Pages

Tuesday, June 12, 2012

क्रांति...


सक्रिय सहभागिता मेरी
जीवन के हर एक
स्पंदन और विचलन में
उच्छृंखलता और नियमन में
चढ़ान और फिसलन में
अवसाद और थिरकन में...
पर साथ-साथ
फन उठाये एक डर भी
उलझाता एक एहसास भी
परजीवी होने का....
अपने पेट में ही
उलझ-सुलझ कर
अपनी स्वतंत्रता को
कमोवेश निगलते जाना....
अपनी ही बिठाई
निष्पक्ष जाँच की धार पर
संभल-संभल कर चलना....
न जाने कब
अपदस्थ कर दी जाऊं...
अपने ही किसी काल-कोठरी में
नजरबंद कर दी जाऊं...
तब एक चरम बिंदु तय करके
समग्र साधनों को संचित करके
अगुआई करती हूँ
एक आत्मक्रांति की
और हो जाती हूँ - मुक्त
कुछेक पल के लिए...
हाँ! ये मेरी क्रांति ही
झझकोर रही है आज
समस्त संधित
संदीप्त चेतना को .

40 comments:

  1. जीवन यज्ञ में प्रयासों की आहुतियाँ..अधिकारों के स्वर कुन्द पड़ जाते हैं।

    ReplyDelete
  2. अगुआई करती हूँ

    एक आत्मक्रांति की

    और हो जाती हूँ मुक्त

    कुछेक पल के लिए



    गहरे मनोभावों को शिद्दत से बयाँ करती अलहदा पोस्ट.......

    ReplyDelete
  3. भय न हो तो गति ना हो , गति में ही विस्तार है , आधार है

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्यक्ति की बहुत सुंदर रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  5. वाह....
    गहन अभिव्यक्ति.....
    बहुत सुन्दर.

    अनु

    ReplyDelete
  6. गहन अनुभूति के साथ सुन्दर प्रस्तुति...अमृता..सस्नेह

    ReplyDelete
  7. इतना संभल संभल के चलना और फिर पहुँच जाना क्रांति तक जो एक छलांग चाहती है...अद्भुत !

    ReplyDelete
  8. आत्ममंथन से आत्मक्रांति तक की बात चेतना को आंदोलित करती है. कविता बहुत कुछ को सहज ही हृदय तक उतार देती है.

    ReplyDelete
  9. बहुत बढिया!!! आत्मंथन करती ही एक बढिया रचना।आभार।

    ReplyDelete
  10. जीवन के बड़े मकसद.बदलाव बिना क्रांतियों के संभव नहीं हुए हैं० वेलकम !

    ReplyDelete
  11. अमृता जी मानसिक कुहांसे को शब्द पैरहन पह्राना कोई आपसे सीखे .बढ़िया आत्म विश्लेषण और निर्बन्धन होता मन और उसकी पड़ताल करती कव -यित्री .

    ReplyDelete
  12. क्रांति की प्रणेता आपकी चेतना ऐसी ही संदीप्त रहे

    ReplyDelete
  13. Amrita,

    JO APNI SWAYAM NISHCHIT KI SEEMA MEIN APNI ANTARATMAA KI SUN KAR RAHTAA HAI, KABHI BHI GALAT NAHIN HO SAKTAA.

    Take care

    ReplyDelete
  14. पुनरावलोकन/आत्मविश्लेषण...
    सुंदर चिंतन....
    सादर।

    ReplyDelete
  15. आत्मक्रांति से मुक्ति कुछेक पल के लिए सही, काफी है...गहन भावाभियक्ति... आभार

    ReplyDelete
  16. अर्थपूर्ण और सम्पूर्ण रचना |

    ReplyDelete
  17. कभी कभी हम स्वयं से ऐसे ही प्रश्न करते और अपने ही अंतर जाल में उलझे निष्पक्ष क्रांति पथ पर अग्रसर पाते हैं
    फिर भी सफ़र जारी रहता है ,शायद यही जीवन क्रम है .............

    बढ़िया आत्म विश्लेषण

    ReplyDelete
  18. पर साथ-साथ
    फन उठाये एक डर भी
    उलझाता एक एहसास भी
    परजीवी होने का....
    अपने पेट में ही
    उलझ-सुलझ कर
    अपनी स्वतंत्रता को
    कमोवेश निगलते जाना....

    उलझ सुलझ कर भी एक दिशा देती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  19. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
  20. गहन भाव लिए बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  21. हाँ! ये मेरी क्रांति ही
    झझकोर रही है आज
    समस्त संधित
    संदीप्त चेतना को .

    कितना सुंदर प्रयास है स्वयम की कृती को स्वयम ही जांचना परखना ...आत्मविश्लेशण का सुख ....प्रभु की ओर ले जाता है ....
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ....कई बार पढ़ी ...आत्मसात की ...अब कुछ लिख रही हूँ ...

    ReplyDelete
  22. परिस्तिथियों से जब तक सुलह करते रहेंगे.....उन्हें न चाहते हुए भी एक्सेप्ट करते रहेंगे ..तब तक भय मुक्त कदापि नहीं हो पाएंगे....उसके लिए हिम्मत जुटानी होगी .....लकीर से हटने की ...अपने नियम खुद बनाने की ...बहुत सुन्दर अमृताजी

    ReplyDelete
    Replies
    1. Well said .Compromising is nothing but mental corruption..Freeing with fear needs facing situation with harder determination and belief to winover.Traditions are only mental barrier created by individuals or sosciety and needs to broke if stands in the way of individual freedom and progress.The present life and happiness matters only and is precious.

      Delete
  23. मन की पीड़ा से उपजी बहुत मार्मिक, बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  24. खुद के मन की क्रान्ति से ही इंसान जागता है ... दूसरा जितना भी प्रयास करे जगा नहीं सकता ...

    ReplyDelete
  25. क्रांति से होकर ही मंजिल की राह निकलती है.....शानदार पोस्ट।

    ReplyDelete
  26. आत्मंथन करती ही एक बढिया रचना
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  27. हाँ! ये मेरी क्रांति ही
    झझकोर रही है आज
    समस्त संधित
    संदीप्त चेतना को .

    आत्मनिरीक्षण करना और अपने ही बनाए
    नियमों से क्रांति लाना वाकई कठिन है...
    जिसने यह कर लिया वह भयमुक्त हो गया...
    सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  28. अपने लिए, अपने द्वारा बिठाई गई निष्पक्ष जांच और उसके आत्ममंथन से उपजी आत्मक्रांति की ललक से ही उस मंजिल को पाया जा सकता है, जिसे पा लेने के बाद और कोई मंज़िल शेष नहीं रहती।
    आपकी कविताएं श्रेष्ठ होती हैं, और ब्लॉग जगत में ऐसे उदाहरण कम ही मिलते हैं।
    बहुत खूब!!!!

    ReplyDelete
  29. मै भी मनोज जी से सहमत हूँ !
    आपकी रचना पढकर सच में लगता है कुछ अच्छा पढ़ा है
    सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  30. आत्मक्रांति का संदेश देती एक अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  31. अच्छी प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  32. जिस तरह बीज मिटी में में सड गल कर नये कोपल के रूप में होता है उसी तरह कोई प्रचंड बिचार ब्यक्ति या समूह में पिचले परिस्थितिओं में परिवर्तन कर नयी ब्यवस्था का निर्माण करती है .इस संक्रमण काल की पीड़ा से गुजरना ही साहस और धैर्य की परीक्षा है.बीज अगर अपने संक्रमण के लिए तैयार न हो तो नयी कोपल कंहा? भय करे तो निर्माण कैसे??

    ReplyDelete
  33. KRANTI KE LIYE ES SE BEHATAR SANDESH AUR KYA HO SAKATA HAI .....BADHAI AMRITA JI

    ReplyDelete
  34. आत्मक्रान्ति ही तो एक सुन्दर व्यक्तित्व और एक श्रेष्ठ रचनाकार को जन्म देती है ....बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  35. main kavita do baar padh ke sochte rah gaya ki kya likhun lekin kuch samajh nahi aaya...bas padh ke mahsus kar raha hun...

    ReplyDelete