Pages

Friday, July 29, 2011

आत्म - रस

उगते सूरज को प्रणाम करूँ
जो डूब जाए तो राम-राम करूँ

क्यों किसी का कल्याण करूँ
बस अपना ही उत्थान करूँ

ये सोच सुबह से शाम करूँ
और सोच-सोच बिहान करूँ

बस इतना ही मैं काम करूँ
और तान चदरिया आराम करूँ

कोई टोके तो तुम-ताम करूँ
अपनी ऊँचाई पर बस मान करूँ

उपदेशों का केवल दान करूँ
और अपना ही गुणगान करूँ

काया - कष्टं का बलिदान करूँ
और आत्म रस का पान करूँ

जो माने उसका सम्मान करूँ
न माने तो घमासान करूँ .

49 comments:

  1. यह क्या लिख दिया है 'अमृता'जी आपने?
    क्या थोथे अंध-विश्वासियों की पोल खोलने का इरादा है आपका?
    तो फिर घमासान के लिए तैयार हो जाईये.
    हम भी शामिल है आपके साथ.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अमृता जी हम भी आप ही के जैसे बनना कहते है ,,,,,बहुत सुन्दर लिखती हे आप ,,>>>>>

    ReplyDelete
  3. क्या बात है

    कोई टोके तो तुम ताम करुं
    अपनी ऊंचाई पर बस मान करुं

    ReplyDelete
  4. कामचोरों औ मक्कारों पर सुन्दर व्यंग .

    ReplyDelete
  5. पढ़ कर आनंद आगया.

    ReplyDelete
  6. क्यों किसी का कल्याण करूं,
    बस अपना उत्थान करूं..
    सुन्दर प्रस्तुति , आभार.

    ReplyDelete
  7. आत्म श्लाघा से परे रहकर ही अहम् ब्रम्हास्मि का रास्ता खोजा जा सकता है .

    ReplyDelete
  8. updeshon ka daan aur apna gungaan... yahi to hota hai

    ReplyDelete
  9. ऐसे भी लोग होते हैं...आत्म-अनुशंशा में पूर्णतः लिप्त...भगवान भला करे इनका भी...

    ReplyDelete
  10. Aapki baagi rachnayein padhkar dil bag-bag ho jata hai aur man baagi.. Swagat..

    ReplyDelete
  11. बस अपना ही गुणगान करूँ....वाह वाह सबसे वरिष्ठ ब्लोगेर मैं हूँ :)

    ReplyDelete
  12. सही कटाक्ष किया है ..लोंग उपदेश ही दान करते हैं पर खुद के लिए नहीं ..

    ReplyDelete
  13. aaj ke jamane me logo ko dekhte huye,,,,,, sahi likha hai apne...

    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  14. सुन्दर सामयिक कविता -बेलौस और खरी खरी -मुझे यह पसंद है!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही करारा व्यंग्य| ऐसे व्यक्तियों से मुलाक़ात होती ही रहती है| अपुन भी इन को प्रणाम ही करते हैं|

    ReplyDelete
  16. वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने
    क्या कहने ||
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  17. जानी पहचानी लगती है
    अपनी ही कहानी लगती है

    समय समय पर इसी तरह कोई चेताने वाला मिलता रहे...आभार!

    ReplyDelete
  18. यह तो बहुत अच्छी बात है :))

    ReplyDelete
  19. एक दम खरी खरी बात.वाह.

    ReplyDelete
  20. अपने से लगे कविता के शब्द
    अच्छी रचना..बेहतरीन शब्दों का समावेश .......आभार

    ReplyDelete
  21. खूबसूरत एवं सटीक अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  22. चलो यह भी ठीक. आत्म संतुष्टी भी जरूरी है.

    ReplyDelete
  23. Kaise main bakhan karun,
    kis tarah tera gungaan karun,
    kavita ki har pankti se tapki,
    madhu ras ka bas paan karun.

    Jee chahta hai tumhari tarah,
    main bhi kuch kam mahaan karun,
    kavita likhun,kavita peeyun,
    kavita me hi main snaan karun.
    ******************************
    Chalo yun karte hain aaj se,
    subah shaam teri nasihat ka
    bas main nit din dhyaan dharun.
    ..............................

    Bahut achha Amrita...pichli kavita dekh nahi paaya tha...kuch likh bhi nahi paaya...zindgi kabhi patri se utar jaati hai...use wapis laane ki koshish karta hun...

    ReplyDelete
  24. अच्छा है....

    एकदम साफ़ साफ़ ..

    ReplyDelete
  25. क्या बात है .........इतना तीखा व्यंग्य........लम्बी नुकीली हरी मिर्च की तरह ही तीखा ............शानदार ....लाजवाब.......बेहतरीन|

    ReplyDelete
  26. बहुत सटीक।
    ---------
    कल 03/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. Ek behtareen blog par behtareen rachnaayen...
    Follow kar raha hoon.

    ReplyDelete
  28. हां, कुछ खास प्रजाति के लोग ऐसा ही कर रहे हैं।

    धारदार रचना !!

    ReplyDelete
  29. कोई टोके तो तुम ताम करुं
    अपनी ऊंचाई पर बस मान करुं
    खूब खरी- खरी कही है!वाह!

    ReplyDelete
  30. और सोच -सोच बिहान करू .(बियान का अर्थ कृपया बतलाएं तो और लुत्फ़ आये .).शब्द बाण से तीखें हैं ये बोल सामने वाला आहत हो सकता है .हम सब आत्म -श्लाघा करतें हैं .चिरकुटों को पसंद करतें हैं ,संग रखतें हैं .बेहद सुन्दर रचना .कृपया यहाँ भी पधारें .
    http://sb.samwaad.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. अमृता जी
    क्या बात है !

    अलग ही रंग नज़र आ रहा है आपका … बहुत ख़ूब !

    दोहरे चरित्र वाले लोगों पर करारा व्यंग्य किया है आपने ।

    लेखनी की धार और चमकदार हो … यही शुभकामना है !
    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  32. सुन्दर व्यंग ..पढ़ कर अच्छा लगा....

    ReplyDelete
  33. वाह जी वाह !!!!मई तो अब इसी फार्मूले पे चलूंगी. बाकि तो सब कर के देख लिया कुछ कम नहीं आया
    आभार

    ReplyDelete
  34. bahut seedha kataksh pahli baar padh rahi hoon aapko.aapke comment ke liye shukriya.aapke blog par aakar achcha laga.

    ReplyDelete
  35. सीखना एक भाव है स्वभाव है ,आपने हमारे शब्द कोष में एक शब्द दाखिल किया -बिहान -यानी कल सुबह ,प्रभात ,आइन्दा भी आंचलिक शब्दों के अर्थ दिया करे हिंदी की गरीबी दूर होगी .

    ReplyDelete
  36. सीखना एक भाव है स्वभाव है ,आपने हमारे शब्द कोष में एक शब्द दाखिल किया -बिहान -यानी कल सुबह ,प्रभात ,आइन्दा भी आंचलिक शब्दों के अर्थ दिया करे हिंदी की गरीबी दूर होगी .यहाँ भी तो आयें -

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, २ अगस्त २०११
    यौन शोषण और मानसिक सेहत कल की औरत की ....इसीलिए
    Sexual assault, domestic violence can damage long-term mental health

    ReplyDelete
  37. क्यों किसी का कल्याण करूं,
    बस अपना उत्थान करूं..
    .....खूबसूरत एवं सटीक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  38. अरे, मुझे एक दो अटल बिहारी जी की कविता याद आ गयी आपकी इस कविता से...:)

    ReplyDelete
  39. बहुत ही सुन्दर रचना... मेरा तो कहना है की उगते हुए सूरज तो जरुर ही प्रणाम करिए और डूबते तो राम राम भी कहिये...
    एक बेहतरीन रचना के लिए आपको बधाई हो अमृता जी....

    ReplyDelete
  40. सार्थक साहित्य,आभार।

    ReplyDelete
  41. स्वर्णिम विहान हो ,भर दो खलिहान को ,अन्न को उगाते हुए ,
    सोना बरसाते हुए ,
    धानों के खेत में ,गंगा की रेट में मिलके चलो ,मिलके चलो ,मिलके चलो भैया .
    बहुत समय पहले यह समूह गान गाया था सागर विश्विद्यालय में अध्ययन के दौरान ,अब समझ आया ,"बिहान ",विहान का ही अपभ्रंश रूप है .आने वाला कल खुशहाल हो आपका भी .शुक्रिया .

    ReplyDelete
  42. सही कह दिया इस बार आपने तो .. आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete