Pages

Tuesday, March 12, 2013

एक युगंकर बन जाने दो ...


अनुभूति से
शब्द तक की
यायावरी यात्रा में
यंत्रणा-व्यूह में ही
उलझ जाने वालों ...
पंक्तियों के मध्य बचे
खालीपन में भी
याचित यातना को
ठूंस-ठूंस कर भरने वालों ...
कभी किसी शाम
अपनी यातना-यंत्रणा को
समय के सटर-पटर से
बलात छीनो , ले जाओ
अपने ही श्मशान घाट पर ...
कलेजे पर पत्थर डालो
मंत्रोच्चार करो , मुखाग्नि दो
अपनी नदी में डुबकी लगाकर
जितना हो सके शुद्ध हो ...
ओ! मेज़ के कोरों पर
सिर रखकर रोने वालों
फिर समय से संवाद करके
उसी की गोद में सोने वालों ...
कबतक यूँ ही
समय से
संपीडक संवाद करोगे ?
अपने साँसों के अंतराल को
व्यर्थ सुग-सुग से भरोगे ?
छोड़ो भी ये सब और
अपने विचार-पत्थरों को
जैसे-तैसे तैर जाने दो
चिंतन-कगारों को आपस में
कैसे भी टकराने दो
और हर एक आवेग को
उफनकर उलझ जाने दो ...
ये यायावरी यात्रा है तो
दिशा-भ्रम होगा ही
इसलिए दिशा को भी
यूँ ही भटक जाने दो ...
यदि कहीं
मील के पत्थर मिले तो
आकुल-व्याकुल भावों को
जरा सा अटक जाने दो ...
ये अनुभूति की जो
कई-कई योजन की दूरियाँ है
ये बामन मन
लांघ जाना चाहता है
मत रोको!
उसे लांघ जाने दो और
अपनी यायावरी यात्रा को
जितना हो सके
एक युगंकर बन जाने दो .

38 comments:

  1. बहुत सुन्दर और प्रभावशाली रचना.

    ReplyDelete
  2. यायावर तो अनुभूतियों के दिशा भ्रम में जीते हैं ...वे नहीं जानते कि किधर जाना है और क्यों जाना है ? बस वे चलते रहते हैं और सिर्फ चलते रहते हैं ... कितना बड़ा सच कह दिया आपने ?

    ReplyDelete
  3. मानव जीवन यात्रा यायावरी ही है
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (13-03-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
  5. यंत्रणा-व्यूह में ही
    उलझ जाने वालों ...
    अपनी यातना-यंत्रणा को
    मंत्रोच्चार करो , मुखाग्नि दो
    आकुल-व्याकुल भावों को
    मील के पत्थर मिले तो
    एक युगंकर बन जाने दो ....
    बहुत खूब !!
    उम्दा अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  6. रुको मत ...यायावर बढे चलो .....
    सार्थक सन्देश ...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  7. सुन्दर और प्रभावशाली रचना

    ReplyDelete
  8. जबरदस्त हौसला बांधती पंक्तियाँ । चरैवति चरैवति ...।

    ReplyDelete
  9. सकारात्मक भाव...... प्रेरणादायी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  10. मेज की कोरों पर रोने वाले अगर आत्म संधान करें तो इतना तो तय है जीवन-बैल जुआ लेकर आगे बढ़ जाएगा और छूट जाएगा युगंधर. कैक्टस पर चलते चलते यायावरी यात्रा को सार्थक करने और सच्चे युगंकर के निर्माण के लिए. आपकी कविताओं को पढ़ने का एक अनूठा आनंद है.

    ReplyDelete
  11. हम लाँघ नहीं पाते हैं, बस पतवार लिये अपनी छोटी डोंगी में बैठे हैं।

    ReplyDelete
  12. संश्लिष्ट भावों का अनूठाचित्रण!

    ReplyDelete

  13. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    ReplyDelete
  14. अपने दुःख दर्द ... यंत्रणा संवाद से खुद ही उभरना होता है ...
    खुद ही होम करके दुबारा उतरना रण में ... यही जीवन है ...

    ReplyDelete
  15. जो जारी रहती है यात्रा उसी को कहते हैं..बहुत प्रभावशाली रचना..

    ReplyDelete

  16. कसी हुई उत्कृष्ट प्रस्तुति-
    शुभकामनायें आदरेया-

    ReplyDelete
  17. युगंकर शब्द का बढ़िया प्रयोग .शुभंकर को बहुत पीछे छोड़ गया है भाव सांद्रता को बांधे रचना आखिर तक चली आई है .

    ReplyDelete
  18. एक बार पढ़ ली है। दोबारा पढ़ कर टिप्‍पणी करुंगा। यूं ही टीका नहीं करना चाहता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सदा-सदा करने अमर
      जीवन-साहित्‍य की डगर
      है आपका यह प्रयास,
      आत्‍मप्रेरित और आत्‍मप्रवर।

      Delete
  19. अपनी नदी में डुबकी लगाकर
    जितना हो सके शुद्ध हो ..


    ये अनुभूति की जो
    कई-कई योजन की दूरियाँ है
    ये बामन मन
    लांघ जाना चाहता है
    मत रोको!
    उसे लांघ जाने दो और
    अपनी यायावरी यात्रा को
    जितना हो सके
    एक युगंकर बन जाने दो .

    बेहतरीन सन्देश

    ReplyDelete
  20. कविता के भाव प्रवाह का त्वरण पाकर शायद मेरी पिछली टिप्पणी यायावरी यात्रा पर निकल गयी :)(या फिर स्पैम में गयी ). अब इस टिप्पणी का चुनाव देखते हैं-स्थावर होने का या यायावर बनने का :)

    ReplyDelete
  21. ओ! मेज़ के कोरों पर
    सिर रखकर रोने वालों
    फिर समय से संवाद करके
    उसी की गोद में सोने वालों ...
    कबतक यूँ ही
    समय से
    संपीडक संवाद करोगे ?

    खुबसूरत बुलावा या कहूँ आवेगों का आव्हान .

    ReplyDelete
  22. बामन मन की काबिल-ए-गौर यायावरी। सफर के अनुभवों से संपृक्त रचना। स्वागत है।

    ReplyDelete
  23. मील के पत्थर मिले तो
    आकुल-व्याकुल भावों को
    जरा सा अटक जाने दो ...

    Kamal ke ke sabdbandh, kamal ki kawita Dhanyawad From How they do that

    ReplyDelete
  24. अत्यंत प्रभावशाली..........तेजमय शब्दों से ओत-प्रोत.......बहुत ही सुन्दर लगी।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही प्रभावशाली रचना,आभार.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  27. .बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  28. पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
    कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं (29) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete