Pages

Wednesday, June 5, 2013

वह प्रसून-प्रसूता है ...




वह अकेली है
छबीली है
निगरी है
निबौरी है
जितनी कोमल
उतनी जटिल
जितनी सहज
उतनी कुटिल
तरल-सी है
पर जमी हुई
पिघला कर
बहा देती है
अपने किनारे
लगा लेती है
निचुड़ कर
निचोड़ लेती है
शब्द-सिन्धु में
अक्षर-हंस सा
छोड़ देती है...

वह अकेली है
हठीली है
निहत्थी है
निरंकुश है
विरोधी यथार्थ का
प्रतिरोध करती है
जोखिम उठाकर
शिकार बनाती है
मुटभेड़ से
कोहराम मचाती है
घमासान का
घाव सहलाती है
विवशताओं के बीच
जगह बनाती है
असहमत होकर
उम्मीद जगाती है
व्यवहार-आग्रह से
नया छंद खोजती है
घोर असंतोष में
संतोष-गीत गाती है
नितांत बंजर पर
अमरबेल उगाती है...

वह अकेली है
उर्वीली है
नियोगी है
निरति है
हर चिंता की
वह चुनौती है
हारे मन की
वह मनौती है
पर काँटों के लिए
वह करौती है
वह प्रसून-प्रसूता है
हाँ! वह कविता है .

36 comments:

  1. नितांत बंजर पर
    अमरबेल उगाती है...यह प्रसून-प्रसूता कविता ह्रदय आपका ही तो है जो बहुत ही निराला,मतवाला,भावनाओं का रखवाला है।

    ReplyDelete
  2. ऐसा प्रवाह ....ऐसे शब्द ...ऐसे भाव ....!!!!.
    दिव्या कविता है ....अमृता जी ....कुछ भी कहना सूर्या को दिया दिखाने जैसा होगा ...!!

    ReplyDelete
  3. गजब, वह निर्द्वन्द्व पटल पर उभरती है और अपनी बात कह जाती है।

    ReplyDelete
  4. वह अकेली है
    उर्वीली है
    नियोगी है
    निरति है
    हर चिंता की
    वह चुनौती है
    हारे मन की
    वह मनौती है
    पर काँटों के लिए
    वह करौती है
    वह प्रसून-प्रसूता है
    हाँ! वह कविता
    bahut kam sahbdon me bahut vishal abhivyakti .badhai amrita ji .

    ReplyDelete
  5. आपकी यह रचना कल मंगलवार (बृहस्पतिवार (06-06-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  6. शब्दों का सुन्दर प्रवाह..

    ReplyDelete

  7. सच कहा आपने यह प्रसून प्रसूता कविता ही है जो नितांत बंजर में भी अमरबेल उगाती है
    साभार!

    ReplyDelete
  8. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  9. कविता की क्षमता और शक्ति और स्वभाव का सुंदर चित्रण।

    ReplyDelete
  10. शब्द-सिन्धु में
    अक्षर-हंस सा
    छोड़ देती है...
    हाँ! वह कविता है .

    वाह् वाह्

    ReplyDelete
  11. हर शब्द एक स्पंदन ... धड़कता हुआ .....हर शब्द एक कविता ...मतवाली सी ....हर शब्द एक मंत्र ...भीतर गूंजता हुआ और हर शब्द से निखरता जीवन ....हम सब के आसपास....

    ReplyDelete

  12. हारे मन की
    वह मनौती है
    पर काँटों के लिए
    वह करौती है
    वह प्रसून-प्रसूता है
    हाँ! वह कविता है .-------

    सृजन का मर्म यही है

    सहजता से गहन मनन,चिंतन की बात कह दी है
    आपने
    बधाई

    आग्रह है
    गुलमोहर------

    ReplyDelete
  13. Bafhai. Pusupaji kah rah I hair.

    ReplyDelete
  14. काव्य का भाव-तरंग जोर से आ के बहा ले गया. हर शब्द में चुम्बकत्व है. बहुत अच्छा लगा पढ़कर.

    ReplyDelete
  15. सचमुच ही वह कविता ही हो सकती है ----कविता पर एक बेहतरीन कविता !

    ReplyDelete
  16. कविता को परिभाषित करती नई कविता

    latest post मंत्री बनू मैं
    LATEST POSTअनुभूति : विविधा ३

    ReplyDelete
  17. सारे विरोधाभासों को पार करके सबको अपने भीतर समेटे कविता अपना रास्ता तलाशती है..बहुत सुंदर अमृता जी..

    ReplyDelete
  18. 'घोर असंतोष में
    संतोष-गीत गाती है
    नितांत बंजर पर
    अमरबेल उगाती है...'
    संपूर्ण कविता उसका (कविता का) बखान कर रही है। खुबिया बता रही है। पर ऊपर चुनी हुई कविता की पंक्तियां अत्यंत उत्कृष्ट है। असंतोष में संतोष गीत गाना और नितांत बंजर धरती पर अमरबेल उगाना कविता ही कर सकती है। बिल्कुल पवित्र और सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  19. प्रवाहमयी रचना
    विरोधाभाष की अनुपम कृति

    ReplyDelete
  20. कविता के लिए इतने शब्द ......बहुत बढिया

    ReplyDelete
  21. सुंदर परिभाषा!

    ReplyDelete
  22. लाजवाब ......!!!!!!

    ReplyDelete
  23. शब्द-सिन्धु में
    अक्षर-हंस सा
    छोड़ देती है...
    सचमुच ऐसा ही लगता है...

    ReplyDelete
  24. हाँ हाँ, सच यही कविता है.........बेहतरीन अमृता जी हैट्स ऑफ

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत रचना, शानदार

    ReplyDelete
  26. हर चिंता की
    वह चुनौती है
    हारे मन की
    वह मनौती है
    पर काँटों के लिए
    वह करौती है
    वह प्रसून-प्रसूता है
    हाँ! वह कविता है .

    सचमुच यह कविता है

    ReplyDelete
  27. कविता को समझने और परिभाषित करने की उम्दा कोशिष.

    ReplyDelete
  28. वाह कविता खुद ही अपनी कहानी कह बैठी... बोत सुंदर जी.

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर.....और कुछ नहीं .....बस सुंदर...

    ReplyDelete
  30. वो ही भीतर है
    एक ज्योत जैसी
    कि प्रतिपल के
    घनघोर अँधेरे में
    है उजाला भरती।

    बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने।

    ReplyDelete