Social:

Friday, March 26, 2021

फागुन की रातें हैं ........

ललछौंहाँ लगन लगी है , उकसौंहाँ बातें हैं

पर कुछ कहते हुए अधर क्यों थरथराते है ?

फागुन की रातें हैं


यह किस बेबुझ-सा गान पर थिरक रहा मन ?

भ्रमरावलियों बीच कौन है वो अछूता सुमन ?

जो छू कर बेसुध स्वरों में रागों को है जगाता 

उसकी छुअन से सारे फूल भी खिल जाते हैं

फागुन की रातें हैं


अपने मधु-गंध से ही साँसों को महकाने वाला

अहम् रूप को भी पिघला कर पी जाने वाला

कमनीय कामनाओं को है जगाकर उकसाता 

पर बड़ी मीठी कटारी-सी ही उसकी ये घातें हैं

फागुन की रातें हैं


हवाओं की बाँहें फैला कर वो ऐसे बुलाता है

न चाहते हुए भी मन उसी ओर खींच जाता है

रंगरलियों की ये गलियां , बहार और मधुमास

अजब अनोखा भास में उलझाकर ललचाते हैं

फागुन की रातें हैं


उसकी निखरी निराली छवि कितनी न्यारी है

तरल-चपल सी गतिविधियां भी सबसे प्यारी है

उसके आगे संसार का सब रंग-रूप है फीका

उसको प्रतिपल अर्पित मृदु नेह मन को भाते हैं

फागुन की रातें हैं


जैसे शाश्वत वर सज-संवर कर उतर आता है

सप्तपदी पर अनगिन-सा भाँवर पड़ जाता है

और षोडशी षोडश-श्रृंगार करके है लजाती 

दोनों आलिंगित हो श्वासोच्छवास मिलाते हैं

फागुन की रातें हैं


लचकौंहाँ लगन लगी है, उलझौंहाँ बातें हैं

पर कुछ कहते हुए अधर क्यों थरथराते हैं ?

फागुन की रातें हैं . 

    

            *** होली की हार्दिक शुभकामनाएँ ***

*** फगुनाये आनन्द से उन्मत्त जनों को हार्दिक आभार ***

30 comments:

  1. ललछौंहाँ लगन लगी है , उकसौंहाँ बातें हैं
    फागुन की रातें हैं..
    इतनी खूबसूरती से मखमली अहसासों की रचना..बस आप ही कर सकती हैं । बेहतरीन और बस बेहतरीन..।।

    ReplyDelete
  2. लाजवाब हमेशा की तरह। होली शुभ हो।

    ReplyDelete
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(२७-०३-२०२१) को 'रंग पर्व' (चर्चा अंक- ४०१८) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  4. ललछौंहे लगन की उकसौंहा बातों से थरथराते अधरों पर फागुन की रातों का कहर!!!! वाह!अभिसार के अद्भुत श्रृंगार से रंगा प्रणयी जोड़े का प्रेम प्रहर!!! होली की शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  5. ललछौंहाँ लगन लगी है , उकसौंहाँ बातें हैं
    पर कुछ कहते हुए अधर क्यों थरथराते है ?
    फागुन की रातें हैं...
    इस रचना का उन्वान आपने बड़े ही बेहतरीन व प्रभावशाली तरीके से किया है। एक खिंचाव सा है इन पंक्तियों में।
    मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें। होली के समस्त रंग आपको वर्ष भर भिगोते रहें।

    ReplyDelete
  6. होली की शुभकामनाएं अमृता जी । फागुन के रंग में रंगे आपके इस प्रणय-गीत के क्या कहने ! यह हृदय के लिए है, वाणी के लिए नहीं ।

    ReplyDelete
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना आज शनिवार २७ मार्च २०२१ को शाम ५ बजे साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन " पर आप भी सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद! ,

    ReplyDelete
  8. अदभुत!! "फागुन की रात" की कितना सुन्दर और दिलकश अंदाज में पेश कर दिया आपने,बस निशब्द हूं क्या तारिफ करूं. ‌. आप को भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. लचकौंहाँ लगन लगी है, उलझौंहाँ बातें हैं
    पर कुछ कहते हुए अधर क्यों थरथराते हैं ?
    बढ़िया..
    आभार..
    सादर..

    ReplyDelete
  10. वाह! बहुत खूब । होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  11. मने हमको जोगीरा गाने का मन हुआ,इसी को कहते है होरियाना। उल्लास की ऋतु, रस दीक्षा का माध्यम। गज़ब लिखती हो आप।

    ReplyDelete
  12. आज तो रंग रंग बिखर रहा । फागुन की रातों के साथ पूरी ज़िंदगी के पल पल याद कर लिए । बहुत सुंदर रचना ।
    होली की शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  13. क्या बात है,अमृता जी ! अजब शब्द गज़ब अंदाज,
    होली तो पीछे छूट गई,कविता की खुमारी में ।
    प्रेम अगन है, प्रेम लगन है,लुट गए इस बीमारी में ।।
    आपके शब्द यह अहसास कराते हैं, कि सच ये फागुन की राते हैं । होली की हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई ।

    ReplyDelete
  14. ललछौंहाँ लगन लगी है , उकसौंहाँ बातें हैं
    Ahaaa!! प्रेमिल उन्मुक्त स्वीकारोक्ति फागुन की रातों के अभिसार की, श्रृंगार की, मनुहार की।। अविस्मरणीय रचना प्रिय अमृता जी इस प्रीत राग और होली के लिए ढेरों हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ❤❤🌹🙏🌹

    ReplyDelete
  15. हमेशा की तरह ही बेमिसाल, बहुत ही सुंदर रचना अमृता जी होली पर्व की आपको हार्दिक बधाई हो,नमन

    ReplyDelete
  16. फागुन में अनुरागी नायिका की तीव्र अनुभूतियों का बहुत सुंदर चित्रण. वाह!

    ReplyDelete
  17. फागुन की मस्ती में भीगी हुई रस से सिक्त सुंदर रचना ! होली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. बहुत ही खूबसूरत पोस्ट।
    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना...होली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर रचना...होली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  21. फागुन की मादक गंध से गमकती सुन्दर कविता. .

    ReplyDelete
  22. वाह! आज तो कलम भी ललछौंहां हुई जाती है।
    फाल्गुनी बयार से मदमस्त श्रृंगार सृजन मोहक रचना।
    सुंदर प्रस्तुति।
    होली पर हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  23. फागुन की रातें
    फागुन की रातों का खूबसूरत चित्रण
    क्या खूब सोच

    होली की हार्दिक। शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  24. फागुन की रातों का मूड अलग ही होता है ...
    पर शिद्दत बहुत होती है ऐसी रातों में ... जुदा अंदाज़ की रचना ...

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर मधुर रचना

    ReplyDelete
  26. This is good example of content writing, you have done good job, and I am expecting more Good content writing from you. I have also something to share here. satta king has turned into a real brand to win more cash in only a brief span. Subsequently, individuals are so inquisitive to think about the procedure of the game. Here we have brought a few procedures that will help you in understanding the best approach to gain cash by the sattaking. Also find the fastest satta king result & chart online at Online Sattaking

    ReplyDelete