Pages

Monday, December 23, 2013

इतनी अकल तो....

आदमी में
इतनी अकल तो
जरूर है कि
जंगल होकर भी
आदमी की खाल
आसानी से
पहन सकता है
और अपनी
सभ्यता के बढ़ते
जंगली घास में
छोटा सा ही सही
बाड़ लगा सकता है
या इंसान बनकर
सभ्येतर दहाड़ों को
आगे बढ़कर खुद ही
पछाड़ लगा सकता है......
आदमी में
इतनी अकल तो
जरूर है कि
खून से सने
अपने जबड़ों को
कोमल पत्तियों से
बहला सकता है
और किसी
खरोंच की खोज में
झपटने को बेचैन
भीतर छिपे सारे
सांप-सियार
भेड़िया-गिद्ध को
किसी भी लोथड़े पर
यूँ ही टूट पड़ने से
बहुत हद तक
बचा सकता है.....
लगता तो है कि
आदमी में
इतनी अकल तो
जरूर है कि
वह स्वार्थ को
साधते हुए भी
पुरुषार्थ का खाल
आसानी से
पहन सकता है
और मन-ही-मन
अपना नाम
सिद्धार्थ रखकर
दिखावे के लिए
थोडा-बहुत ही सही
परमार्थ तो
जरूर कर सकता है
फिर अपने अनुसार
शब्दों का
शब्दार्थ भी
बदल सकता है........
तब आदमी क्या ?
और जंगल क्या ?
बस मौके-बे-मौके
पोल-पट्टी न खुले
इतनी उम्मीद तो
अब आदमी
अपने अकल से
जरूर लगा सकता है
और अपनी खाल में
पूरे जंगल को
किसी भी बाजार में
आसानी से
जरूर चला सकता है.......
आदमी में
इतनी अकल तो
जरूर है कि.......

29 comments:

  1. हाँ इतनी अकाल तो ज़रूर है...पर क्या इसकी वाकई ज़रूरत है...

    ReplyDelete
  2. सच है, इतनी अकल तो है आदमी में जो प्रकृति में विकृति उत्पन्न कर सकता है।

    ReplyDelete
  3. आदमी में बहुत अकल है उस सब को बहुत करने की जो नहीं होना चाहिये कहीं !

    ReplyDelete
  4. व्यंग्य की पैनी धार। आदमी के आदमी हेने पर प्रश्नचिन्ह। अज्ञेय जी के 'सांप' कविता की याद आई।

    ReplyDelete
  5. पोलपट्टी भले ही न खुले सबके सामने पर आदमी को एक और अदालत में भी जाना पड़ता है...अब आदमी है तो कैसा न कैसा दिल तो उसके पास है ही, उसी दिल की अदालत में जहां धरे रह जाते हैं सारे उपाय...

    ReplyDelete
  6. आदमी में इतनी अकल तो जरुर है.. पर कुछ में अकल का अकाल हमेशा रहता है...
    आपने एकदम सही कहा..

    ReplyDelete
  7. इसी अकल में तो आदमी सबसे खतरनाक होता है
    जानवर भी उसकी चाल से खौफ खाता है

    ReplyDelete
  8. अकाल सिर्फ आदमी में ही है ... वो सबको पछाड़ रहा है ... पर क्या प्राकृति से लड़ पायेगा ... अंत क्या होने वाला है ये सोच कर प्राकृति मुस्कुरा रही है ... क्या वो देख पा रहा है ...

    ReplyDelete
  9. हां इतनी तो है ही कि खुद के मनुष्‍य नहीं रहने पर भी मनुष्‍येतर होने का ढोंग किए जा रहे हैं और कम से कम सूत का व्‍यापार बढ़ाने में तो सहायक बन ही रहे हैं।

    ReplyDelete
  10. अजी इतनी उतनी क्या आदमी में अकल तो बहुत है मगर उसका सही इस्तेमाल करे तब न कुछ बात बने...वरना एसी अकल से तो बेअक्ल ही अच्छे...

    ReplyDelete
  11. आदमी को मयस्सर नहीं इंसा होना .....यही कहावत याद आ रही है ...काश इस ऊर्जा का हम सकारात्मक प्रयोग कर पाते तो अपनी धरा को स्वर्ग बनाते ...!!

    ReplyDelete
  12. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २४/१२/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी,आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  13. जरूरी है और है भी आदमी में इतनी अकल ! प्रकृति सब देखती है मगर !
    बाकी पढ़ते चकराये बहुत !

    ReplyDelete
  14. अकल है उसमे तो कुछ उम्मीद तो की ही जा सकती है इस इंसान से... सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  15. बहुरूप है आदमी में और आदमी में बहुरूपिया. देखकर जिनके रूप, कर्म, मिलता है जीवन दर्शन. अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  16. कि ...दोहन में जुटा रहे बस..... एकदम सटीक ..

    ReplyDelete
  17. अपना नाम
    सिद्धार्थ रखकर
    दिखावे के लिए
    थोडा-बहुत ही सही
    परमार्थ तो
    जरूर कर सकता है बहुत सुंदर ..... गहन अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  18. सही कहा आपने

    ReplyDelete
  19. behad khoobsurat ! andar ke asli jaanwar ko chupakar rakhne ke liye aadmi ki khaal pehan rakhi hai aaj ke aadmi nein, kitna akalmand hai

    ReplyDelete
  20. कुछ नहीं कहने को आजकल तो बस मंत्रमुग्ध सा पढ़ जाता हूँ आपको । व्यंग्य भी है सच्चाई भी है । हैट्स ऑफ इसके लिए |

    ReplyDelete
  21. bahut hi umda likha hai aapne.. badhaai..
    Please visit my site and share your views... Thanks

    ReplyDelete
  22. आदमी में अक्ल तो है मगर उसे स्वार्थ सिद्धि में झोंक कर बुद्धिमान समझ बैठा है खुद को .... तीखा वार

    ReplyDelete
  23. आदमी की सारी उम्र गुज़र जाती है और वह ऐसी अक्ल में ही उलझा रह जाता है.

    ReplyDelete
  24. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
  25. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete