Social:

Tuesday, May 6, 2014

आग चाहिए ......

                  और ये चिलम सुलगता रहे
                  इसके लिए तो आग चाहिए
                   होश पूरी तरह से खोना है
                   तो भी एक जाग चाहिए

                   ये न जन्नत में मिलती है
                    न ही जलूम जहन्नुम में
                   न ही मदहोश महफ़िल के
                तराशा हुआ किसी तरन्नुम में

                  गर तरस कोई खाये भी तो
                   कर्ज़ बतौर दे नहीं सकता
                 कमबख़्त चीज ही ऐसी है कि
                 कसम दे कोई ले नहीं सकता

                  ये एक तल्ख़ तलब है हुजूर
               जो तबियत लगाने से मिटती है
                 जब तबियत कहीं लग जाए
                  तो ये खुद-ब-खुद जलती है

                   फिर तो ये जली हुई आग
                    किसी को क्या बुझाएगी
                    खुद धुआँ को जज्ब कर
                    बस रोशनी ही सुझाएगी

                  ये चिलम बस सुलगता रहे
                  उसके लिए तो आग चाहिए
                   होश पूरी तरह से खो जाए
                    तो भी एक जाग चाहिए.

28 comments:

  1. वाह !
    बहुत गहरी गहराई है
    बस चिलम सुलगाने
    के लिये आग लाई है
    फलसफा इतने तक
    बहुत अच्छा होता है
    कोयला ये ना कह बैठे
    सारी हो गई सफाई है । बहुत उम्दा ।

    ReplyDelete
  2. ये एक तल्ख़ तलब है हुजूर
    जो तबियत लगाने से मिटती है
    जब तबियत कहीं लग जाए
    तो ये खुद-ब-खुद जलती है

    बहुत खूब..जो खुद बखुद जले वही टिकती है..

    ReplyDelete
  3. ये आग बस अपने अन्दर ही होती है ... इसे जलाना भी खुद ही होता है ... और ये सच है की उसके लिए जागना पढता है ... लड़ना होता है ...

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. ये तल्ख़ तलब लगने में सदियों लग जाते हैं... बस जागने भर की देर है .....................

    ReplyDelete
  6. हो श पूरी तरह से खोना है
    तो भी एक जाग चाहिए
    ................. क्‍या बात है बहुत सही कहा आपने

    ReplyDelete
  7. ये एक तल्ख़ तलब है हुजूर
    जो तबियत लगाने से मिटती है
    जब तबियत कहीं लग जाए
    तो ये खुद-ब-खुद जलती है



    और वो सुलगती है तंबाकू की तरह
    ठूंस कर दबाई गई तल्खियां
    जिनका नशा ही दर्द से निजात दिलाता है
    नीम बेहोशी में लगता है कोई बुलाता है

    बेहतर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. बेहद उम्दा...

    ReplyDelete
  9. फिर तो ये जली हुई आग
    किसी को क्या बुझाएगी
    खुद धुआँ को जज्ब कर
    बस रोशनी ही सुझाएगी

    बहुत खूब ....दमदार अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. इस चिलम की सुलगन उस आग की देन ही तो है - धुआँ जज़्ब कीजिए , जगाए रहिए बराबर !

    ReplyDelete
  11. विशेष सूचना टिप्पणी
    हिन्दी ब्लॉग जगत की आवश्यकताओं के अनुरूप ब्लॉगसेतु टीम द्वारा ब्लॉगसेतु नाम से एक नए ब्लॉग एग्रीगेटर का निर्माण आपके विचारों को ज्यादा से ज्यादा व्यक्तियों तक पहुंचाने के लिए किया गया है. अतः आपसे विनम्र प्रार्थना है कि आप अपने ब्लॉग को इस ब्लॉग एग्रीगेटर से जोड़ कर हमें कृतार्थ करें.
    http://blogsetu.com/

    ReplyDelete
  12. उद्वेलित करते भाव.......

    ReplyDelete
  13. चिलम के शौक़ीन तो बस यही कहेंगे कि आग जलती भी रहे, धुआँ भी उठता रहे..बस एक ‘साफी’ का इंतज़ाम हो जाये.

    ReplyDelete
  14. मिचमिचाये आँख कि बन्द हो मुठ्ठियाँ , आग जलती रहनी चाहिए !
    प्रेरक !

    ReplyDelete
  15. जब तबियत कहीं लग जाए
    तो ये खुद-ब-खुद जलती है

    बहुत खूब.....!!

    ReplyDelete
  16. http://bulletinofblog.blogspot.in/2014/05/blog-post_7.html

    ReplyDelete
  17. आग लगी है चिलम को खींचा जा रहा है पर जागरण में कमी दिखती है।

    ReplyDelete
  18. वाह-वाह क्या बात है। उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  19. वाह बहुत लाजवाब रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब.....लाजवाब रचना.

    ReplyDelete
  21. वाह ! क्या बात है ! यह आग हर सीने में जलनी चाहिये जो हर दिमाग को रोशन कर सके ! एक बहुत ही सशक्त रचना !

    ReplyDelete
  22. ये एक तल्ख़ तलब है हुजूर
    जो तबियत लगाने से मिटती है
    जब तबियत कहीं लग जाए
    तो ये खुद-ब-खुद जलती है
    बहुत खूब। ये आग ही है जो कुछ कर गुजरने का जज्बा देती है।

    ReplyDelete
  23. वाह रे चिलम की आग !!

    सुंदर !! बेहतरीन !!

    ReplyDelete
  24. Waah waah kya nshe ki aalam hai mubarak
    .........

    ReplyDelete
  25. आग न हो तो शायद दुनिया के किसी भी शिखर को हासिल नहीं किया जा सकता..आपकी इस कविता को पढ़ दुष्यंत कुमार की कविता की पंक्तियां भी बरबस याद आ रही हैं- मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही..हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिये।। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  26. तबियत से भी तल्ख तलब लगती है जिसका रूपक आपकी कविता में है.

    ReplyDelete
  27. आग तो है पर शायद उसे भड़काने के लिए हवा की कमी सी लगती है।

    ReplyDelete
  28. अच्छी रचना।

    ReplyDelete