Social:

Tuesday, February 9, 2021

क्षणिकाएँ .........

दर्द के दरारों से 

रिसते जख्मों को 

वक्त के मलहम से छुपाना

नाकाम कोशिशें ही

साबित होती है


     ***


कभी-कभी 

कतरनों को कुतरने में

दिल को जितना सुकून मिलता है

उतना तो पूरा मज़मून

हज़म कर के भी नहीं मिलता है 


     ***


दूसरों के अफवाहों में

अपनी मौजों का

घुसपैठ कराना

रेत पर गुस्ताखियों का

सैलाब लाने जैसा है


     ***


हर हारे हुए खेल को

ताउम्र खेलने में

जो मजा है

वो किसी भी

जबर जीत में नहीं है 


     ***


छिने हुए को

वापस छिनने की 

खूबसूरत जिद भी

दिल को गुमराह 

करने के लिए काफी है .

20 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज मंगलवार 09 फरवरी 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. दूसरों के अफवाहों में

    अपनी मौजों का

    घुसपैठ कराना

    रेत पर गुस्ताखियों का

    सैलाब लाने जैसा है

    अनमोल वचन..
    सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  3. कभी-कभी, कतरनों को कुतरने में
    दिल को जितना सुकून मिलता है
    उतना तो पूरा मज़मून
    हज़म कर के भी नहीं मिलता है...
    .....फिलासाफिकल व शानदार दर्शन।।।।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर क्षणिकाएं..सारगर्भित तथ्यों की सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  5. सभी ही खूबसूरत है लाजवाब , बहुत ही पसंद आयी, शुक्रिया आपका बधाई हो नमन

    ReplyDelete
  6. वाह। क्या खूब लिखा है आपने।🌻

    ReplyDelete
  7. कभी-कभी

    कतरनों को कुतरने में

    दिल को जितना सुकून मिलता है

    उतना तो पूरा मज़मून

    हज़म कर के भी नहीं मिलता है -----वाह बहुत खूब।

    ReplyDelete
  8. आह्हा! वाहः!
    आपकी लेखनी बेमिसाल है
    उम्दा सृजन हेतु हार्दिक बधाई और साधुवाद

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर सृजन

    ReplyDelete
  10. दिल की गहराई से से निकली हुई पीड़ा की खनक बहुत मीठी ही होती है

    ReplyDelete
  11. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 10.02.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. वाह!गज़ब का सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  13. सभी क्षणिकाएँ अपने-अपने अर्थ को जी रही हैं. यह तो बरबस हँसी तक ले आती है-

    कभी-कभी
    कतरनों को कुतरने में
    दिल को जितना सुकून मिलता है
    उतना तो पूरा मज़मून
    हज़म कर के भी नहीं मिलता है
    वाह!

    ReplyDelete
  14. सीधे अन्तर्मन में पैठ जाने वाली खूबसूरत और सशक्त क्षणिकाएं।

    ReplyDelete
  15. दिल को छूती बहुत सुंदर क्षणिकाएं,अमृता दी।

    ReplyDelete
  16. वाह अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  17. सभी ही खूबसूरत क्षणिकाएं

    ReplyDelete