Social:

Wednesday, March 23, 2011

कलई

निजता के आधार पर
निहायत गुप्त बातों में
बेईमानी का दिखना
प्रायः नगण्य होता है .......
पर मैं तो देखती रहती हूँ
स्वहित के मामले में
वह कैसे फन उठाती है 
और मैं कितनी चालाकी से 
उसकी फुफकार को
हुकुम मानते हुए उसे
दूध-लावा चढ़ाती हूँ ...........
भले ही आंतरिक रूप से कायर
पर बाह्यरूप से मैं ठहरी
अहिंसा की पुजारी
फन कुचलने से बेहतर
यही है कि उसकी
सारी सुख-सुविधा का
भरपूर ख्याल रखते हुए
अपना जंगल-राज दे दूँ ....
ताकि वह सार्वजानिक रूप से
विद्रोह न कर दे........
जिसको दबाने में कहीं
मेरी ईमानदारी की
कलई न खुल जाए . 

53 comments:

  1. किसी की कमज़ोरी को अपना बना कर दूसरे को कुछ समझा देना बहुत मानवीय तरीका है. अच्छी शैली में अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी लगी आपकी यह कविता.

    सादर

    ReplyDelete
  3. Sundar satik rachna......manviye kamjorion ko mahini se ubhara hai....

    ReplyDelete
  4. एक समस्या का नया हल और अपनी सोंच के सार्बजनिक होने का डर अच्छे विषय को उकेरा है आपने, बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सटीक प्रस्तुति...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. आंतरिक रूप से कायर बाह्य रूप से अहिंसा के पुजारी...!
    ..खूब कलई खोली है आपने।

    ReplyDelete
  7. बहुत ख़ूबसूरती से कलई खोली है आपने अंतर मन की.
    अंतर द्वंदों से हर कवि हृदय जूझता है.
    आपकी खूबसूरत कृति को सलाम.

    ReplyDelete
  8. बढ़िया सोच वाली बहुत बढ़िया रचना.

    ReplyDelete
  9. "कलई" ने अच्छी कलई खोल दी है.
    सुन्दर लिखा है.

    ReplyDelete
  10. मन के द्वंद्वों को प्रकट करती एक मनोवैज्ञानिक कविता !

    ReplyDelete
  11. सार्थक और अर्थपूर्ण भाव....सच की बानगी कविता

    ReplyDelete
  12. हम सभी एक दूसरे से अपनी मन की बाते छिपाते हैं , दोनों पक्ष ही अगर ईमानदार न हों तब क्या शिकायत , कहीं तो ईमानदारी होनी चाहिए ! इस रचना में अभिव्यक्ति स्पष्ट है मगर मगर नफ़रत पूरे स्वरुप में झलकती है :-(
    शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  13. शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  14. अमृता जी,

    वाह.....काफी गहरा मनोविज्ञान दिखा इस पोस्ट में......सच है ......बहुत ही अजीबोगरीब होता है ये सच ...........प्रशंसनीय |

    ReplyDelete
  15. आपकी रचनाओं में विषय और शिल्प का नयापन ही आपकी अभिव्यक्ति को हर बार विशिष्ट बनाता है। बहुत तीखा व्यंग दोहरे मापदंड और दोहरी मानसिकता पर…।

    बहुत उम्दा रचना।

    ReplyDelete
  16. व्यक्ति के भीतर का द्वंद्व और उसकी कलई खुलने का डर भी एक द्वंद्व है ..बहुत बेहतरीन ढंग से उकेरा है भावों को

    ReplyDelete
  17. ये तो बहुतों की बात है :(

    ReplyDelete
  18. एकदम सही बात!

    ReplyDelete
  19. ohhh....itni hindi...! zara dheere dheere padhni padegi...:)


    par kya khoob baat kahi hai....true!

    ReplyDelete
  20. aapkiye rachna mujhe bahut pasand aayi hai ...antarman aur baahyaman ke vishay par aapne bahut acchi rachna likhi hai ..

    badhayi ..

    ReplyDelete
  21. aappki imaandaari ki kali nahi khulegi....

    achhi rachna.........

    ReplyDelete
  22. manovaigyanik rachna .... bahut hi prashansniye

    ReplyDelete
  23. आपकी शैली विचार और प्रस्तुतीकरण अद्भुत है...लेखन की परिपक्वता ने मन मोह लिया...बधाई स्वीकार करें

    नीरज

    ReplyDelete
  24. बहुत ही अच्छा पोस्ट है जी ! हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर जरुर आना !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  25. very nice amrita ji.thoughtful and progressive reply for the sake of self defense mechanism. great.

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर रचना ... आपमें बहुत प्रतिभा है ... निश्चय ही आप एक दिन बहुत नाम करेगी ...
    आपकी रचनाएँ उच्च स्तर की होती हैं ... पढकर अच्छा लगता है ...

    ReplyDelete
  27. बिम्बों का अद्भुत प्रयोग। रचना और आपकी सोच ने मन मोह लिया।

    ReplyDelete
  28. Amrita, bahut bari baat bare hi aasaan dhang se kah di aapne...Apni nijta ke vyamoh mein sawrth ka sarp jab fufkarta hai to vyakti apne ko achetan awastha me jan boojh kar le jata hai taki uska utara hua kenchul bhi dawa ka kaam kar de jarrorat parne par.

    Aapke paripakwa lekhan aur shabdon ke chitran se main prabhavit hun...Ummeed hai hamein aisi shashakt rachnayen padhne ka mauka milta rahega..Meri sarahna kar aapne barappan ka prichay diya.Main to bas yun hi likhta hun...taki khud ko zinda rakh sakun.,Ummed hai sambhashan jari rahega.

    ReplyDelete
  29. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत करते सुखद अनुभूति हो रही है। कुछ कवयित्रियां अपने दुख से तमाम ब्लॉगरों का मूड ऑफ कर रही हैं। आपसे सम्यकता की उम्मीद है।

    ReplyDelete
  30. अमृता जी आपकी कविताएं लाजवाब हैं बधाई और शुभकामनाएं |हमेशा इसी तरह सुंदर लिखते रहिये |

    ReplyDelete
  31. बहुत उम्दा सोच एवं रचना.

    ReplyDelete
  32. दिन मैं सूरज गायब हो सकता है

    रोशनी नही

    दिल टू सटकता है

    दोस्ती नही

    आप टिप्पणी करना भूल सकते हो

    हम नही

    हम से टॉस कोई भी जीत सकता है

    पर मैच नही

    चक दे इंडिया हम ही जीत गए

    भारत के विश्व चैम्पियन बनने पर आप सबको ढेरों बधाइयाँ और आपको एवं आपके परिवार को हिंदी नया साल(नवसंवत्सर२०६८ )की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ!

    आपका स्वागत है
    "गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!"
    और
    121 करोड़ हिंदुस्तानियों का सपना पूरा हो गया

    संदेश जरुर दे!

    ReplyDelete
  33. कविताएं लाजवाब हैं|
    नवसंवत्सर २०६८ की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छी रचना ..अच्छा विश्लेषण किया है

    ReplyDelete
  35. Yun hi aapke blog par roz aane ki aadat hoti ja rahi....kabhi kuch likhta hun aur kabhi gadhta bhi hun...iss gadhe ungadhe rango ki aur shabdon ki daur bhaag mein aapka lekhan tora sukoon deta hai...
    bolti tasveerein meri ungliyon ki bhasha hain....jo maun ho mukhar uthti hain...samay ho to us par bhi apne mantavya jarur den taki hamara krititwa thora anoop ho jaaye.

    ReplyDelete
  36. जंगल राज देने से ही कलई ..जरुर खुलती है ! राम राज्य देना उचित होगा ! जैसे की स्वर्ण दुसरे धातुओ से मिलता है !

    ReplyDelete
  37. आत्मचिंतन को मजबूर करती है आपकी रचना .....
    आज का सत्य ... कड़ुवा सच ...

    ReplyDelete
  38. बहुत बढ़िया।
    कविता ने मन पर गहरा प्रभाव अंकित किया है।

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर कविता...खूबसूरत भाव...बधाई.
    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  40. फन कुचलने से बेहतर है कि
    उसकी सारी सुविधा का ख्याल रखते हुए अपना जंगलराज उसे देदूं..

    ले मर!!

    वेरी गुड बहुत अच्छे।।

    ReplyDelete
  41. सारी सुख-सुविधा का
    भरपूर ख्याल रखते हुए
    अपना जंगल-राज दे दूँ ....
    ताकि वह सार्वजानिक रूप से
    विद्रोह न कर दे........

    अमृता आपका लेखन प्रभाशाली है। आपसा दोस्त जरूरी है इस सफर में --

    ReplyDelete
  42. भ्रष्टाचार के बारे में इतनी खूबसूरत कविता पढ़ कर बहुत अच्छा लगा | अपनी गलतियों को छुपाने के लिए हम क्या नहीं करते हैं | आप ने बहुत अच्छा लिखा है |

    ReplyDelete
  43. और मई कितनी चालाकी से उसकी फुफकार को फेन को दूध और लावा चढ़ती आप ने गजब की कलाई खोली अमृता जी सुन्दर रचनाएँ सुन्दर ब्लॉग हमें भी आप का समर्थन और सुझाव की उम्मीद रहेगी

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  44. सार्थक विश्लेषण !
    शायद हम सबको ये करना चाहिए...
    इंसान के मन में सब तरह की भावनाएं उठती हैं..
    किस भावना को कितना महत्त्व देना है, यह हमारे ऊपर निर्भर करता है..और हम खुद का जितना अच्छा विश्लेषण कर सकते हैं,उतना दूसरे नहीं !
    ये अलग बात है कि हम करते नहीं हैं.......!!
    बहुत-बहुत धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  45. शायद यह अंतर्द्वन्द की अंतर्कथा है

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  46. आदरणीया अमृता तन्मय जी
    सस्नेहाभिवादन !

    अच्छी रचना है …
    जीवन में हम सबको कितने समझौते करने पड़ते हैं …
    अंतर्द्वंद्व की सुंदर शिष्ट अभिव्यक्ति के लिए साधुवाद !

    ~*~आपके ब्लॉग का एक वर्ष पूर्ण होने पर बधाई !~*~

    नवरात्रि की शुभकामनाएं !

    साथ ही…

    *नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*

    नव संवत् का रवि नवल, दे स्नेहिल संस्पर्श !
    पल प्रतिपल हो हर्षमय, पथ पथ पर उत्कर्ष !!

    चैत्र शुक्ल शुभ प्रतिपदा, लाए शुभ संदेश !
    संवत् मंगलमय ! रहे नित नव सुख उन्मेष !!



    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  47. गीता में कृष्ण भी एक जगहं यही कहते हैं -अपनी आत्मा को क्लेश में डालने जैसा कुछ मत करो-इस लिहाज से तो यह अभिव्यक्ति बिल्कुल दुरुस्त है :)

    ReplyDelete
  48. निजता के आधार पर
    निहायत गुप्त बातों में
    बेईमानी का दिखना
    प्रायः नगण्य होता है .......
    पर मैं तो देखती रहती हूँ
    स्वहित के मामले में
    वह कैसे फन उठाती है
    और मैं कितनी चालाकी से
    उसकी फुफकार को
    हुकुम मानते हुए उसे
    दूध-लावा चढ़ाती हूँ ...........
    बहुत सुंदर कविता अमृता जी बधाई |

    ReplyDelete
  49. व्यक्ति अंतर्विरोधों के साथ ही वह जीता है. कलई खुलना महत्वपूर्ण नहीं है. महत्वपूर्ण है कि क्या हम अपने अंतर्विरोधों से संतुष्ट हैं?

    ReplyDelete
  50. ये भी बेहतरीन!

    ReplyDelete