Pages

Saturday, August 27, 2016

खोल रही हूँ खुद को ........

खोल रही हूँ खुद को
खाली खोल से
खोल कर
खोखले खोल को ......
ओह !
खोल में कितने खोल ?
खोल पर कितने खोल ?
क्या खोल का खोट है
या खोल ही खोट है ?
आह !
खोट ही खोट
और खोट पर
ये कैसा नोंच खसोंट ?
फिर खसोंट से खून
या खून का ही खून ?
खोज रही हूँ खुद को
या खो रही हूँ खुद को ?
हाँ !
खाली खोल से
खोल रही हूँ खुद को .

26 comments:

  1. बहुत कष्टप्रद होता है अपने आप को खोलना।
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. सार्थक और सारगर्भित कटाक्ष! नियमित लिखिए अब ...!!

    ReplyDelete
  3. कितना कमाल ....वाह ये तो बहुत ही दिलचस्प शैली है आनंदम आन्दम | लिखती रहें यूं ही आप , शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. परत दर परत हम खोल ओढ़ के जीते हैं...खुद अपनी परतें खोलना सबसे बड़ी चुनौती है...सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  5. Kya baat hai ..... Behad gahan bhav !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  9. आह !
    खोट ही खोट
    और खोट पर
    ये कैसा नोंच खसोंट ?
    ओह! क्या कहूँ …………निशब्द कर दिया…

    ReplyDelete
  10. खोज रही हूँ खुद को
    या खो रही हूँ खुद को ?
    अबूझ पहेली !

    ReplyDelete
  11. कितनी परतों के भीतर हम .... और वहां भी हैं कि नहीं यह भी बड़ा सवाल ... खूब लिखा

    ReplyDelete
  12. खोल के अंदर खोल- कितनी खोलों में छिपा बैठा है अपना निजत्व !

    ReplyDelete
  13. स्वयं को खोजना, खोल से निकालना... मुश्किल तो है ...

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  14. Its a great composition. Awesome

    ReplyDelete
  15. हमेशा की तरह गहन.
    शब्दों की जादूगरी.
    _______________विशाल

    ReplyDelete
  16. हमेशा की तरह गहन.
    शब्दों की जादूगरी.
    _______________विशाल

    ReplyDelete
  17. हमेशा की तरह गहन.
    शब्दों की जादूगरी.
    _______________विशाल

    ReplyDelete
  18. प्याज की परते,,,,आया कंहाँ से रे ,,,,,

    ReplyDelete
  19. प्याज की परते,,,,आया कंहाँ से रे ,,,,,

    ReplyDelete
  20. पीड़ा भी एक खोल है. खोल खुलते जाते हैं और खोल में होने का अहसास ही असीम होने का अहसास बन छा जाता है. आपका ब्लॉग पर लौटना बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  21. मन को सचमुच खोल देने वाली रचना . वाह .

    ReplyDelete
  22. 'खाली खोल से
    खोल रही हूँ खुद को' .

    बाहर के खोल में खोट और खसोंट

    अन्दर की खोज में खुद नजर आये

    ReplyDelete
  23. पोस्टमार्टम सरीखा। बस। . पीड़ा।। वेदना।

    ReplyDelete