Pages

Wednesday, July 17, 2013

मिड डे मील से बच्चों की मौत पर ....

ओ ! आसमान के रखवाले
तुम्हारे मौसम तक
जमीन को किया है
तुम्हारे ईमान के हवाले...

चाहे तो तू
जमीन का खून पी ले
या उसे पूरा ही खा ले
पर उनकी बददुआ
तुम तक ही जायेगी
और तुम्हें जब
जख्म मिलेगा तो
कोई भी मरहम-पट्टी
तुम्हारे काम न आएगी....

थोड़ी शर्म कर !
अपनी जमीर की सुन !
इन्सानियत के नाते ही सही
तू उनकी बददुआ ना ले...

याद रख !
जमीन जब फटेगी तो
तुझे ही निगल जायेगी
तब उस खिचड़ी की याद
तुम्हें बहुत रूलायेगी
जिससे ललचाकर
तुम आसमान बन जाते हो
और भरे मौसम में भी
जमीन पर सिर्फ
सूखा ही उगाते हो....

ऐसी पढ़ाई से तो
वो अनपढ़ भला
जो खिचड़ी न खा कर
अपने घास-पात पर है पला...

अब जाओ !
उन सूनी गोद को
कुछ मुआवजा से भर दो
अगले मौसम की भी
तैयारी करनी है तो
हर लाश पर
एक झाड़ूमार नौकरी के साथ
खून टपकाता हुआ
एक घर दो .

38 comments:


  1. अफरा-तफरी मच गई, खा के मिड-डे मील |
    अफसर तफरी कर रहे, बीस छात्र लें लील |

    बीस छात्र लें लील, ढील सत्ता की दीखे |
    मुवावजा ऐलान, यही इक ढर्रा सीखे |

    आने लगे बयान, पार्टियां बिफरी बिफरी |
    किन्तु जा रही जान, मची है अफरा तफरी ||

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  3. हर लाश पर
    एक झाड़ूमार नौकरी के साथ
    खून टपकाता हुआ
    एक घर दो .

    सशक्त लेखन .....
    हृदय विदारित करती पंक्तियाँ .....

    ReplyDelete
  4. पिछले साल गाँव पांच साल बाद गया था तो मेरे मध्य विद्यालय का स्वरुप बिलकुल बदला हुआ था. नवीन भवन और साथ में एक छोटा सा घर जिसपर बड़े-बड़े अक्षरों से लिखा हुआ था-पाकशाला. वहां के हालात देखे तो तभी लगा था कि गंदगी कोई हादसा बन न उभरे. अभी यह जान बहुत दुःख हुआ. मुवाअजा मिलने के बाद शायद परिवार वाले चुप हो जाएँ लेकिन जो चले गए .........

    ReplyDelete
  5. मार्मिक, गरीबों का हाय से लौह भस्म हो जाए...
    आभार

    ReplyDelete
  6. अब जाओ !
    उन सूनी गोद को
    कुछ मुआवजा से भर दो
    अगले मौसम की भी
    तैयारी करनी है तो
    हर लाश पर
    एक झाड़ूमार नौकरी के साथ
    खून टपकाता हुआ
    एक घर दो .

    सत्य को कहती मार्मिक पंक्तियाँ ..... मुआवजा दे कर सरकार अपनी जिम्मेदारिसे मुक्त हो जाती है ।

    ReplyDelete
  7. मार्मिक, आपकी यह रचना कल गुरुवार (18-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  8. दुखद .....जीवन का मोल ही नहीं है जैसे..... संवेदना लिये भाव

    ReplyDelete
  9. बेहद सटीक रचना और कुछ बच्चों को पटना इलाज़ के लिए भेजना पढ़ा
    पता नहीं सरकार और अधिकारी कब समझेगें आम इंसान के दर्द को

    ReplyDelete
  10. बेहद दर्दपूर्ण.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. हमारे देश में हर सरकारी योजना फेल है चाहे वह मिड डे मील हो, चाहे प्रौढ शिक्षा, चाहे सर्व शिक्षा। सरकार अपने चमचों को पालने के लिए और खुश करने के लिए योजनाओं को चलाती है। और खेल खेलती है सामान्य जनता के जीवन और गरीब जनता के साथ, बच्चों की जान के साथ खिलवाड होता है। बस सभी मुआवजा मिले तो खुश। पर जिनको इस घटना से गुजरना पडा है वह दुबारा अपने बच्चों को ऐसा खाना खिलाने की इजाजत नहीं देंगे। हमें सोचना है भाई अपने देश में बच्चे अपने बलबूते और भरौसे जने सरकार के नहीं। सरकार तो .... है। समझ ले मिड डे मील स्कूली बच्चों के लिए मजाग है। उससे दूर रहने में ही भलाई है।

    ReplyDelete
  12. उफ़ ! हृदय विदारक पंक्तियाँ, इन्सान के गिरने की कोई सीमा नहीं..

    ReplyDelete
  13. एक ह्रदयविदारक घटना को ऐसे भी
    शब्दों में बांधा जा सकता है।
    बहुत सुंदर..

    ReplyDelete
  14. ये सब युज्नाएं बस अपनों का पेट भरने के लिए होती हैं ... ये नाता तो किसी का भला कर ही नहीं सकते ... अफ्सोसो होता है ऐसे हालात देख के ... शर्म इनको मगर नहीं आती ...

    ReplyDelete
  15. एक बेदना के साथ लिखी गयी पंक्तियाँ ...मन को चिंतन के लिए बिबश कर देती हैं ...आपकी कविता की ताजगी मेरे हमेशा से मेरे बिशेष आकर्षण का केंद्र रही हैं ..हार्दिक बधाई और हार्दिक शुभकामनाओं के साथ ..सादर

    ReplyDelete
  16. मर्मस्पर्शी चित्रण , दुखद .

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ......दुख है सब ओर, चूर-चूर हैं प्राण
      ......फिर भी हो रहा है भारत निर्माण

      Delete
  18. बहुत दुखद मर्मस्पर्शी चित्रण ,.

    RECENT POST : अभी भी आशा है,

    ReplyDelete
  19. दुखद घटना, मन भीग गया..

    ReplyDelete
  20. सही आक्रोश
    जमीन जब फटेगी तो
    तुझे ही निगल जायेगी
    तब उस खिचड़ी की याद
    तुम्हें बहुत रूलायेगी
    जिससे ललचाकर
    तुम आसमान बन जाते हो
    और भरे मौसम में भी
    जमीन पर सिर्फ
    सूखा ही उगाते हो..


    कब स्थिति बदलेगी ?????

    ReplyDelete
  21. याद रख !
    जमीन जब फटेगी तो
    तुझे ही निगल जायेगी
    तब उस खिचड़ी की याद
    तुम्हें बहुत रूलायेगी
    जिससे ललचाकर
    तुम आसमान बन जाते हो
    और भरे मौसम में भी
    जमीन पर सिर्फ
    सूखा ही उगाते हो....


    करेंगे सो भरेंगें कर्मों का खाता साथ जाता है तिहाड़ खोरों भले आज तिहाड़ को महा तीर्थ समझ लो और मुआवज़े को सौगात .

    ReplyDelete
  22. सामाजिक न्याय, भारत निर्माण व सुशासन का दम भरने वाले लोग कहाँ हैं ? सब एक दूसरे के मुंह पर कालिख पोतने में लगे हुए हैं.... बढ़िया पोस्ट...

    ReplyDelete
  23. दिल से निकले लफ्ज़.......बहुत दर्दनाक

    ReplyDelete
  24. बेहद दर्दनाक .

    ReplyDelete
  25. दर्दनाक घटना...........इस तरह की घटनाओं के बाद भी सरकार मुआवजे देकर अपना पल्ला झाड़ लेगी लेकिन उस माँ का दर्द कौन समझेगा...................

    ReplyDelete
  26. ये हादसों का देश है...हम यहाँ ताश के पत्ते से फेंटे जाते हैं और वक़्त की बिसात पे राजनिततेगयून व शशनाध्यक्षों के हाथ के मोहरे...हम सिर्फ मोहरे हैं और कुछ नहीं...
    बहुत ही दर्दनाक वर्णन अमृता ...हृदय से उमड़ित और मन को उद्वेलित करती हुयी कविता...

    ReplyDelete
  27. ढूलकी पड़ी जिन्दगी ना देख पाने की तमन्ना।
    बिछुड़े प्यारों ने पथराई आँखों के सपने थे टूटे। ~ प्रदीप यादव ~

    ReplyDelete
    Replies

    1. बिछुड़े प्यारों के पथराई आँखों में सपने थे टूटे।
      कृपया ,इस तरह पढ़ें

      Delete
  28. निसंदेह साधुवाद योग्य रचना....

    ReplyDelete
  29. बहुत व्यथित हूँ इस घटना से...और आपके इस कविता ने और भी दुःख गुस्सा बढ़ा दिया है :(

    ReplyDelete
  30. हृदय को कहीँ गहरे तक मथ देनेवाली रचना । उन माँओँ का दर्द कौन समझेगा ? ऐसी घटनाओँ के बाद भी क्या ?

    ReplyDelete
  31. प्रधानाध्यापिका के घर हर महीने दस हज़ार पहुँचाने की मशीन है मिड-डे मील.

    ReplyDelete