Pages

Thursday, June 26, 2014

मुझे तो अब .....

                  अभी तो और भी है सोपान
                जिसपर अपना पाँव रखना है
                 रोको न मुझे ! मुझे तो अब
                 चाँद-सूरज को भी चखना है

                 बेठौर बादलों को फुसलाकर
                कांच का सुंदर-सा एक घर दूँ
                 ख़रमस्ती में खर-भर करके
                बिजलियों को मुट्ठी में भर लूँ

                 चकचौंहाँ तारों पर यूँ जाकर
                 तनिक देर तक सुस्ता आऊँ
                 रोशनी को नर्म रूई बनाकर
                मैं आहिस्ता-आहिस्ता उड़ाऊँ

                समय को यूँ सटका दिखाकर
                 कहूँ, उठक-बैठक करते रहो
                 हवाओं को डाँट कर कहूँ कि
                 कान पकड़ कर बस बैठे रहो

                मौसम से सब शैतानी छीनके
                 पल में नींद- चैन को उड़ा दूँ
               सावन को भी बुद्धू-सुद्धू बनाकर
                  झट से सारा पानी मैं चुरा लूँ

                  सब दिशाओं को समेट कर
                  एक छोर से मैं ऐसे टाँक दूँ
                क्षितिज को भी खींच-खींचकर
                  मैं आकाश को जैसे ढाँक दूँ

                 शायद मेरे ऐसा-वैसा करने से
                  कुछ गाँठ ही सही खुल जाए
                 और ये गीत सुरीला बन कर
                  सबके ओंठों में ही घुल जाए  

33 comments:

  1. संगीत, लय और अनुठी कल्पना का मिलन यह आपकी कविता। पाठक भी आपकी कविता पर संवार होकर एक नई दुनिया में पहुंच जाता है।

    ReplyDelete
  2. सब दिशाओं को समेट कर
    एक छोर से मैं ऐसे टाँक दूँ
    क्षितिज को भी खींच-खींचकर
    मैं आकाश को जैसे ढाँक दूँ

    शायद मेरे ऐसा-वैसा करने से
    कुछ गाँठ ही सही खुल जाए
    और ये गीत सुरीला बन कर
    सबके ओंठों में ही घुल जाए

    #Poetry of Amritaji encompasses in itself girlish fickleness, romanticism, romantic philosophy, newage aspirations and all physical and metaphysical elements... when you read one poem, heart says one more, once more!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर और अनूठी कल्पना लिए ्सार्थक रचना..

    ReplyDelete
  4. अद्भुत कल्पना...सुन्दर शब्द विन्यास...आनंद आ गया...

    ReplyDelete
  5. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (27.06.2014) को "प्यार के रूप " (चर्चा अंक-1656)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  6. वाह ! इस बार तो आपकी कल्पना को ऐसे पंख लग गये हैं कि अन्तरिक्ष भी छोटा पड़ गया है ..सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  7. आहा एक अल्हड से बच्चे की शरारत जितनी सुन्दर ये कविता | बहुत ही बढ़िया |

    ReplyDelete
  8. Amazing Amrita ji emotions and respect clearly reflect in the poem.

    ReplyDelete
  9. vaah..............bahut hi pyari kalpana hai aapki rachna me ..........

    ReplyDelete
  10. सार्थक चाहत और सराहनीय कल्पना ..... बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. रुनझुन-सी करती कविता।
    ‘बुद्धू-सुद्धू‘ का सुंदर प्रयोग अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  12. एक भोले से प्यारे बच्चे जैसी कुछ शरारतें और इच्छाएं हैं, लगता है जैसे सावन भी बुद्धू-सुद्धू बनकर
    झट से सारा पानी चुरा लेने देगा और आँखें मींचकर बैठा मुस्कुराता रहेगा .... बहुत ही प्यारी कल्पना अमृता जी

    ReplyDelete
  13. चंचल मन की कुलाँचे भरी कल्पनाएँ समेटे कविता पढ़ कर चित्त प्रसन्न हो गया - लगा किशोरावस्था की उद्दाम ऊर्जा बिखरी पड़ रही है .

    ReplyDelete
  14. चंचल मन की ऊँची उड़न की खुबसूरत तस्वीर खींचा आपने अमृता जी !मेरा मन भी उड़ता रहा कविता के साथ साथ !बहुत सुन्दर !
    उम्मीदों की डोली !

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  16. बेठौर बादलों को फुसलाकर
    कांच का सुंदर-सा एक घर दूँ
    ख़रमस्ती में खर-भर करके
    बिजलियों को मुट्ठी में भर लूँ

    सब दिशाओं को समेट कर
    एक छोर से मैं ऐसे टाँक दूँ
    क्षितिज को भी खींच-खींचकर
    मैं आकाश को जैसे ढाँक दूँ

    बहुत सुन्दर अंदाज़ हैं ज़िंदगी के एक साथ सब साज़ हैं।

    ReplyDelete
  17. सब दिशाओं को समेट कर
    एक छोर से मैं ऐसे टाँक दूँ
    क्षितिज को भी खींच-खींचकर
    मैं आकाश को जैसे ढाँक दूँ

    शायद मेरे ऐसा-वैसा करने से
    कुछ गाँठ ही सही खुल जाए
    और ये गीत सुरीला बन कर
    सबके ओंठों में ही घुल जाए

    आमीन !

    ReplyDelete
  18. मन की इच्छाओं का पार कहाँ ... पर इनका होना भी तो जरूरी है ...
    इनको खुला छोड़ने पर ही मंजिल मिलेगी ..

    ReplyDelete
  19. Waaaaah mazaa aa gaya aaj to...

    Saawan ko buddhu suddhu bana kar :)

    ReplyDelete
  20. काश यह सब हो पाता ......सुंदर एवं कोमल भाव लिए प्यारी सी मदमस्त रचना।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर शब्द विन्यास |
    प्यारी सी रचना |

    ReplyDelete
  22. कविता के साँचे में खड़ी विराट और उदात्त कल्पना आपके मन से निस्सृत हुई है. इसे पढ़ कर मुस्कान भरी हैरानगी का भाव तो पैदा होता है.

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत कल्पना, सुंदर शब्द. बधाई....

    ReplyDelete
  24. बहुत प्यारी कल्पना, खूबसूरत अंदाज़ ! :)

    ReplyDelete
  25. शब्दों का खूबसूरत तालमेल

    ReplyDelete
  26. भावनाओं की सरसराहट पता नहीं कहां-कहां तक पहुंची है.....इस कविता के माध्‍यम से।

    ReplyDelete
  27. बेठौर बादलों को फुसलाकर
    कांच का सुंदर-सा एक घर दूँ
    ख़रमस्ती में खर-भर करके
    बिजलियों को मुट्ठी में भर लूँ..
    बहुत ही भावपूर्ण लाइनें। आभार।

    ReplyDelete
  28. अब हवाओं को तो आप डांट ही दीजिये, ताकि जल्दी से कान पकड़ कर बैठ जाए। .....
    हमेशा आपकी कलम पर नाज रहा है.....................

    ReplyDelete
  29. khubsurat kalpna ....sunder shabd sanyojan.... bahut umda

    ReplyDelete