Pages

Tuesday, December 31, 2013

चलो याद करते हैं......

इस आत्म विसर्जक युग में
कुछ पल के लिए ही सही
चलो भूलते हैं
कल की सारी बातों को
व हर गहरी अँधेरी रातों को
और क़दमों को मिली हर मातों को.....
चलो भूलते हैं
अपने सजाये प्लास्टिक के फूलों को
व भेस बदल कर चुभते शूलों को
और पीछे पछताते सारे भूलों को......
चलो भूलते हैं
दीवारों में दबे अपने संसार को
व आँगन में उग आई हर बाड़ को
और धूप-छाँव से पड़ती हुई मार को.....
चलो भूलते है
दुःख के अपने सारे प्रबंधों को
व आधुनिकता से हुए अनुबंधों को
और बिखरे से हर संबंधों को....

इस उत्सव अनुप्रेरक युग में
कुछ पल के लिए ही सही
चलो याद करते हैं
आंसुओं में छिपे मधुर गीत को
हर मुश्किल में भी थामे मीत को
और उनका आभार प्रकटते रीत को....
चलो याद करते हैं
बेरुत ही फागुनी फुहारों को
उसमें झूमते-गाते खुमारों को
और प्यार के नख-शिख श्रृंगारों को.....
चलो याद करते हैं
उस शुद्ध सच्चे उल्लास को
व उसी से बंधी हर आस को
और चिर-परिचित हास-विलास को....
चलो याद करते हैं
प्राण से उठती शुभ पुकार को
व शुभैषी कामनाओं के उपहार को
और प्रणम्य सा सबों के स्वीकार को.....
चलो याद करते हैं .


         *** शुभकामनाएं ***

28 comments:

  1. चलो याद करते हैं
    प्राण से उठती शुभ पुकार को
    ***
    सुन्दर आह्वान से सजी सुन्दर रचना...!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  2. बेशक ...प्राणों से उठी शुभ पुकार ही हम सब के लिए संजीवनी है... स्वत: स्फूर्त सहज भाव से यही मर्म जाग रहा है कि बस सबको याद कर लिया जाए ... ताकि कल कुछ बचा न रहे .....

    ReplyDelete
  3. Very nice,wish a happy new year to you,

    ReplyDelete
  4. बीते वर्ष की हर अच्छी बात को याद रखना चाहिए .... और दुख की रात को भूल जाना चाहिए ... नव वर्ष का स्वागत करना चाहिए ...
    २०१४ की शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना ......
    नए साल की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ..!!!

    ReplyDelete
  7. बीते कल की अच्छी बातें याद करे बुरी बाते भूल जाए..बहुत सुन्दर.. आप को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. नवागत वर्ष सन् 2014 ई. की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. सुप्रभात।
    --
    सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गये साल को है प्रणाम!
    है नये साल का अभिनन्दन।।
    ईस्वीय नववर्ष 2014 की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    आपका हर दिन मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  10. रोंप खुशियों की कोंपलें
    सदभावना की भरें उजास
    शुभकामनाओं से कर आगाज़
    नववर्ष 2014 में भरें मिठास

    नववर्ष 2014 आपके और आपके परिवार के लिये मंगलमय हो ,सुखकारी हो , आल्हादकारी हो

    ReplyDelete
  11. आत्‍म-विसर्जकता शुभ हो।

    ReplyDelete
  12. नये वर्ष के लिए आपको भी ढेरों मंगल कामनाएं

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर प्रस्तुति...!
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए...!
    RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

    ReplyDelete
  14. इस उत्सव अनुप्रेरक युग में
    कुछ पल के लिए ही सही
    चलो याद करते हैं
    आंसुओं में छिपे मधुर गीत को
    हर मुश्किल में भी थामे मीत को
    अति सुंदर भाव से सजी रचना ....मंगलकामनाएं नव वर्ष हेतु ....

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर कविता |

    ReplyDelete
  16. बीते वर्ष में कुछ अच्छी बातों को याद रखना और बुरी बातों को भूलकर आगे बढ़ जाना ही ज़िंदगी है...मगर होता इसका उल्टा ही है :-) नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें जी...

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुंदर शुभकामनाएं ------आपको बहुत बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  18. नए साल की शुभकामनाएं और बधाइयां. आपका लेखन निरंतर जारी रहे.

    ReplyDelete
  19. हर एक पल को जो नया कर लेते है उनका
    जीवन ही नित नया होता है !
    सुन्दर रचना प्रेरक लगी शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  20. शुक्रिया आपको भी नए साल कि बहुत बहुत मुबारकबाद |

    ReplyDelete
  21. सुंदर आव्हान ..... शुभकामनायें आपको भी

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete
  23. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. प्राण से उठती शुभ पुकार को
    व शुभैषी कामनाओं के उपहार को
    और प्रणम्य सा सबों के स्वीकार को.....
    चलो याद करते हैं .

    सुन्दर याद रखनेवाली प्रस्तुति

    आभार.

    ReplyDelete
  25. सुभाषितानी .....
    आ. अमृता जी ;
    नव-वर्ष की शुभकामनाएँ ....
    आपका लेखन और पाठकीय रूचियां
    दोनों ही विशेष प्रयोजननार्थ एवं मनोसंचारी हो ;

    ReplyDelete
  26. हर अच्छे बुरे अनुभवों को साथ लिए आत्मावलोकन तो बेहद जरूरी है सतत परिमार्जन के लिए. सुन्दर रचना. नए साल की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  27. जाते और आते समय की अनुभूति का सुंदर ताना-बाना.

    ReplyDelete
  28. चलो याद करते हैं
    उस शुद्ध सच्चे उल्लास को
    व उसी से बंधी हर आस को
    और चिर-परिचित हास-विलास को....
    चलो याद करते हैं
    प्राण से उठती शुभ पुकार को
    व शुभैषी कामनाओं के उपहार को
    और प्रणम्य सा सबों के स्वीकार को.....
    चलो याद करते हैं .

    चलो ....

    ReplyDelete