Pages

Sunday, December 8, 2013

मेरा एक काम .....

                                     फूल भी तुम्हारा
                                    चरण भी तुम्हारा
                                     शीश जो चढ़ाऊँ
                                    शरण भी तुम्हारा

                                     चलूँ तो तुममें
                                      बैठूँ तो तुममें
                                      रूक जाऊँ तो
                                     ऐंठूँ भी तुममें

                                      खाऊँ तो तुम्हें
                                      पियूँ तो तुम्हें
                                       श्वास भी लूँ
                                      तो जियूँ तुम्हें

                                        चुप तो तुम
                                        बोलूँ तो तुम
                                        रूठूँ तुम्हीं से
                                        मानूँ तो तुम

                                       ओढ़नी भी तू
                                      बिछौनी भी तू
                                      सोऊँ तो उसमें
                                      मिचौनी भी तू

                                      आकाश भी तेरा
                                       सागर भी तेरा
                                        मिट्टी का सब
                                        गागर भी तेरा

                                          हवा भी तू
                                         आग भी तू
                                      सब को पिरोता
                                         ताग भी तू

                                       माया भी तुम
                                       मोह भी तुम
                                      मिलन तुम्हीं से
                                      बिछोह भी तुम

                                       दुविधा भी तुम
                                      सुविधा भी तुम
                                        विष के बीच
                                        सुधा भी तुम

                                        प्रश्न भी तुम
                                       उत्तर भी तुम
                                        पूछूँ कुछ तो
                                      निरुत्तर भी तुम

                                       मिथ्या भी तुम
                                        सांच भी तुम
                                      रस से पिघलाते
                                        आंच भी तुम

                                        नया भी तू
                                       पुराना भी तू
                                      बाँचने के लिए
                                       बहाना भी तू

                                      कोई भी नाम
                                       तेरा ही नाम
                                     पुकारा तुम्हें ही
                                       मुझे तू थाम

                                      तुम्हें ही रोया
                                      तुम्हें ही गाया
                                      तड़प को चैन
                                     तनिक न आया

                                      ना दो आराम
                                     पर लो प्रणाम
                                     तुझे ही जपना
                                     मेरा एक काम .

27 comments:

  1. प्रेम का यह जाप कितना सरल, प्रेमिल है।

    ReplyDelete
  2. ना दो आराम
    पर लो प्रणाम
    तुझे ही जपना
    मेरा एक काम .

    वाह ...प्रेम अविराम की सुंदर कथा ...

    ReplyDelete
  3. pick of devotion and dedication towords love so deep emotions

    ReplyDelete
  4. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने..

    ReplyDelete
  5. आत्मसमर्पण...पूर्णरूपेण ..!!!!

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. होने व न होने के बीच हर उस स्पंदन में तुम ही तो हो .....तुम में तुम तक की यात्रा हर उस आकाशगंगा से बड़ी है ..जो अपने को असीम कहता है...

    ReplyDelete
  8. किसी के प्रेम में डूबकर प्रेम से लिखा हुआ... बेहतरीन रचना .....!!

    ReplyDelete
  9. :) बहुत सुंदर हैं
    जय श्री राम !

    ReplyDelete
  10. बहुत उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    ReplyDelete
  11. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  12. दुविधा भी तुम
    सुविधा भी तुम
    विष के बीच
    सुधा भी तुम

    वाह बहुत सुन्दर समर्पण भाव अमृता जी

    ReplyDelete
  13. वही वही है सब ओर वही .... प्रति की रीत बताये यही

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरेया-

    ReplyDelete
  15. गज़ब गज़ब …………सूफियाने रंग में रंगी ये पोस्ट शानदार है । तू ही तू रहे बाकि न मैं रहूँ न मेरी आरज़ू रहे ..................

    ReplyDelete
  16. प्यार का यह सरल जाप यूं ही बना रहे क्यूंकि यही प्यार विश्वास है। इसलिए ... ना दो आराम पर लो प्रणाम...:))

    ReplyDelete
  17. प्रेम में एकाकार, सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब तू ही दीखता है ,

      बस तू ही दीखता है ,


      तू ही रीझता है ,बस तू ही रीझता है ,

      बस तू ही तू है ,मैं भी तू है। तू भी मैं है

      Delete
  18. मैं भी तुम ,तुम भी ,

    तुम -

    तुम ही तुम।

    जित देखूं तित लाल।

    ReplyDelete
  19. यही है कृष्ण भावनामृत ,कृष्ण भावनाभावित मन।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर भाव ....स्वीकार्यता और समर्पण की हर सीमा के पार ...

    ReplyDelete
  21. आस्था ऐसी हो तो हर क्षण अवलम्ब है. अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सहज और सशक्त रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  23. तुम ही हो ... सब कुछ तू ही तू मैं भी तू ... निरंतर बजता नाद ...

    ReplyDelete
  24. प्रश्न भी तुम ...उत्तर भी तुम ...पूछूँ कुछ तो ... निरुत्तर भी तुम

    बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति है ... बधाई स्वीकार करें ...


    ReplyDelete
  25. तुम्हें ही रोया
    तु्म्हें ही गाया
    यह भाव रिमार्केबल है.दृष्य से अदृष्य तक के साथ एकाकार होने की प्रबल अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete