Pages

Saturday, June 15, 2013

इसलिए मैं रुकी हूँ ...

इसलिए मैं रुकी हूँ
कि मुझे तेल से पोसा हुआ
एक मजबूत डंडा चाहिए
और शोर-विहीन
बड़ा सा डंका चाहिए...
अपना हुनर तो दिखा ही दूंगी
व बड़े-बड़े महारथियों को
धकिया कर धूल चटा ही दूंगी..
हाँ! अपनी हिम्मत को बटोरने में
बस थोड़ी हिम्मत ही जुटानी है
फिर तो
अपना और अपने बाप का
टैक्स चोरी करने के लिए
किसी से कुछ पूछना थोड़े ही है
इसके लिए अपने को
कोई कच्चा-पक्का सा
आश्वासन ही तो देना है
और दुनिया को दिखाने के लिए
किसी भी नकली कार्ड पर
लम्बी लाईन में लगकर
सड़ा हुआ राशन ही तो लेना है.....
साथ ही उन आयकर वालों को
भुना हुआ चना बनाकर चबाना है
और किसी विशेष श्रेणी की
सारी सुविधाओं को कैसे भी जुटा कर
अपना एक सुरक्षा घेरा बनाना है
ताकि मैं दम भर चोरी कर सकूँ
सबके हिस्से का भी मजा लूट सकूँ....
दिल की कहूँ तो
विशुद्ध ईमानदारी भी तो कोई चीज़ है
इसलिए एक-दूसरे को
उस कटघरे से भी बचाना है
फिर तो हमारी तिजोरी देखकर
सब ज्यादा से ज्यादा यही कहेंगे कि
अपने सीधे किये आँगन में
हम खूबसूरत पैर वाले
ठुमकते-मटकते मोर हैं
और हमें भी अपना सच कहने में
कोई शर्म नहीं है कि
अब अपने हयादार हमाम में
हम सब वैसे नंगे तो नहीं हैं
पर चिलमन पर चिलमन चढ़ाकर
खुले चरागार में चरते हुए
बड़े ही चालाक चोर हैं .


35 comments:

  1. और हमें भी अपना सच कहने में
    कोई शर्म नहीं है कि
    अब अपने हयादार हमाम में
    हम सब वैसे नंगे तो नहीं हैं
    पर चिलमन पर चिलमन चढ़ाकर
    खुले चरागार में चरते हुए
    बड़े ही चालाक चोर हैं .

    बहुत ही सटीक व्यंग रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (16-06-2013) के चर्चा मंच 1277 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. करारा व्यंग्य. ‘पर्दानशीं’ लोगों को बहुत बढ़िया से बेपर्दा किया है. पर हम से ही कुछ हैं जो, जब-जब इनका चीरहरण होता है तो लम्बी से चादर ले आते हैं बाइज्ज़त इन्हें निकालने के लिए.

    ReplyDelete
  4. सारी पोल-पट्टी जानते-मानते हम सब चोर ही तो हैं !

    ReplyDelete
  5. व्यापक राजनीतिक कलेवर की बढ़िया पोस्ट जोरदार प्रहार संसदीय चोर उचक्कों पर आज इन्हीं से देश को खतरा है बाहर से नहीं है ...सदनों से ही है जहांस्कैम करैया बैठें हैं ....

    ReplyDelete
  6. व्यंग की तीखी धार .....बहुत बढ़िया और सटीक अमृता जी

    ReplyDelete
  7. .रोचक .सराहनीय प्रस्तुति आभार . मगरमच्छ कितने पानी में ,संग सबके देखें हम भी . आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN "झुका दूं शीश अपना"

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया अमृता जी ....तीखी धार ...सटीक

    ReplyDelete
  9. पर चिलमन पर चिलमन चढ़ाकर
    खुले चरागार में चरते हुए
    बड़े ही चालाक चोर हैं .

    सटीक ....धारदार व्यंग्य ...क्या कहा जाए ...!!

    ReplyDelete
  10. वाह अमृता जी, इस बार तो बहुत गहरी चोट की है..धारदार है आपकी रचना, पैनी और चुटीली..बधाई !

    ReplyDelete
  11. 'बड़े ही चालाक चोर हैं।' सहज सुंदर और वास्तव पर प्रकाश डालता व्यंग्य सबको झनझनाहट भरा थप्पड है। हर आदमी हमेशा छोटी-बडी बेईमानी कर अपना बचाने की कोशिश करता है। आत्मा तो कहती है कि मैंने अपराध किया है, चोरी की है पर जुबां कबुलती नहीं। सबकी तरफ से आपका कबुलीनामा पढते हम भी कबुल कर रहे हैं का एहसास होता है।

    ReplyDelete
  12. मन की कह दूँ,
    या
    तनिक और सह लूँ,

    ReplyDelete
  13. अमृता जी !गेंडे के चमड़ी में यह तीक्ष्ण व्यंग वाण भी नहीं घुसेगा
    latest post पिता
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  15. इन चालाक चोरों से ही तो खतरा सबसे ज्यादा है.

    ReplyDelete
  16. हिम्मत जुटाइये ... किस्मत अपने आप बन जाएगी ... आज तो बस जरूरत है बेशर्म होने की जितना ज्यादा .. उतना ही अच्छा ...

    ReplyDelete
  17. आप बहुत अच्छा लिखती हो
    राजनीति लेखन के लिए सबसे बेकार विषय है

    ReplyDelete
  18. Shandar karara byang. Jag ate chale.ham sabhi aapki aawaz ke saath gain.

    ReplyDelete
  19. धनविरक्ति की राह दिखाएँ
    वस्त्र पहन, सन्यासी के !
    राम नाम का ओढ़ दुशाला
    बुरे करम, गिरि वासी के !
    मन में लालच ,नज़र में धोखा, हाथ में ले रामायण गीत !
    श्रद्धा बेंचें,घर घर जाकर, रात में मस्त निशाचर गीत !

    ReplyDelete
  20. वाह...क्या सटीक व्यंग है...
    razor sharp.....

    anu

    ReplyDelete
  21. दिल की कहूँ तो
    विशुद्ध ईमानदारी भी तो कोई चीज़ है..
    ------------------------
    एकदम करारा.... धारदार ....

    ReplyDelete
  22. हौसला बना रहे

    ReplyDelete
  23. आपको नहीं लगता कि आपकी पुरानी कविताओं और इन कविताओं की प्रकृति में थोड़ा अन्तर आ गया है ? बहुत कुछ बदला सा लगता है. हो सकता है मैं गलत होऊ लेकिन इन कविताओं में लिखने का प्रयास दिखता है जो पहले नहीं था .

    ReplyDelete
  24. व्यंग्य बाण शानदार ।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही पैनी धार मारी है आपने अमृताजी । आपके जैसा हौँसला सबका हो तो बात बन सकती है । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  26. अमृता जी,

    किसी भी नकली कार्ड़ पर,

    सड़ा हुआ राशन ही तो लेना है..........

    क्या करारा थ्प्पड़ दिया है आप ने.......

    बिहार की राशन पणाली और चोरी को प्रस्तुत लाईनों में?

    मैंने तो खुद पटना रह कर यह सब देखा है जो आप ने इन प्रभाव पूर्ण कुछ पक्तियों में कह दिया है।

    आभार,

    विन्नी

    ReplyDelete
  27. गड्डमड्ड राजनीतिक हालातों को थूक-थपड़ा दिया है जोर से।

    ReplyDelete
  28. ब्लॉग बुलेटिन की ५५० वीं बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन की 550 वीं पोस्ट = कमाल है न मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  29. सुन्दर एवं सटीक रचना |

    ReplyDelete
  30. लाजवाब!! निशब्द हूँ पढ़कर। हम्माम में सभी नंगे हैं- ऐसा सुना था - मगर मुझे भी कभी कभार ऐसा प्रतीत होने लगा कि उस नग्नता से कुछ ज्यादा ही विकृत है आज की परिस्थिति। और फिर आपकी पंक्तियों ने बेहतरीन ढंग से सुलझा दिए मेरी उलझन।
    सादर

    ReplyDelete
  31. Are Babaa Re !!
    Kavita ka saundary jiski thi abhikalpana.
    Virangn Unmaad khoi bhavbhagima,Upma,
    aaj ki Amritaa toofaani ho gai,
    kis baat par Bhadki yeh vanita
    Kedaar se nikali ugr ho rahi Alknanda,
    zaroorat is andaaz ki thi dhany sabalaa,
    bani chndika,asur bhaybheet toh honge,
    gali sadee se ladanaa hain avshybhavi.
    kitu manohari shaasak jaisa kucha nahi haota,
    Jivikoparjan ka mahatv bhookh se kam nahi hota,
    maeri aadhi roti se ghar tera bhi chlaana,
    ladai mein pichhe mudo toh sath mujhe bhi apne hi Pana . ....Uttam Prayas Sadhoo Aa. Amrita Ji




    ReplyDelete