Pages

Saturday, October 22, 2011

सार - वृत

जब एकोsहं बहुष्यामि
बहुष्यामि एकोsहं
तब केवल
''अहं ब्रह्माष्मी '' का 
हम क्यों पाले हैं भरम...
हम क्यों नहीं जानते
निज से औरों का मरम..
सब पोल खुली है फिर भी
हमें नहीं आती हाय! शरम..
काहे का ये झगड़ा - टंटा
फिर काहे कोई अनबन.........
तेरी - मेरी का ये चक्कर
क्यों नहीं बूझे लाल बुझक्कर
बड़े - बड़े भी यहाँ पर
खुद में है महा फक्कड़......
काहे का ये लटका - झटका
फिर काहे कोई उपक्रम....
जब सार- वृत
यही है जीवन का ---
शिवो s हं  शिवो s हं
सच्चिदानन्दों s s s हं
अप्रिय बात शुरू करने से पहले
सारी बात करो खतम .
   

43 comments:

  1. वाह, बहुत सुंदर ||

    ReplyDelete
  2. 'मैं दुनिया के लिए कल्याणकारी बनूँ'- इससे बढ़ कर दूसरा कोई दृष्टिकोण नहीं. लेकिन बातें खत्म नहीं होतीं और फिर बातों से ही तो बात शुरू होती है. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन सीख देती रचना।
    आभार.....

    ReplyDelete
  4. एक गंभीर सी कविता... उलझी हुई सी

    ReplyDelete
  5. वाह ...बहुत खूब।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर संदेश देती रचना।

    ReplyDelete
  7. न चाहते हुए भी कई बार बैल मारने को आ पहुँचते है अमृता जी फिर क्या किया जाये :-).......सुन्दर लगी पोस्ट |

    ReplyDelete
  8. अच्छा दृष्टिकोण, गहरी सोच.. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  9. तथ्य को पहचानने और हो जाने में बहुत ही अन्तर है।

    ReplyDelete
  10. इस समय ब्लॉग जगत पर बड़ी कृपा दृष्टि है :) अब झगडा भी शांत कर रही हैं :) चलिए नेक काम है करिए मुझे क्या ??

    ReplyDelete
  11. gahan soch k saath likhi shikshaprad rachna.

    ReplyDelete
  12. काश! सबलोग इस द्दृष्टिकोण को अपने जीवन में उतर सकें.
    सुन्दर रचना.

    दीपावली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर आह्वान की रचना

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  15. अहं ब्रह्मास्मि का भरम तो रा-वान को भी है जी :)

    ReplyDelete
  16. “शिव ही एकाधार है, शिव जीवन का सार
    शिव ही सुमति दें सबको, मांगूं बारम्बार”

    बहुत ही सुन्दर भाव... सशक्त रचना...
    आपको सपरिवार दीपावली की बधाइयां....

    ReplyDelete
  17. अप्रिय बात शुरू करने के पहले
    सारी बातें करो खतम।

    सार्थक संदेश देती सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  18. सुन्दर सृजन के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  19. आपकी यह सुन्दर प्रस्तुति कल सोमवार दिनांक 24-10-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ की भी शोभा बनी है। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  20. Muh mein ram bagal mein chhoori isi karan se bhagwan se insan ki hai doori. Achhi rachna. Aapko aur aapke pariwar ko dipawali ki hardik subhkamna.

    ReplyDelete
  21. अहं ही इंसान को बडा भी बनाता है और अपने शुभाकांक्षियों से दूर भी
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

    ReplyDelete
  22. अप्रिय बात शुरू करने से पहले बात खत्म करने में ही सार निहित है.

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर रचना ......गहरी बात ....

    ReplyDelete
  24. दार्शनिकता से ओतप्रोत रचना.
    दीपोत्सव की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  25. क्षण भंगुर जीवन की कलिका कल प्रात को जाने खिली न खिली ...

    प्रकाश पर्व पर आपको
    शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  26. अच्छी सीख देती सुन्दर रचना ..लेकिन सीखना कोई नहीं चाहता ..

    दीपावली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  27. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  28. यह कैसी अमृत तान छेडी है आपने ,अमृता जी.
    'शिवोहम' बता कर और अप्रिय बाते खत्म करके तो
    आपने तन्मय ही कर दिया है.

    सुन्दर सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    'नाम जप' पर अपने अमूल्य विचार और
    अनुभव प्रस्तुत करके अनुग्रहित कीजियेगा.

    धनतेरस व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  29. अहम् ब्रम्हास्मि हमारे अन्दर जड़ जमा चुका है . वही हर समस्या के मूल में है . विचारणीय कविता .

    ReplyDelete
  30. सुन्दर और झाक्झोड़ने वाली रचना!
    द्वंदों को तोड़कर ही नव सृजन किया जा सकता है|

    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!
    जहां जहां भी अन्धेरा है, वहाँ प्रकाश फैले इसी आशा के साथ!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    ReplyDelete
  31. बहुत सार्थक सोच...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  32. सुंदर भावाभिव्‍यक्ति.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  33. अप्रिय बात शुरू करने के पहले
    सारी बातें करो खतम।
    सुन्दर प्रस्तुति .दिवाली मुबारक .

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete