Pages

Monday, June 25, 2012

सच कहो...


मुझे
अपने हाथों की
प्रत्यंचा बना सकते हो...
अपने तरकस से
तीर पर तीर चला सकते हो...
बेध सूर्य-चन्द्र को
अँधेरे को जिता सकते हो...
मेरी ऊँगली से
अपना चक्र भी चला सकते हो...
तुम्हारी विराटता सिद्ध हो तो
कण-कण में
मुझे बिखरा सकते हो....
और अपने जय-घोष में
मुझसे ही
शंख भी फुंकवा सकते हो....
पर जब मैं
तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
सच कहो
अठारहों अध्याय भी
कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

52 comments:

  1. तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .



    बहुत ही खूबसूरत और आपकी दूरदर्शिता को मुकम्मल मोड़ देता पोस्ट....

    ReplyDelete
  2. मन को प्रभावित करती सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    ReplyDelete
  3. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    बहुत सारगर्भित पक्तियां । अठारह अध्याय क्या सहस्त्रों महाकाव्य की रचना हो सकती है। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है धन्यवाद।।

    ReplyDelete
  4. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे

    बहुत खूब ... भेद तो खोलने ही होंगे

    ReplyDelete
  5. इन सारे प्रपंचों के बीच शाश्वत सत्य अडिग खड़ा सबकी पोल खोल देने की शक्ति रखता है।

    ReplyDelete
  6. Amrita,

    KISI BAHUT HI KARIBI VAYAKTI, JO KE PATNI YAA PREMIKAA HO SAKTI HAI, NE KISSI KO APNI SHAKTI PAR GHAMAND NAA KARNE KE LIYE SAWDHAAN KIYAA HAI, EISAA LAGTAA HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  7. तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    प्रभावित करते सशक्त भाव....

    ReplyDelete
  8. सच में कम पड़ जायेगें, कहाँ तक कोई छिपा सकता है..

    ReplyDelete
  9. अपनी कविताओं के माध्यम से सदा कुसुमो की सौरभ बिखेरने वाली कवियत्री क्यों आज अठारह अध्ह्याय बांचने की आवश्यकता आन पड़ी ?ऐसी नाराजगी क्यों और किस से.?

    ReplyDelete
  10. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    आदरणीय प्रेम सरोवर जी के कमेन्ट से पूर्णतः सहमत

    ReplyDelete
  11. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    मन के भावों की गहन अभिव्यक्ति .... न जाने कितना कुछ मन में छिपा रहता है

    ReplyDelete
  12. Replies
    1. बहुत सुंदर..लिखते रहिये ...

      Delete
  13. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    बहुत सुंदर ...जब तुम ह्दय मे हो प्रभु ...और मैं तुम्हारा भेद खोलने लगूँ ...
    यही तो प्रभु प्रसाद है ....आपकी लेखनी अर्चित है ...लिखते रहिये ...

    ReplyDelete
  14. कितने ग्रन्थ इतिहास लिखे जायेंगे ...
    मन के विस्तृत संसार की अकथ गाथा कहाँ सिमटेगी !

    ReplyDelete
  15. तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे ....atharah adhyay lagenge ya atharah hajaar ye to pata nahi...par uddhrit panktiyon ko padhte hee aapke ooper kee tamam panktiyon ka rahsya samajh me aaya aaur dil ne kaha ...bhai wah

    ReplyDelete
  16. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे ....bahut hi sundar.....

    ReplyDelete
  17. शंखनाद है इन अतुल्य भावनाओं के लिए

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुन्दर और शास्वत कविता ..
    प्रभु का आह्वान ..

    बधाई .

    ReplyDelete
  19. तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    adbhut...

    ReplyDelete
  20. बहुत सारगर्भित पक्तियां

    ReplyDelete
  21. तन्मय होकर के सुनो, अट्ठारह अध्याय |
    भेद खोलता हूँ सकल, रहे कृष्ण घबराय |
    रहे कृष्ण घबराय, सीध अर्जुन को पाया |
    बेचारा असहाय, बुद्धि से ख़ूब भरमाया |
    एक एक करतूत, देखता जाए संजय |
    गोपी जस असहाय, नहीं हैं सुन ले तन्मय ||

    ReplyDelete
  22. भेद है तो खुलेगा ही। कब तक छिपा रहेगा।

    ReplyDelete
  23. वाह.....अगर मैं भेद खोलने लगूँ तो....वाह ।

    ReplyDelete
  24. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे
    शायद सभी इस प्रश्न को अकेले में दुहराते जरूर हैं ...सभी के मनोभावों को स्वर देने के लिये साधुवाद

    ReplyDelete
  25. अरे खोल रेतो दिया सा भेद , और सुनहरे अध्याय जैसी पंक्तियाँ , अति सुँदर

    ReplyDelete
  26. सारी सृष्टि कम पड़ जाएगी तब तो....
    अद्भुत रचना...
    सादर बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  27. ये क्या बात हुयी ? :-)

    ReplyDelete
  28. तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे .

    यह तो डरा दिया. सोचना पड़ेगा शायद.

    ReplyDelete
  29. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे
    पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे
    बढ़िया प्रस्तुति -तुम राधे बनो श्याम ,कह कह खूब नचायो श्याम ,खोल दूं भेड़ तुम्हारे कह कह खूब डरा यो श्याम ....वीरुभाई परदेसिया ,४३,३०९ ,सिल्वर वुड ड्राइव ,कैंटन ,मिशिगन ,४८,१८८ ,यू एस ए

    ReplyDelete
  30. उलाहनो के उद्गीत के लिए गीता के 18 अध्याय कम ही पड़ेंगे. रचयिता को रचना से सुनना ही पड़ेगा.

    ReplyDelete
  31. पर जब मैं
    तुम्हारा भेद खोलने लगूँ तो
    सच कहो
    अठारहों अध्याय भी
    कम तो नहीं पड़ जायेंगे

    ....अद्भुत पंक्तियाँ...अनेकों की भावनाओं को सुन्दर शब्द दिए...

    ReplyDelete
  32. अठारह अध्याय ही नहीं अठारह हजार भी कम पड़ जायेंगे....

    ReplyDelete
  33. bahut sundar kavita hai Amrita ji. mere naye blog post par aapka swagat hai.

    http://utkarsh-meyar.blogspot.in/

    ReplyDelete
  34. रचना सुन्दर लगी और मुझे सुझाव के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  35. अमृता, जो सामर्थ्य प्रदान करते हैं वो कभी चाह कर भी असमर्थ नहीं करते....वो चुपचाप गरल पाण कर लेते हैं और शिवत्व को प्रपट कर लेते हैं....भेद खोलने का सामर्थ्य रखते हुये भी खोलते नहीं....आवाज़ बुलंद होते हुये भी बोलते नहीं....यही तो हमारी मुश्किल है....

    ReplyDelete
  36. आपकी भावनाओं के अंदर बहुत से नाद छिपे नजर आये हैं मुझे !

    ReplyDelete
  37. बहुत ही प्रशंसनीय रचना .सुधि दिलाने के लिए धन्यवाद-जल्दी ही नियमित हो रहा हूँ.

    ReplyDelete
  38. वाह ... बहुत खूब अनुपम प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  39. बढ़िया अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  40. कल्पना जिसकी संजोयी हूँ
    उसे सामने कहीं पा न जाऊं .

    ReplyDelete
  41. बढ़िया... बहुत बढ़िया.................

    सादर

    अनु

    ReplyDelete
  42. सच कहूं
    बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  43. bahut sundar rachna hai, apne samay ko seedhe-seedhe katghare main khada kar deti hai.iske liye main aapko badhai deta hoon.

    ReplyDelete
  44. बहुत ही सुन्दर गहन प्रस्तुति.
    आपके ज्ञान और अनुभव की बातें
    भी निराले अंदाज में होती हैं.
    चुटीली सी ,रसीली सी.

    मेरे ब्लॉग पर आईएगा अमृता जी.

    ReplyDelete
  45. बेहतरीन कविता। एक दायरे को चुनौती देती हुई। नवीन तरीके से खुद को शब्द देती हुई। स्वागत है।

    ReplyDelete
  46. I read your post interesting and informative. I am doing research on bloggers who use effectively blog for disseminate information.My Thesis titled as "Study on Blogging Pattern Of Selected Bloggers(Indians)".I glad if u wish to participate in my research.Please contact me through mail. Thank you.

    http://priyarajan-naga.blogspot.in/2012/06/study-on-blogging-pattern-of-selected.html

    ReplyDelete
  47. सच में कम पड़ जायेंगे १८ अध्याय ...

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  48. बहुत सुन्दर सही गहन भाव लिये रचना। सच है ।
    मेरी ऊँगली से
    अपना चक्र भी चला सकते हो...
    सच है औरत के कन्धे से बन्दूक चला कर उसे ही दोशी बना देता है आदमी।

    ReplyDelete
  49. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete