Pages

Saturday, February 26, 2011

क्लोनिंग


हिटलर जीन के
आदेश पर
प्रतिकृतिकरण
भ्रष्ट मानव का........
अनियंत्रित विभाजन
कैंसरयुक्त कोशिका की तरह
मेटास्टैसिस की
भरपूर क्षमता लिए हुए...
हाँ ! कुछ-कुछ
हवा से फैलने वाला
संक्रामक रोग सा.........
आह !
इस कलयुगी प्रयोगशाला में 
परीक्षण मानव पर ही   
जो छलांग लगा रहे हैं
विकास के चरम बिंदु से
पशु-रेखा के नीचे 
और शुभचिंतक बन
स्वजनों को साथ लिए ...
वाह !
भौतिक उपभोग का
सबसे सरल तथा 
उपयोगी विधि  
आत्मा का घोटाला कर
सबकुछ अपने पेट में डालना
जो तोंद दिखने लग जाये तो
कालिख में मुँह छुपा लेना .......
हाय !
स्वपोषण के लिए
मानवता का ऐसा दोहन....
आज हर तरफ दिख रहा है
भ्रष्ट मानव का
प्राकृतिक क्लोनिंग
सौ फीसदी शुद्धता वाला......
परिणाम
बुरी तरह से घिरे हैं हम
व्यभिचार और भ्रष्टाचार के बीच
जो खुले बाज़ार में नंगा हो
दिखा रहा है अपना
विध्वंसक तांडव.


एक तड़क तड़का और .......

भ्रष्टाचार के गर्म तवे पर
कुछ ज्यादा रोटी सिंक रही है
लूट सको तो लूट लो भाई
यह मुफ्त में ही बिक रही है .







35 comments:

  1. 'बुरी तरह से घिरे हैं हम

    व्यभिचार और भ्रष्टाचार के बीच

    जो खुले बाज़ार में नंगा हो

    दिखा रहा है अपना

    विध्वंसक तांडव '

    .......................................

    नंगे यथार्थ का प्रभावशाली चित्रण ......सराहनीय

    ReplyDelete
  2. कविता भाषा शिल्‍प और भंगिमा के स्‍तर पर समय के प्रवाह में मनुष्‍य की नियति को संवेदना के समांतर, दार्शनिक धरातल पर अनुभव करती और तोलती है।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सटीक और सार्थक प्रस्तुति...भावों और शब्दों का सुन्दर संयोजन जो अपने बहाव में बहा ले जाता है..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. बदकिस्मती हमारी ....

    ReplyDelete
  5. बड़ी सटीक और प्रासंगिक पंक्तियाँ..... अर्थपूर्ण व्यंगात्मक प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  6. भ्रष्टाचार के गर्म तवे पर
    कुछ ज्यादा रोटी सिंक रही है
    लुट सको तो लुट लो भाई
    यह मुफ्त में ही बिक रही है
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. व्यंग में भी कमाल का शिल्प है ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. सामायिक, सुंदर शब्दों से सजी व्यंगात्मक प्रस्तुति. आज का हालाते बयां. बधाई हो अमृता जी.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति.
    बस आपका प्रोफाइल दोबारा देखना पडा.

    भ्रष्ट मानव का
    प्राकृतिक क्लोनिंग

    बहुत खूब.
    सलाम.

    ReplyDelete
  10. भ्रष्टाचार सर्वव्यापी है और है आज का ईश्वर । अच्छा लेखन, बेहद प्रभावशाली चित्रण । बधाई एवं शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  11. आज की भ्रष्ट व्यवस्था पर तीखा व्यंग्य है इस कविता में।
    प्रतीकों का प्रयोग बहुत ही प्रभावशाली है।

    ReplyDelete
  12. प्रभावशाली, यथार्थवादी कविता !

    ReplyDelete
  13. आत्मा का घोटाला...बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
  14. बड़ी ही आतंरिक झंकार लिए हुए है इस बार की आपकी कविता...ऐसे जैसे किसी ने चलती गाडी में अचानक ब्रेक लगा दिया हो और मैं नींद से जाग गया होऊं.
    अंतिम पंक्ति में 'लूट' की जगह 'लुट' हो गया है...शायद.....
    नमस्कार.

    ReplyDelete
  15. बाप रे बाप...आपने तो मोर्चा खोल रखा है...
    बहुत मस्त वाला कटाक्ष था...

    :)

    ReplyDelete
  16. क्लोनिंग जैसे विषय पर आपकी कलम का चलना आपकी साहित्यिक सूझ बूझ का परिचायक है.
    बहुत सुन्दर लिखा है.आपने..

    ReplyDelete
  17. अति सुन्दर.....तीखा व्यंग्य.....मिर्ची की तरह....और तड़का....तो गज़ब था.....बहुत खूब|

    ReplyDelete
  18. पुन: पुन: चमत्कृत होता रहता हूँ यहाँ आ कर…। इतने गूढ विषयों पर भी आप कमाल के कथ्य ले आती हैं…… बहुत उम्दा रचना !

    ReplyDelete
  19. सटीक एवं उम्दा रचना...बेहतरीन.

    ReplyDelete
  20. science aur satire....ek saath...!!! behtareen nazm hai amrita ji....bohot khoob.

    ReplyDelete
  21. जो मुफ्त में बिक रही हो कहीं वहाँ भी कोई घोटाला परदे के पीछे ना हो ... इस सुन्दर रचना के लिए आभार ...
    आपकी यह रचना मैंने चर्चामंच पर रखी है आज ... आप वहाँ और अमृतरस ब्लॉग में आ कर अपने विचारों से अनुग्रहित करें सादर

    http://charchamanch.blogspot.com/2011/03/blog-post_04.html
    http://amritras.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. भ्रष्ट मानव की प्राकृतिक क्लोनिंग...
    वैज्ञानिक शब्दों से सजी मगर काव्य में कोई रूकावट नहीं ..
    सटीक !

    ReplyDelete
  23. अंतस को झकझोरती हुई रचना...बधाई।

    ReplyDelete
  24. वाह .. क्या बात कही है ..सच्ची
    बहुत सारी शुभ कामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
  25. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब ... सच में मानव पैदाइशी भ्रष्टाचारी हो गया है ...
    शाशाक्त रचना है ... अन्दर तक हिला देती है इंसान को ...

    ReplyDelete
  27. Bahut hi acchi kavita hai jo aaj ke pariprekshya me jeevant aur shashakt hai.

    Maine bhshchar pe kafi pahle kuch likha tha...mere bheetar ki aag to shayad barf ho gayi apr aapke bheetar uss aag ko jalti dekh kafi prasann hua.

    Ho Gayi hai peer parvat si pighalni chahiye,
    iss himalay se koyi ganga nikailni chahiye.
    Mere dil me na sahi Tere dil me hi sahi,
    ho kahin bhi AAG par ye AAG jalni chahiye.
    Dushyan ki in panktiyon ke saath aapko aur bhi likhne ko kah raha.likhte rahiye.

    Ek Bihari ka Dusre bihari ko namaskar.

    ReplyDelete
  28. नए विचारों और नई शब्दावली से अनुप्राणित आप की कवितायें बहुत अच्छी लगी ।

    ReplyDelete
  29. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  30. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.

    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  31. सटीक अभिव्यक्ति. आभार.

    नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  32. विज्ञान के बिम्बों से समाज के समकालीन विपर्ययों को उकेरती कविता : )

    ReplyDelete
  33. ओह! विज्ञान के ऐसे शब्दों को सामाजिक परिपेक्ष्य से जिस खूबसूरती से जोडती हैं आप, वो अद्भुत है! निश्चित ही आपकी रूचि विज्ञान में भी उतनी ही गहरी है जिनती साहित्य में ... सादर नमनीय।

    ReplyDelete