Pages

Tuesday, May 1, 2012

कल्पशून्य


तुमसे प्रेम करके
जितना मैंने
खुद को बदला है
तुम्हारी जरूरतों और इच्छाओं के
प्रमादी प्रमेय के हिसाब से
उतना ही तुम
अनुपातों के नियम को
धता देकर सिद्ध करते रहे
कि चाहतों के गणित को
सही-सही समझना
मेरे वश की बात नहीं.....
जबकि मैंने तो
गणितीय भाषा से
केवल जाना है
एक अनंत को....
और तुम जोड़-तोड़ करके
मुझे बंद कर लेते हो
अपनी चाहतों की
छोटी सी कोष्ठक में......
प्रेम किया है तो
तुमसे कोई शत-प्रतिशत
परिणाम पाने की चाहत भी नहीं
बल्कि तुमसे सूत्रबद्ध होने के लिए
करती रहती हूँ सूचकांक को
शून्य से भी नीचे.....
ताकि पूरी तरह से तुम
होते रहो संतुष्ट
और मैं छू-छू आऊँ
उस अनंत को.....
पर तुम मुझे यूँ ही
गुणा कर लेते हो
किसी शून्य से और
अपने संख्यातीत चाहतों के
आगे-पीछे लगा लेते हो
केवल अपने हिसाब से....
क्या तुम नहीं जानते कि
तुम्हारा गणित भी है सूत्रहीन
या तो मेरे अनंत होने मात्र से
या बस कल्पशून्य होने मात्र से . 

54 comments:

  1. प्रेम और गणित ..
    गणितीय हिसाब से भावनाओं को प्रकट करने का अनोखा अंदाज़

    ReplyDelete
  2. मन के भावो को शब्दों में उतर दिया आपने.... बहुत खुबसूरत.....

    ReplyDelete
  3. ताकि पूरी तरह से तुम
    होते रहो संतुष्ट
    और मैं छू-छू आऊँ
    उस अनंत को.....

    वाह!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति.....बेहतरीन भाव की रचना ...

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    ReplyDelete
  4. शाश्वत प्रेम....बधाई

    ReplyDelete
  5. ये विरोधाभास आपस में कितना तोड़ता है ... सच तुम्हारा गणित है सूत्रहीन

    ReplyDelete
  6. apne apne daayre mein sabhi shuny hain

    ReplyDelete
  7. कविता का गणित गणित की कविता में बहुत ही सुंदरता के साथ आपने पिरोया है। सारे समीकरण सूत्रबद्ध होकर स्पष्ट हो गए हैं। इतना सुंदर प्रयोग मैंने पहली बार पढ़ा है। एक लाजवाब कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  8. प्रेम का गणित....बड़ा ही विकट होता है....कोई अपनी मर्ज़ी से घटा लेता है...और कोई अपने फाड़े के लिए गुणा कर लेता है...!!

    ReplyDelete
  9. प्रेम में गणित प्रेम का अपमान है...और एक तरफ़ा समझदारी कोई कब तक निभा सकता है...

    ReplyDelete
  10. अनूठे भाव... प्रेम में गणित के हिसाब किताब का नया प्रयोग बहुत सुन्दर लगा....

    ReplyDelete
  11. चाहतों के गणित को
    सही-सही समझना
    मेरे वश की बात नहीं.....
    जबकि मैंने तो
    गणितीय भाषा से
    केवल जाना है
    एक अनंत को....

    यह गणितीय भाषा और प्रेम का सन्दर्भ .....इसलिए इसका कोई निष्कर्ष नहीं ....कोई हद नहीं ....!

    ReplyDelete
  12. बोडमास सूत्र का प्रेम कविता में प्रयोग अद्भुत रहा . सुँदर .

    ReplyDelete
  13. प्रेम से बंधा कोई भी भी रिश्ता गणित की गिनती में सूत्रहीन ही ठीक !

    ReplyDelete
  14. मुझे तो वैसे भी गणित नहीं आती ..
    यह प्रेम का गणित तो उससे भी भारी लग रहा है .. :)
    मगर प्रेम में कहाँ गणित ,कहाँ गुणा भाग,
    यह तो जीवन को सार्थकता देती,अमरता प्रदान करती एक अजस्र ऊर्जा है ...
    ऊर्जा जो उच्च शिखर से ग्राही तक निरंतर प्रवाहमान है ...अब ग्राही कितना
    ग्रहण कर रहा है कितना अपक्षय यह उस पर निर्भर है ......

    ReplyDelete
  15. Amrita,

    KISIKE PYAAR MEIN APNE KO POORI TARAHAN SAMARPIT KARNE PAR BHI JAB APNAA ATAM SAMAAN NAHIN MILTAA TO YEH PRASHAN UTHNAA AAVYASHAK HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  16. चाहतों के गणित को
    सही-सही समझना
    मेरे वश की बात नहीं.....
    जबकि मैंने तो
    गणितीय भाषा से
    केवल जाना है
    एक अनंत को....
    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  17. अमृता, प्रेम का यही आनंद है की वहाँ सब शून्य हो जाता ...गणित के सारे मापक तितर बितर हो जाते हैं...जो प्रेम गणित की भाषा को समझे वो कभी आनंद को द्विगुणित नहीं कर सकता....और अनंत तक की यात्रा आनंद के बिना हो नहीं सकती...व्यक्ति प्रेम मय होकर ही आनंदित रह सकता.....
    उत्कृष्ट रचना के लिए साधुवाद...

    ReplyDelete
  18. मैं आधार में हूँ, तभी तुम अनन्त बने फिरते हो।

    ReplyDelete
  19. अमृता जी इतनी गहन व्याख्या गणित के साथ प्रेम.......क्या कहूँ अल्फाज़ नहीं.......हैट्स ऑफ

    ReplyDelete
  20. अमृता जी, प्रेम जैसी कोमल भावना को गणित जैसे ठोस विषय के साथ मिलाकर देखने की कला आपमें ही हो सकती है..अभिनव प्रयास !

    ReplyDelete
  21. वाह: बहुत सुन्दर गहन व्याख्यान........

    ReplyDelete
  22. prem ka sundar guna bhag samjhati anupam rachna...

    ReplyDelete
  23. यह जीवन का गणित है बहुत सुंदर बधाई

    ReplyDelete
  24. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 03 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....कल्पशून्य से अर्थवान हों शब्द हमारे .

    ReplyDelete
  25. "और मैं छू-छू आऊं ..
    उस अनंत को.."
    गहन अभिव्यक्ति
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  26. तुमसे कोई शत प्रतिशत परिणाम पाने की चाहत भी नहीं ....
    तुम्हारा गणित भी है सूत्रहीन ......
    मर्म छूती रचना ,प्रेम का गणित

    ReplyDelete
  27. वास्तव में प्रेम और गणित का अनूठा जोड़ घटाना, परिस्थितियों की बहुत ही प्रभावपूर्ण और मार्मिक
    अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. सारे समीकरण सूत्रबद्ध होकर स्पष्ट हो गए हैं। गणित का प्रयोग रचना में अच्छा लगा,...
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति, सुंदर रचना,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  29. prem jaise samvedansheel tathy ko gadit jaise nishthur vishay se jod kar dekhna achha laga.. aapki yah rachna kabiletaarif hai AMRITA JI..

    ReplyDelete
  30. बड़ा जटिल है प्रेम का समीकरण समझ पाना.....

    बढ़िया रचना.

    ReplyDelete
  31. अगर मैं शून्य हूँ तो तुम्हारा गणित सूत्रहीन है ....
    शून्य का अर्थ जानो फिर गणित करना ....
    बहुत गहन भाव ......
    बहुत सुंदर कृति ....!!

    ReplyDelete
  32. अगर मैं शून्य हूँ तो तुम्हारा गणित ही सूत्रहीन है ........
    पहले शून्य का अर्थ जानो फिर प्रेम में गणित करना .......
    गहन ...बहुत सुंदर कृति ...

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!

    ReplyDelete
  34. behtarin rachna..aapke is bhtarin soch ka jawab nahi hai amrita jee...aaj padha prem me ganit..prem ka ganit...prem se ganit...adbhut prem ganit.punah badhayee ..

    ReplyDelete
  35. जीवन को भी गणितीय तरीके से जिया और समझा जा सकता है और संग संग प्रेम को भी हम सूत्रों में कर सकते
    हैं ये हमको आपने सिखाया .शब्दहीन कर दिया .....

    ReplyDelete
  36. प्रेम के गणित में हिसाब-किताब सब बेकार. रटे हुये सूत्र बदल जाते हैं ,
    कुछ जोड़ो तो कुछ घटा मिलेगा .सोचिये मत दिमाग़ चकरा जायेगा !

    ReplyDelete
  37. prem aur ganit ka sundar sangam------bahut sundar rachna

    ReplyDelete
  38. अदभुत गणितीय हिसाब प्रस्तुत किया है आपने.
    सूत्र हीन गणित कल्प शून्य होने मात्र से.

    वाह!

    क्या मेरा ब्लॉग विस्मृत हो चूका है,अमृता जी.

    ReplyDelete
  39. प्रेम को कंस में रखना कितना गलत प्रेम तो अनंत है अपार है ।

    ReplyDelete
  40. इत गणित और उत गणित,
    क्यों अंश हर में बँट गये
    दो दूनी है चार हम,
    इतना पहाड़ा रट गये.
    कोष्टकों के टूटने का,
    भी सरल होता नियम
    प्यार के हम गणित में
    जुड़ते हुये भी घट गये.

    सुंदर गणितीय रचना.

    ReplyDelete
  41. गणित के नियम प्रेम में कहाँ लागू हो पाते हैं...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  42. कमाल की रचना है...इतने गहरे भाव सरल शब्दों में परोस दिए हैं आपने...बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    ReplyDelete
  43. आपकी की कविता में अंकगणित,बीजगणित,ज्यामिति एवं क्षेत्रमिति का सम्मिश्रण इसे बहुत ही गणनात्मक बना दिया है । यह कविता बहुत अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  44. कुछ लोग देखकर खिल उठते
    कुछ चेहरों पर रौनक आती
    कुछ तो पैरों की आहट का
    सदियों से इंतज़ार करते !
    तुम प्यार और स्नेह भरी, आँखों का अर्थ लगा लेना !
    मेरी रचना के मालिक यह,बस यही कहानी जीवन की !

    ReplyDelete
  45. प्रेम का गणित गणित की सिद्धांतों से कहाँ चल पाता है ... उसके तो अपने ही नियम होते हैं .... गहरे भाव लिए सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  46. प्रेम का अद्भुत गणित प्रस्तुत किया है आपने.

    आभार !

    ReplyDelete
  47. खूबसूरत रचना ...बहुत बढ़िया प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  48. बहुत अच्छा लगा पढकर ! मेरे पोस्ट पर आपकी प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  49. हम कविता में आपके छिपे सच्चे जज्बे का सम्मान करते हैं...

    ReplyDelete
  50. असीम का अनंतभाव से प्रेम यही स्थिति उत्पन्न करता है. गणितभाव को सुंदरता से पिरोया है :))

    ReplyDelete