Pages

Friday, September 27, 2019

तो जाओ , तुम पर छोड़ा ..........

जब जाना ही है तो
विदा न लो , सीधे जाओ
हम रोये या गाये
पत्थर- सा हो जाओ
चुप रहो , कुछ नहीं सुनना
लो , प्राण खींच ले जाओ
अब हमारा ही है भाग्य निगोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा ......

छोड़ो भी , इन आहत आहों को
कस के बाहों में न भरो
असह , असहाय अँसुवन से
बह- बह के बातें न करो
सिसकी का मन जैसे सिसके
न बोलेगी कि तुम ठहरो
सब वचन भुला तुमने मुख मोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा .....

क्यों बोले थे
इस तरह से छोड़ कर
कभी तुम न जाओगे
पल -पल के उपहार को
सारी उमर लुटाओगे
सप्तपदी के सौगंधो को भी
जन्मों - जन्मों तक निभाओगे
सारा भरम तुमने ऐसे तोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा .....

जब जाना ही था तो
बिन बताए चले जाते
न ऐसे तुम भी रोते
न ही हमको रुलाते
इस विदाई बेला की पीड़ा पर
तनिक भी तो तरस खाते
हम नहीं बनते राह का रोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा ......

क्यों हमसे विदा लेकर
तुम्हें दूर जाना है
या दूर जाने का
कोई और बहाना है
जल्दी ही आओगे कह कर
बस यूँ ही फुसलाना है
चलो माना , विरह विपुल है मिलन थोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा ....

बरबस भींचोगे ओठों को
मचलेगा जब अंगारा- सा चुंबन
झुठला देना , जब दहकेगा
ज्वाला- सा अलज्ज आलिंगन
पर कैसे रोकोगे जब
रति- रस चाहेगा तन- मन
कुछ इतर ही ने है हमें जोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा ......

उड़ो , ऊँचाई पर उड़ो
अपने सारे पंख पसार कर
जग को जीत भी गये तो
यहीं आओगे स्वयं से हारकर
हमारा क्या , इन चलती साँसों के संग
रहना है बस तेरे लिए , मन मार कर
निष्ठुर , निर्दय , मिर्मम , निर्मोही , निखोड़ा
तो जाओ , तुम पर छोड़ा .



25 comments:

  1. वाह सुन्दर भाव। तुम पर छोड़ा।

    ReplyDelete
  2. यदि जानेवाला सच में पंख पसार कर ऊँचाई पर उड़ सकता, तो छोड़ कर जाने के बाद कई बार उड़-उड़ कर वापस आता।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भावपूर्ण सृजन..बहुत सुंदर ताना उलाहना..प्रेम पगी खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. मुझे मेरी भाभी जी की याद आ गयी पढ़ते टाइम।
    जब भी भाई साब अपनी फ़ौज की ड्यूटी पर वापिश जाते हैं तो भाभी जी के यही विचार जाहिर होते हैं।
    मगर इसी उल्हाणे में सच्चा व अटूट प्यार भी दर्शाया है आपने । शानदार प्रस्तुति।
    पधारें - शून्य पार 

    ReplyDelete
  5. 'तो जाओ , तुम पर छोड़ा' ऐसा स्वाभिमानी भाव है जो मानिनी पर सुशोभित है. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 28 सितंबर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. लाजवाब भावाभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  8. उड़ो , ऊँचाई पर उड़ो
    अपने सारे पंख पसार कर
    जग को जीत भी गये तो
    यहीं आओगे स्वयं से हारकर

    मीठा लगा उलाहना ... मन को जीत कर भी यहीं तो आना है

    ReplyDelete
  9. वाह ! ये स्वाभिमान तो हर नारी की पहचान है अति सुंदर सृजन अमृता जी |ये ना हो तो प्रेम की गरिमा क्या | वाह ही वाह --

    ReplyDelete
  10. कविता का पहला छंद पढ़ते ही याद आ गयीं ब्रज की गोपियाँ..राधा भी उनमें ही शामिल है..

    ReplyDelete
  11. Really Appreciated . You have noice collection of content and veru meaningful and useful. Thanks for sharing such nice thing with us. love from Status in Hindi

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्छा लिखा है ऐसे ही लिखते रहिए। हम भी लिखते हैं हमारे लेख पढ़ने के लिए आप नीचे क्लिक कर सकते हैं।
    इंटरनेट की जानकारी
    क्लाउड कंप्यूटिंग

    ReplyDelete
  13. Best Valentine’s Day gift 2020 ideas for girlfriend, boyfriend,  husband, wife, her and him.  Cheap and best online valentine gifts in India. Valentines day gift for girlfriend.

    ReplyDelete
  14. अति सुन्दर ! माधुर्य रस से उत्प्लावित गोपियों के विशुद्ध प्रेम की छवि झलकाती हुई ये मनोहर रचना !

    ReplyDelete
  15. A good informative post that you have shared and thankful your work for sharing the information. I appreciate your efforts and all the best Aaj Ka Suvichar in Hindi

    ReplyDelete
  16. Do you use Facebook Instagram, Twitter or other social sites? If you do, then you would like to write some attractive text at some time on your profile wall page. This fancy text generator tool will help you to decorate your text in cool and fancy style. I hope, you will like this tool.

    ReplyDelete
  17. Monday Motivation Quotes:- There are twelve months in a year, four weeks in a month, and seven days in a week. This information is available to almost every person.

    ReplyDelete
  18. This is really a good information for us. If you are a Fitness freak so you can read our Quotes which will motivate you.

    ReplyDelete
  19. 'I'm highly impressed by the piece of thoughts you have shared on this portal. all the best
    connect us on Assignment Help can shed your burden of assignments with a return of qualitative assignments.
    Online Assignment Help
    Programming Assignment Help
    Management Assignment Help
    My Assignment Help
    Networking Assignment Help

    ReplyDelete
  20. To get the correct of How many pages is 1000 words, keep the essential pointers in your mind. For experts’ answer on this question, use assignment help services and connect with professionals.
    1000 words to pages
    1000 words is how many pages

    ReplyDelete
  21. "जग को जीत भी गये तो
    यहीं आओगे स्वयं से हारकर"...
    27.09.2019 की आपकी रचना/विचार के अनुसार "हारकर वे" आ चुके हैं .. शायद ... तभी आठ महीने के अंतराल पर आपकी रचना/विचार पुनः 30.05.2020 को आ पायी है .. शायद ...

    ReplyDelete