Social:

Monday, February 22, 2021

रति और पार्वती संवाद ......

रति की मूर्च्छा टूटी तो एक तरफ गूंज रही थी देववाणी की छलना

दूसरी तरफ उसकी उत्कट वेदना का सूझ रहा था कोई भी हल ना

व्याघातक दुर्भाग्य दंड से हत , गलित , व्यथित , शोकाकुल रति को

झुला रहा था विकट , विकराल , विभत्स , विध्वंसक मायावी पलना


तत्क्षण ही वह निज प्राण को तज दे या कि वह चिर प्रतीक्षा करे

या हृदय में अभी देवों और ॠतुपति के द्वारा दिए कल्प शिक्षा धरे

या कि उसके अंगस्वामी कामदेव जब तक पूर्ण सुअंग को न पाए

तब तक वह पतिव्रता निज अंग को पति के लिए क्यों न रक्षा करे


अकस्मात क्षीण-सी स्मृति भी कौंध आई माँ-पिता और बहन की

शापवश ही सही पर हश्र का कारण तो हुए है जो उसके मदन की

निश्चय किया कि जाकर पूछूं कि क्यों अकेले यहाँ मुझे वे छोड़ गए

क्रोधबल को पा उसकी बलवती हुई संचित क्षमता संताप सहन की


मदन-दहन सुन कर शैलराज हिमालय क्योंकर दौड़े-दौड़े आए थे

पिनाकपाणि के भय से भयभीत सुता की दशा देख के घबराये थे

क्या मेरी सुधि तनिक भी न आई कि मैं भी तो उनकी ही जाया हूँ

क्या निज अभिलाष को टूटा हुआ देखकर मन ही मन वे घबराये थे


मेरी आंखों के सामने ही उस एक क्षण में ही ये कैसा अनर्थ हो गया

गौरा की काया का पुलक पूर्ण अवयवों का विक्षेप भी व्यर्थ हो गया

पर यदि शूलपाणि का ही चित्त चंचल नहीं होता तो मैं भी मान लेती 

कि पुरुषार्थ के समक्ष मूल्यविहीन , आकर्षणविहीन स्त्र्यर्थ हो गया


सृष्टि साक्षी है कि जितेंद्रियों का भी वश नहीं चला है स्त्रियों के आगे

तीनों लोक डोल जाता है जब स्त्रियों का सुप्त पड़ा अहंकार जो जागे

पार्वती के दृढ़ संकल्प , विश्वास और निश्चय को कौन नहीं है जानता

भूतनाथ अपने भूतों और गणों के संग जब तक भागना चाहें तो भागे


यदि लज्जा वश , संकोच वश स्त्रियां खुल कर कुछ नहीं कह पाती हैं

तो उसे निर्बल , असहाय , निरुपाय कह-कहकर ही जगती बुलाती है

क्यों पुरुषत्व को भी स्त्रीत्व के ही शरण में पुनः-पुन: आना पड़ता है 

तब तो समर्पित स्त्रीत्व अपना होना भी त्याग कर सृष्टि आगे बढ़ाती है


ये सोचकर अपने कंधों पर अपना ही क्षत-विक्षत हुआ शव को ढोकर

थरथराते-लड़खराते , गिरते-पड़ते मग से पग-पग पर खाते हुए ठोकर

पथराई-सी आंखों में अविश्वसनीय-सा उस दारूण दृश्य को लिए हुए

चल पड़ी विह्वल रति विंध नव वैधव्य के व्यसनार्त में मूर्छित हो-होकर


उस क्षण दिनकर के रहते ही चहुंओर घिर आया था घोर तम का बसेरा

ह:! ह:! विलाप ! उसके सम्मुख ही कैसे डूब गया था उसका ही सबेरा

रह-रह कर उभरता त्रिपुरान्तकारी त्रिलोचन का वो क्रुद्ध कोपानल ही

उसके हर डग पर द्रुत बिजली की भांति ही जैसे कर रहा था उग्र उजेरा


चलो माना !  इस सृष्टि की रक्षा हेतु निमित्त हुआ पंचपुष्प शर सन्धानी

दैवीय प्रपंच के कुटिल व्यूह में फंस मेरा मनोज हुआ आत्म बलिदानी

पर अंतिम श्वास तक मेरा साथ निभाने का मुझको अटूट वचन देकर 

हाय ! हाय ! हाय ! क्यों मेरे इस करुण दुःख से वही ऐसे हुआ अज्ञानी


मेरी आर्त हृदय की ऐसी चित्कार से निष्ठुर परमात्मा भी क्यों नहीं पसीजे

क्षमा करो अब आ भी जाओ , मुझे छोड़कर कहाँ चले गए मेरे मनसिजे 

मेरी न सुनो न सही पर अपने सखा को सोचो कि बिन तुम्हारे क्या होगा

हे मन्मथ ! अभिमान रूप ॠतुराज की आंखें भी वर्षाकाल के जैसे भीजे


मेरे मनोभव ! दुःख है तेरे संग संसार का सुख के उद्गम का नाश हो गया

कल जो तुमने कुसुम शय्या सजाया था आज शोक-सर्प का पाश हो गया

अब तो स्मृतियों में ही तेरा दिव्य रूप दिखेगा और सब का समागम होगा

हे पंचशायक ! पापी दैव और काल के चाल में कैसा ये सत्यानाश हो गया


विदग्धा रति मायके पहुंची यूं ही अनर्गल प्रलाप और विलाप करते-करते 

झुकी हुई आंखों से शैलराज ने उसे देखा मगर भीतर-ही-भीतर डरते-डरते

मरण-शय्या पर लेटी पार्वती थी और सिराहने में माँ मैना भी बुझी बैठी थी

सबके गले लग कर बिलख उठी रति और बोली क्यों वह बच गई मरते-मरते


जो मेरे आत्मभू का सृष्टि हेतु शुभ प्रयोजन न जाने स्वयंभू वे कैसे अन्तर्यामी हैं 

काम से मुख फेर लिया किन्तु क्रोध को जो जीत न पाए तो वे भी वृत्तिगामी हैं

ब्रम्ह विधान में विघ्न डालना कोई उनसे जा के पूछे कि क्या यही है पुरुषोचित 

इतना सबकुछ होने पर भी जग उनको ही पूजेगा क्योंकि वे तो औढरदानी हैं 


जी भर सुनने के बाद गौरा बोली चाहे जो हो जाए पर प्रण मैं निभा कर रहूंगी

जिसको मैंने मन में वरण किया है अब उसी को अपना पति बना कर रहूंगी

मुझ पर आंख बंद करके भरोसा रख और जरा धीरज धर मेरी प्यारी बहना

उसी भोले-भाले त्रिलोचन के प्रसाद से ही तेरे पति को भी जिला कर रहूंगी.


28 comments:

  1. यदि लज्जा वश , संकोच वश स्त्रियां खुल कर कुछ नहीं कह पाती हैं

    तो उसे निर्बल , असहाय , निरुपाय कह-कहकर ही जगती बुलाती है

    क्यों पुरुषत्व को भी स्त्रीत्व के ही शरण में पुनः-पुन: आना पड़ता है

    तब तो समर्पित स्त्रीत्व अपना होना भी त्याग कर सृष्टि आगे बढ़ाती है
    बिल्कुल सही कथन, अमृता दी।

    ReplyDelete
  2. महा काव्य रचा जा रहा । सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रसंग का वर्णन ..चलचित्र सी छाप छोड़ गई..मंत्र मुग्ध कर गई..

    ReplyDelete
  4. इतना सबकुछ होने पर भी जग उनको ही पूजेगा क्योंकि वे तो औढरदानी हैं
    भोले बाबा को कौन जान सका है बहला, पुराण कथा की सुंदर काव्यात्मक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहला के स्थान पर भला पढ़ें

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 24 फरवरी 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. आश्वासन मिला
    मुझ पर आंख बंद करके भरोसा रख और
    जरा धीरज धर मेरी प्यारी बहना
    उसी भोले-भाले त्रिलोचन के प्रसाद से ही
    तेरे पति को भी जिला कर रहूंगी.
    आस्था...
    आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय  अमृता जी , पौराणिक साहित्य का ये प्रसंग बहुत  करुणा भरा है, जब आदिदेव  की समाधि को तोड़ने का दुस्साहस   कामदेव ने किया था, जिसकी परिणति   उनकी अकाल मृत्यु के रूप में हुई | आपके द्वारा रचा ये काव्य चित्र उस मार्मिक प्रसंग का  जीवंत रूप प्रस्तुत करता है उसपर देवी रति का  पति को खोने का दुखद  प्रसंग बहुत मर्मस्पर्शी है | एक नारी  द्वारा   दुसरी नारी की पीड़ा समझना  बहुत आसान है इसीलिए आदिदेव की भार्या उन्हें पति के जीवन दान का  आश्वासन दे पाई | बहुत सशक्त रचना है आपकी |हार्दिक शुभकामनाएं|

      Delete
  8. जो मेरे आत्मभू का सृष्टि हेतु शुभ प्रयोजन न जाने स्वयंभू वे कैसे अन्तर्यामी हैं

    काम से मुख फेर लिया किन्तु क्रोध को जो जीत न पाए तो वे भी वृत्तिगामी हैं

    ब्रम्ह विधान में विघ्न डालना कोई उनसे जा के पूछे कि क्या यही है पुरुषोचित

    इतना सबकुछ होने पर भी जग उनको ही पूजेगा क्योंकि वे तो औढरदानी हैं
    सशक्त पंक्तियाँ !!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर आख्यान!काम का महत्व किसी प्रकार कम नहीं-गीता में श्रीकृष्ण ने स्वयं को देवों में कामदेव स्वीकारा है.

    ReplyDelete
  10. अद्भुत ,खंड काव्य का सोपान सा है, मर्मस्पर्शी,अंदर तक लहर कर उतरता।
    निशब्द हूं मैं आपकी काव्य प्रतिमा के सामने ।
    अप्रतिम।

    ReplyDelete
  11. कामदेव के वियोग में उनकी पत्नी रति के वियोग और बाद में गौरा जी का आश्वासन का विवरण बहुत ही हृदयस्पर्शी है। सार्थक और सुंदर सृजन के लिए आपको सादर बधाई।

    ReplyDelete
  12. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार (२५-०२-२०२१) को 'असर अब गहरा होगा' (चर्चा अंक-३९८८) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  13. विलक्षण शब्द चित्र!!!

    ReplyDelete
  14. महाकाव्य का सा प्रभाव छोड़ती है यह कविता। जो इस मिथक के जानकार हैं वे इसके भावों में बह जाएँगे. कविता का पटल बड़ा है और रंग भी अनेकों हैं.
    मदन-दहन की क्रिया अतींद्रिय ही रही होगी इसलिए स्त्री-पुरुष के संबंध को अध्यात्म के स्तर पर भी देखना और परखना होगा. भिन्न दिखने वाले ये दोनों वास्तव में एक ही धारा से बह कर आए हैं और स्रष्टा के अपने ही प्रकार के बने हैं. एक रहने की उनकी इच्छा होती है लेकिन बँटी धाराओं की नियति कहीं अलग हो जाती है जिसे विरह कह दिया जाता है. इसी की अनंत कथा को पुराणों की विभिन्न कथाओं में हैशटैग किया गया है.
    यह कविता रति के विलाप को विरह भाव से अलग उस वैचारिक धरातल पर ला खड़ा करती है जहाँ स्त्री ही स्त्री के प्राकृतिक अधिकार के लिए गौरा रूप में आंदोलित हो उठती है.
    पौराणिकता का आस्वादन कराती कविता पाठक को नितांत आधुनिक बोध तक ले आती है. टिपिकल अमृतमयी तन्मयी कविता.

    ReplyDelete
  15. पौराणिक कथा का काव्यात्मक रूप बहुत भाया । बहुत बहुत बधाई इ उत्कृष्ट सृजन हेतु ।

    ReplyDelete
  16. रति-पार्वती संवाद का मर्मस्पर्शी वर्णन किया है आपने।

    ReplyDelete
  17. पौराणिक कथा का बहुत ही सुंदर काव्यात्मक वर्णन,बेहतरीन सृजन

    ReplyDelete
  18. निःशब्द हूँ आपकी इस रचना पर।
    जितनी बार भी पढ़े इस रचना को आपकी विलक्षण लेखन प्रतिभा को नमन किये।
    प्रणाम स्वीकार करें।
    सस्नेह
    सादर।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुंदर काव्यात्मक रचना , अति उत्तम, सादर नमन

    ReplyDelete
  20. वा...व्व...बहुत ही सुंदर सृजन, अमृता दी।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर, सत्य ही बहुत सुंदर सृजन । अभिनंदन-वर्षा आप पर इस प्रयास हेतु ।

    ReplyDelete
  22. आपकी विलक्षणता व प्रगाढ लेखन को नमन। शब्द विहीन हूँ, मौन मूकद्रष्टा सा अपलक पढता गया बस।।।।।।
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीया अमृता तन्मय जी।

    ReplyDelete