Pages

Tuesday, April 10, 2012

कहीं ऐसा न हो ....


कहीं ऐसा न हो ....

अत्युक्ति में
सुन्दरतम सत्यों का
कुरूपतम उपयोग
अदम्य अभियान न हो जाए

अतुष्टि से
भाग्य के ढाँचे में
अकर्मण्यता ढलकर
सतत अनुष्ठान न हो जाए

अति स्वप्न में
बड़ी आशा से
छलक कर मनोबल
साश्चर्य ढलान न हो जाए

आत्म प्रवंचना में
सागर का दंभ भर
भ्रमित तालाब सा
ग्रंथित ज्ञान न हो जाए

अति विनम्रता भी
सम्मान पा कर
अहंकार का
सुसज्जित परिधान न हो जाए

किसी वसंत में
खिलेगा कोई फूल
सोच-सोच कर
भविष्य वर्तमान न हो जाए

और अंत में...

सतयुग के आने की
आहट पाकर
कहीं कलयुगी मानव
सयत्न सावधान न हो जाए .




 

51 comments:

  1. वाह अमृता जी.................

    नमन करती हूँ आपकी लेखनी को.....
    बहुत सुंदर रचना.

    सादर.

    ReplyDelete
  2. आत्म प्रवंचना में सागर का दंभ भर
    भ्रमित तालाब सा ग्रंथित ज्ञान न हो जाए ... जब भी बात खुद तक सिमट आती है , सबकुछ बेमानी शक्ल लिए होता है

    ReplyDelete
  3. कही कलयुगी मानव
    सयत्न सावधान न हो जाय
    वाह!!!सुन्दर रचना,बेहतरीन भाव पुर्ण प्रस्तुति,.....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  4. सतयुग आने की खबर पाकर
    मानव
    सावधान न हो जाये--
    जी
    बदल ही लेगा पाला |

    ReplyDelete
  5. bahut sashakt rachna jitni bhi tareef ki jaye kam hai.badhaai aapko.

    ReplyDelete
  6. क्या कहने
    बहुत सुंदर रचना
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  7. आत्म प्रवंचना में
    सागर का दंभ भर
    भ्रमित तालाब सा
    ग्रंथित ज्ञान न हो जाए

    वाह .... कितनी गहन बात सहजता से लिख दी ... और मानव का सयत्न सावधान होना ... गजब की प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. आत्म मंथन को प्रेरित करती खूबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  9. अमृता जी, सजगता का बोध कराती, वर्तमान में रहने का संदेश देती सुंदर कविता के लिये बधाई !

    ReplyDelete
  10. atm pravanchna me sagar ka dambh bharkar bhramit taalab sa granthit gyan na ho jaaye....ye panktiya to atm chintan ke liye hain...baki panktiyan sachet kartee hai...satyag ke aagaj ka andesha ho jaaye..aaur aadmi badal jaaye...ek rachnakar ke roop me dekha aapka ye swapn poora ho jaaye....aaj to aapki jitni taarif kee jaaye kam hai..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete
  11. सयत्न ही सही सावधान तो हो जाए - वरना न भविष्य क्या वर्तमान भी फूल रहित ही है।

    ReplyDelete
  12. और अंत में सबसे अच्छा लगा...कहीं कलयुगी मानव.....वाह....बहुत खूब।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर..इतनी गहन बातो को बहुत ही सरलता और सहजता से कह दी..लाजवाब प्रस्तुति..बधाई..अमृता जी..

    ReplyDelete
  14. गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  15. वाह ........ खूबसूरत शब्द समायोजन के लिए बधाई कितना सुन्दर लिखा है

    ReplyDelete
  16. मानव बुद्धि ऐसी ही अटकलों में जीवन बिता देती है!
    जबकि है तो सब वस्तुतः माया ही ....

    ReplyDelete
  17. ये संशय तो बने रहेंगे,
    आस हमारी जीवित है

    ReplyDelete
  18. ati har cheez ki buri hoti hai. sunder gehen gyan deti bate.

    A varn se kitne hi shabdo ka sunder prayog.

    ReplyDelete
  19. अमृताजी सचमुच बहुत गहराई है आपकी रचना में... बड़ी ही खूबसूरती से कह दी एक गहन बात... सुन्दर शब्द संकलन... आभार

    ReplyDelete
  20. अति सर्वत्र वर्जयेत .....जल्दी...जल्दी .... भागते भागते वर्तमान के सुंदर कोमल दृश्य नहीं देख पाते और भविष्य तो किसी ने जाना नहीं ...फलस्वरूप हाथ कुछ आता ही नहीं ......बहुत विचार पूर्ण रचना है ....!!प्रेरणा से लबालब भरी .......
    शुभकामनायें अमृता जी ....!!

    ReplyDelete
  21. कलयुगी मानव सावधान ना हो जाये...क्या खूब कही...

    ReplyDelete
  22. नतमस्तक हूँ इस बार आपकी लेखनी और सृजनशीलता के आगे ! एक लाजवाब कविता दी है आपने !बार-बार पढते भी मन नहीं अघाता इस से !

    नमन !

    ReplyDelete
  23. सही आशंकाएं ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  24. सदियों से कवि और मनिसियों ने अपने प्रबुध ज्ञान से मानव समाज की भावधारा को एक नए दिशा देते आये है.संसयराहितऔर निर्भीक वाणी से सदा कर्तब्य और अकर्तब्या का बोध करते रहे हैं.ब्याक्तिमन और समस्तिमन उर्द्वा दिशा में बदती रहे तदनुरूप एक लक्ष्य भी सामने रख देते हैं.और अपनी ओजपूर्ण वाणी विचारों का ऐसा प्रवाह निर्माण करते हैं जो सरे जीवन फूलों की भाति सदिओं तक सुरभित किये रहती है.परमात्मा किसी किसी को ही यह काब्य बरदान देते हैं.आप धन्य है की परमात्मा ने आपको भरपूर ही यह आशिर्बाद दे रखे हैं.भरपूर उपयोग कीजिये .परमात्मा से मेरे यही प्रार्थना ही.

    ReplyDelete
  25. रचना बहुआयामी है .....निश्चित रूप से प्रसंशनीय भी .......!

    ReplyDelete
  26. वाह क्या बात है ... और अगर ऐसा हो गया तो काय कल्प हो जायगा ... सार्थक चिंतन है ...

    ReplyDelete
  27. बहुत लाजवाब रचना, बधाई

    ReplyDelete
  28. वाह अमृताजी ....कितना सुन्दर लिखा है ...शत शत नमन आपकी लेखनी को ....!

    ReplyDelete
  29. वाह क्या बात है ..लाजबाब !!!!

    ReplyDelete
  30. मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्ति!....बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  31. बहुत कुछ कहते हुए भी संभावनाओं के कपाट खोलकर खामोश हो जाती है कविता। शेष पाठक की सहज कल्पना पर छोड़ देती है। सुंदर प्रयोग। स्वागत है।

    ReplyDelete
  32. waah bahut badhiya ....................hardik badhai


    meri post harsingar 1
    harsingar -2

    yah pal wah manjar par aapka intjar hai

    htp://sapne-shashi.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. आशंकाओ के बदल घुमड़ रहे है , उम्मीद है जल्दी ही छटेंगे. . प्रभावपूर्ण

    ReplyDelete
  34. chalak kar manobal, sacharya dhalan na ho jaaye. bahut hi sundar rachna.

    Utkarsh
    www.utkarsh-meyar.blogspot.com

    ReplyDelete
  35. अति सदैव दुखदायी होती है.. लाज़वाब सारगर्भित प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  36. Amrita,

    MEIN " ATI VINAMRATA BHI....." AUR " SATYUG KE AANE...." KE SAATH POORI TARAH SAHMAT HOON.

    Take care

    ReplyDelete
  37. किसी वसंत में
    खिलेगा कोई फूल
    सोच-सोच कर
    भविष्य वर्तमान न हो जाए

    और अंत में...

    सतयुग के आने की
    आहट पाकर
    कहीं कलयुगी मानव
    सयत्न सावधान न हो जाए .
    BEAUTIFUL LINES WITH DEEP THOUGHT AND EMOTIONS.
    WHY AND TO WHO THANKS JUST PRANAM TO YOU.

    ReplyDelete
  38. BEAUTIFUL LINES WITH EMOTION AND FEELINGS.
    SUPERB LINES.

    ReplyDelete
  39. satya vachan Amrita...aksar aise hi hota hai...satyug ka intezar to ham kab se kar rahe aur dhara kaliyug ke taap se jal rahi....pata nahi is yug ki saandhy bela kab aayegi...

    aapki kavita man ki batein bakhoobi bayan karti aur ascharyajanka roop se unme jo prawah hai wah kabhi badhit nahi hota...bahut khoob.

    ReplyDelete
  40. अति विनम्रता भी .....

    सभी बंध सोचने पर मजबूर करते हैं

    ReplyDelete
  41. क्या हो क्या न हो
    प्रश्न भी और संशय भी..

    शीघ्र अपने देश लौटने वाला हूँ....
    व्यस्तता के कारण इतने दिनों ब्लॉग से दूर रहा.
    नयी रचना समर्पित करता हूँ. उम्मीद है पुनः स्नेह से पूरित करेंगे.
    राजेश नचिकेता.
    http://swarnakshar.blogspot.ca/

    ReplyDelete
  42. जिसकी आशंका होती है, वह संभव होता है. सावधानी निराकरण कर सकती है. रचना कई बिंदुओं को छूती है.

    ReplyDelete
  43. वाह अति सुंदर रचनाएँ ....बधाई |

    ReplyDelete
  44. पिछली टिप्पणी मे दिनांक की की गलत सूचना के लिए क्षमा करें---
    कल 24/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete