ये पोस्ट लाजवाब है|

    मेरे ब्लॉग की नयी पोस्ट आपके ज़िक्र से रोशन है......जब भी फुर्सत मिले ज़रूर देखें|

    ReplyDelete
  13. शब्द से निशब्द तक की आपकी यह कविता यात्रा बहुत सुंदर लगी... शब्द भी कम पड़ते हैं जो वास्तव में हम कहना चाहते हैं उसके लिये...फिर भी शब्द ही हैं जो मानव को मानव बनाते हैं.

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन रचना ...

    ReplyDelete
  15. आप जो मर्जी कहें,
    आप जो मर्जी लिखें,
    हम तो आपके अल्फाज़ की इमारत में आपका चेहरा तलाश करते हैं.

    ReplyDelete
  16. निःशब्द शब्द ... दशहरा की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. मेरे शब्द
    जिसे मैं महसूसती हूँ
    अत्यंत आंतरिक स्तर पर
    जो अपने आवरण में

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सादर...

    ReplyDelete
  18. निःशब्द शब्द ... जीवन ऐसा ही तो है ... मौन शब्द ...

    ReplyDelete
  19. आजकल अक्सर हो जाता है विवाद
    किसी न किसी शब्द के अर्थ को लेकर
    कहते हैं हर शब्द का एक इतिहास है
    उसका एक सन्दर्भ है बिना इसके
    नहीं हो सकती उसकी सटीक व्याख्या
    तो हमें सोचना पड़ता है अतीत में
    कही गयी उन तमाम बातों के बारे में
    न जाने वह बात किस सन्दर्भ में कही गयी होगी ?
    उन्हीं सन्दर्भों की तलाश में
    खंगाल रहा हूँ मैं बातों की गठरी को
    ताकि समझ पाऊं उन तमाम शब्दों के सन्दर्भों को
    और उनके निहितार्थों को
    जिसे समझने में लापरवाह मन
    अक्सर गच्चा खा जाता है..

    ReplyDelete
  20. Nice & Nice Written, also very powerful comments on me..

    Thanks and Regards !

    Happy Durga Puja....

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन रचना ..
    विजय पर्व "विजयादशमी" पर आप सभी को ढेर सारी शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  22. शब्‍द कभी नहीं मरते.. शब्‍द अमर रहते हैं....
    बेहतरीन प्रस्‍तुति.... गजब के भाव।
    आभार.............

    ReplyDelete
  23. निःशब्द..!!!*** शुभकामनाएं***!!!

    ReplyDelete
  24. शब्द नि:शब्द भी कर जाते है.
    बेहतरीन रचना ..

    ReplyDelete
  25. आपकी रचनाओं में जो विविधता है वह नव लेखन में प्राप्य नहीं है.
    फिर एक बेहतरीन रचना,बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  26. अक्सर उसी में छुपकर
    कर लेती हूँ चुपके से
    उसी की इबादत.......... aaur aapne chupke se hi itni badi baat bhi kah di..kabile tarif hai amrita ji..kabhi fursat mein hon to mere blog per bhi aayiyega..badhayee ke sath

    ReplyDelete
  27. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर रचना..बधाई.
    आप सभी को विजयदशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !!

    ___________
    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  29. शब्द की गरिमा को जीवंत करती रचना!
    विजयादशमी की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  30. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    ReplyDelete
  31. देर से रुकी अनकही बात को कहने के लिए जब शब्द उमड़ आते हैं तब हम निःशब्द हो जाते हैं कई बार. वही तो है 'निःशब्द शब्द'. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  32. bahut khub sabad likhe hain mam aapne..
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  33. शब्दों के जादूगर को निः शब्द कहना बिलकुल गलत होगा

    ReplyDelete
  34. उलझते फिर सुलझते विचारों की कमान आपके हाथ में मुखर है सुन्दर /

    ReplyDelete
  35. आखिरी दो पंक्तियाँ कमाल की है..शब्द कम पड़ते है आपकी तारीफ़ को.

    ReplyDelete
  36. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच 659,चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  37. शब्द ही हैं जो हमें प्रगट करते हैं...लिखने बैठो तो ये ही कम पड़ जाते हैं...

    ReplyDelete
  38. बेहतरीन रचना, विजयादशमी की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  39. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  40. शब्दशः निःशब्द किया आपकी इस शब्द -चर्चा ने . विजयदशमी की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  41. या मैं ही हूँ
    कोई निशब्द शब्द ...

    एक दम निशब्द कर दिया
    अओकी इस प्रभावशाली कृति ने !

    ReplyDelete
  42. ऊपर
    टिप्पणी में
    "अओकी" की जगह
    कृपया "आपकी" पढ़ें
    टंकण त्रुटि....

    ReplyDelete
  43. शब्द भाव का दामन है,
    अभिव्यक्ति का आँगन है
    .....

    ReplyDelete
  44. इस कविता में से एक लाईन चुरा कर मैं एक डायलोग मारने की इजाजत मांगता हूँ आपसे -
    'शब्द कम पड़ रहे हैं इस कविता की तारीफ़ में, निशब्द हूँ' :)

    ReplyDelete
  45. bhaut hi khubsurat se shabdo me shabdo ko kaha hai aapne....

    ReplyDelete
  46. पहली बार आपको पढ़ा बहुत शशक्त सार्थक और चिंतन से भरा है आपका लेखन कई कवितायेँ पढ़ी सभी सुन्दर भावमयी आपकी क्षणिकाएं बहुत पसंद आई ,आपने सराहा और हौसला बढाया आभार

    ReplyDelete
  47. खता लबों की,

    सज़ा शब्दों को शब्दों की ही,

    इसी लिये सबसे शक्तिमान शब्द "निशब्द"

    ReplyDelete
  48. निःशब्द भी कभी शब्द से अधिक सार्थक होता है ॥

    ReplyDelete
  49. निःशब्द भी शब्द है -वाह क्या बात है ...मौन मौन कुछ चल रहा है न :)

    ReplyDelete
  50. गूढ़ार्थों वाली कविता।
    निःशब्द शब्द का प्रयोग अच्छा लगा।

    ReplyDelete