Pages

Tuesday, October 25, 2011

मैं...तन्मय

1.
मेरी मौन
साधना में
गूंजते हो तुम
ओSSम बनकर
मेरे साध्य
साधती हूँ तुम्हें
हर साँस पर
मैं तन्मय होकर .
 
 
२.
मैं मात्र
हूँ एक पात्र
जिसमें
भरे हो तुम
मैं तन्मय
हो गयी चिन्मय
और अमृत
मेरे हो तुम .
 
 
३.
तुम्हें
शब्दों में
बाँधने की
युक्ति है या
स्वयं से मुक्त
होने की है
याचना ज्योतिर्मय
जिससे मैं हो जाऊं
तुममें केवल तुममें
..................तन्मय .
 
 
4.
 
हर क्षण
जलती हूँ मैं
तन्मय होकर
आलोकित
होते हो तुम
मेरी
आभा बनकर.
 
 
                    ***  शुभ दीपावली ***
 
 
 

46 comments:

  1. नाम सार्थक करती कविता।

    ReplyDelete
  2. वाह ………बहुत सुन्दर भाव भरे हैं …………जहाँ मै का लोप हो जाये फिर सब राममय हो जाये……………आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. आप सब को दीपावली पर्व की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. तन्मात्रा हो हे सखी, शब्द, रूप, रस, गन्ध |
    सस्पर्श पञ्च-भूतियाँ, सांख्य मतों से बन्ध ||

    कार्य में अपने हे सखी, रहो सदा लवलीन |
    तन्नी नित खुरचा करे, मन-पट हुई मलीन ||

    ReplyDelete
  5. अनंत और उदात्त प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति. दीपावली के आलोकित त्योहार की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  6. वाह ...बहुत बढि़या ..

    दीपोत्‍सव की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  7. बहुत पावन सार्थक रचनाएं....
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर बधाईयां....

    ReplyDelete
  8. सुंदर अभिव्यक्ति
    आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  9. उत्कृष्ट भावों का समावेश!
    दीपावली की शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  10. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    ReplyDelete
  11. दीपावली की बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  12. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  13. Super Like this Fantastic poem!

    आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    Regards

    ReplyDelete
  14. तन्मयता से मौन साधना खुद ही मंत्र हो जाता है। दीपावली की सुभकामनाएं॥

    ReplyDelete
  15. शुभकामनाएं--

    रचो रँगोली लाभ-शुभ, जले दिवाली दीप |
    माँ लक्ष्मी का आगमन, घर-आँगन रख लीप ||
    घर-आँगन रख लीप, करो स्वागत तैयारी |
    लेखक-कवि मजदूर, कृषक, नौकर, व्यापारी
    नहीं खेलना ताश, नशे की छोडो टोली |
    दो बच्चों का साथ, रचो मिल सभी रँगोली ||

    ReplyDelete
  16. तन्मय... तन्मय... तन्मय ..बस तन्मय हो गया हूँ,अमृता जी.

    दीपावली के पावन पर्व की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    दिवाली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!

    ReplyDelete
  18. आपके पोस्ट पर आना बहुत अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  19. प्रेम जब इतना अथाह हो कि लोग अपना अस्तित्व भूलने को तत्पर हों..बहुत कम दिखता है, पर बहुत अनूठा अहसास होता है. बहुत ही सुन्दर रचना... दीवाली कि शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  20. बढिया प्रस्‍तुति


    दीप पर्व की शुभकामनाएं......

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर भाव ...

    दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  22. दीपावली के अवसर पर ज्योतिर्मय रचनायें...शुभ दीपावली...

    ReplyDelete
  23. I don't think myself to comment on your creation.. What the words..? Incredible..
    Heads of your creation..

    Very very -:HAPPY DIWALI:-

    ReplyDelete
  24. आपको दीपावली की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. ... शब्दों में बान्धने की युक्ति है ...
    बहुत सुन्दर! पर बन्धते भी तो नहीं!
    आपको, परिजनों और मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  26. तन्मयता से अमृत रस पिया . दीप -पर्व की असीम शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर ..
    .. आपको दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  28. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर
    दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  30. बहुत अच्छी व भावपूर्ण क्षणिकाएं
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की मंगल शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  31. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 27-10 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...

    ReplyDelete
  32. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएं .....'तन्मय' शब्द का बखूबी इस्तेमाल किया है आपने सबमे..........बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  33. आप को भी दिवाली, भाई दूज और नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  34. अन्‍नमय, मधुमय, शुभमय दीपावली.

    ReplyDelete
  35. वाह... ओम् से अमृत होने फिर ज्योतिर्मय होने की साधना बहुत प्रीतिकर है... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  36. वाह कितनी सुन्दर शुभकामना....अनिर्वचनीय ....अभिभूत करती -आपको भी दीपावली की अनंत अहर्निश शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  37. रवि को रविकर दे सजा, चर्चित चर्चा मंच

    चाभी लेकर बाचिये, आकर्षक की-बंच ||

    रविवार चर्चा-मंच 681

    ReplyDelete
  38. तुम तन्मय तो जग तन्मय ,सैदेव चेतन्य स्वरूप, सत चित आनंद .विचार कणिकाओं का सोता भाव बन फूटा और एकल धार में विलीन हो गया .

    ReplyDelete
  39. bahut hi sunder tanmay ..........shbdo ke saath badi khubsurti se deep jalay hai , aapki kavita me hame sunder eahsas karaye hai , kud jal kar jyout ko alokik karna ......... bahut khub . amrita ji badhai ho . har bar ek naya vichar naye shabdo ke saath . abhar .

    http/sapne-shashi.blogspot.com

    ReplyDelete
  40. इसलिए तो आपका नाम अमृता तन्मय है!!:)

    ReplyDelete
  41. वाह .... दिवाली का बेहतरीन तोहफा इन क्षणिकाओं के रूप में ...

    ReplyDelete
  42. achcha laga aapko padhkar..
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete