Pages

Thursday, December 27, 2012

नजरबन्द ...


आजकल
शब्दों की हिम्मत भी
हवा देखकर बढ़ सी गयी है ...
न जाने क्यूँ वे
अपना आक्रोश मुझपर ही
अजीब तरह से व्यक्त कर रहे हैं
मैं निकल जाने को भी कहूँ तो
कुछ बुदबुदाते हुए उबल रहे हैं ....
तब तो शब्दों की छाती पर
मैंने भी तान दिया है पिस्तौल
अब तो उन्हें राजद्रोह स्वीकारना होगा
साथ में गिरफ्तारी भी देनी होगी
अपना बॉडी- वारंट देखे बिना ....
अब वे करते रहे अपना वकील
लिखवाते रहे अपने लिए हिदायतें
छाँटते रहे सही-गलत बातों को
अपना छाती दुखा-दुखा कर
करते रहे अपना जिरह
व अपनी पैरवी के लिए
करते रहे सारे प्रबंध-कुप्रबंध
और अपने धारदार बहसों से
काटते रहे गले के फंदों को ....
पर मैं तो एकदम से इन शब्दों की
बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
अति आक्रोश में हूँ
इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
एक-एक करके
नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
अपने कलम में ही .


28 comments:

  1. प्रासंगिक अभिव्यक्ति हुई है भाव की अर्थ की .

    ReplyDelete
  2. पर मैं तो एकदम से इन शब्दों की
    बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
    अति आक्रोश में हूँ
    -----------------------------
    आपका गुस्सा भी स्वीकार है पर शब्दों की नजरबंदी का आत्मघाती फैसला ? अब माफ़ कर दीजिये उन शब्दों को ......
    रचना बेहद ही आक्रामक

    ReplyDelete
  3. प्रासंगिक अभिव्यक्ति हुई है भाव की अर्थ की .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी

    ReplyDelete
  4. आक्रोश से भरी रचना ,,,,,नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !'

    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  5. पर मैं तो एकदम से इन शब्दों की
    बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
    अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    बहतरीन आक्रोश प्रदर्शन .....बहुत सुंदर रचना .....सच मे अमृता जी ....आपकी कलाम की ताकत बढ़ती जा रही है .....शुभकामनायें ......!!

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

  7. इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    ..अंतस के आक्रोश की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  8. Amrita,

    BILKUL SAHI DHANG NAZARBAND KARNE KAA.

    Take care

    ReplyDelete
  9. भीतर के आक्रोश को दिखती शानदार रचना |

    मेरी नई पोस्ट:-ख्वाब क्या अपनाओगे ?

    ReplyDelete
  10. जो तटस्थ है उनका इतिहास भी समय लिखेगा . शब्दशः सहमत इस आक्रोश से.

    ReplyDelete
  11. जहाँ अभिव्यक्ति कैद है ? ?

    ReplyDelete
  12. शानदार रचना, बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
    अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    ReplyDelete
  13. अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    शानदार आक्रोश

    ReplyDelete
  14. आज और भी प्रासंगिक लग रही है ये रचना, हाल की कुछ घटनाओं के कारण
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  15. क्या बात,
    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  16. रचना में आपके भाव और विचारों के साथ-साथ शब्दों की ताकत भी भली-भांति झलक रही है...गहन भाव... नववर्ष की बहुत-बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. पर मैं तो एकदम से इन शब्दों की
    बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
    अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    आक्रोश को आपने शब्द दे दिए.

    ReplyDelete
  18. लाठीचार्ज, पानी की बौछार और आंसू गैस से मन भी तो नहीं भरता, यहां के बाद वहां नज़र आ ही जाते हैं, इसलिए इन्हें नज़रबंद करना ही सही उपाए है।

    ReplyDelete
  19. behad sashakt abhivyakti amrita ji..hriday ka aakrosh hi hai jo shabdon ke madhyam se prakat ho raha hai..

    ReplyDelete
  20. शब्द सक्षम नहीं जब हो, भाव व्यक्त करने को,
    समय आ गया कर्म उठें यह महारिक्त भरने को।

    ReplyDelete
  21. मन मेंपले आक्रोश को व्यक्त करती आपकी यह रचना बहुत ही अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  22. जब उफान रह-रह कंठ तक आये
    ,न बैठ पाये न बाहर निकल पाये !

    ReplyDelete
  23. स्तब्ध कर गयी रचना .......
    विद्रोही मन दाद तो दे रहा हूँ
    पता है मुझे आसमान कई नापने है ....
    इस कोमल मन के अंतस को ...
    साधू .......

    नववर्ष की शुभकामना आ.अमृता जी ...
    उत्कृष्ट और सटीक लेखन पर बधाइयां

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  25. संवेदनहीन सरकार से सिर्फ शब्दों का मायाजाल ही मिल सकता है कोई सार्थक प्रयास और परिणाम नहीं.

    नववर्ष २०१३ की बहुत बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  26. पर मैं तो एकदम से इन शब्दों की
    बौराई हुयी सरकार सी हो गयी हूँ
    अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही .

    बहुत खूब...मौजुदा व्यवस्था पता नहीं कब बदलेगी।।

    ReplyDelete
  27. आपातकाल, सेंसरशिप, दमन, तानाशाही ... जब व्यवस्था का अभाव हो तो अपने को सम्राट समझने वाले घिसटते हुए "जन-प्रतिनिधि" इन्ही बैसाखियों का सहारा लेते हैं ...

    ReplyDelete
  28. अति आक्रोश में हूँ
    इसलिए कुछ गिरगिटी शब्दों को छोड़कर
    बाकी उन सभी रुष्ट शब्दों को
    एक-एक करके
    नजरबन्द कर देना चाहती हूँ
    अपने कलम में ही

    post your greeting with your comments
    नये साल पर कुछ बेहतरीन ग्रीटिंग आपके लिए

    ReplyDelete