Social:

Wednesday, December 22, 2010

विरोधाभास

क्यूँ मैं कहूँ
पारदर्शी हो तुम 
पूरे सौ प्रतिशत
जबकि तुममें
दिखती हूँ मैं...
पर कहीं न कहीं
है विरोधाभास
जहाँ मेरी धडकनें
मिल गयी है तुमसे
वहीँ एक -एक विचार
कहीं छूट गए है...
मैं अनुभव कर सकती हूँ
तुम्हारी विराटता का
अपनी ग्राह्यता के अनुसार
ग्रहण कर सकती हूँ तुम्हें 
मिलावटों से निथारते हुए...
पर सांसो की डोर
बंधी है तुमसे ...
और मैं लेना चाहूंगी
जन्म-जन्मान्तर तक जन्म
तुमसे बंधने के लिए
या अपनी मुक्ति के लिए
या फिर
विरोधी सत्य के लिए ?
 

41 comments:

  1. आदरणीय अमृता जी
    नमस्कार
    आपकी कविता जीवन दर्शन से भरी है ...बहुत संजीदा ढंग से आपने विचारों को प्रस्तुत किया है ....और बन गया मैं आपका 25वां समर्थक बहुत - बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. amritaji...
    dharkane, ehsas, tadap aur mukti..
    kya kahna.. mere pass shabd nahi.. dekhta hoon iska jawab kya milta hai?

    ReplyDelete
  3. इस विरोधाभाष में आश का पलड़ा भारी है।

    ReplyDelete
  4. वही एक-एक विचार छूट गए हैं ....और विरोधी सत्य को पा कर मुक्ति पाने की सोच ...बहुत अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. सोचने पर विवश करती कविता.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर! बेहतरीन, बहुत गहराई है!

    ReplyDelete
  7. kya kahu amrita ji .... bas soch raha hoon ...kaise aap itni acchi kavita likh leti ho ...

    ReplyDelete
  8. वाह ! विरोधाभास पर गहन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  9. Shuru Ki panktiyan poori kavita par bhaari hai..Bahut aacha likhti hai aap....

    ReplyDelete
  10. manav ko manwiya guno aur awguno ke sath hi ek dibya sangeet prem ka bhi hai, bhagwan ko bhi is dibya prem ki anubhuti ke liey is dhara ka aakarshan khicch lata hai .sare birodhabhash lay ho jate hain aaur lay ho jata hai byaktitwa. prem ki sarwochh anubhuti.

    ReplyDelete
  11. ऐसी कविता पे क्या टिप्पणी करूँ मैं समझ नहीं पाता..केवल अच्छी कविता बोल के जाना भी नहीं चाहता..

    ReplyDelete
  12. वह सारे विरोधाभास का केन्द्र है, क्योकि सभी कुछ उसी से उपजा है!बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता !

    ReplyDelete
  13. There is combination of many feelings in the lines. Nice post. I decided to follow U.

    ReplyDelete
  14. आपके लिए मेने पास कोई विशेषण नही है।Good Post.मेरे पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  15. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  17. सशक्त कविता! जीवन स्वयं एक विरोधाभाष है| कविताने ईस गहन भावको सफल शब्दाकार दिया है|

    ReplyDelete
  18. अमृता जी,

    देर से आने की माफ़ी....दरअसल कहीं बाहर गया था.......काफी दिनों के बाद आपकी रचना पड़ी......बहुत ही सुन्दर अहसास है....हमेशा की तरह लाजवाब पोस्ट है .......शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  19. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  20. ek ruhaani rishte mein aisi baaten utpann hoti hain , phir bhi.... bhawnaaon ka jwaar thamta nahi hai ...

    ReplyDelete
  21. koi fark nahi padta .... shirshak rachna vatvriksh ke liye chahiye parichay,tasweer, blog link ke saath rasprabha@gmail.com per

    ReplyDelete
  22. अमृता जी जी गहरे जज्बातों से भारी हुई सुंदर कविता .......... बहुत ही भावपूर्ण
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी
    रमिया काकी

    ReplyDelete
  23. गज़ब का विरोधाभास प्रस्तुत किया है।

    ReplyDelete
  24. जीवन में विरोधाभास से कब तक बचा जा सकता है..गहन संवेदना से पूर्ण बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता| शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  26. जन्म जन्मातर तक जन्म किस लिए ...?
    जीवन इसी विरोधाभास का नाम है ...

    ReplyDelete
  27. गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  28. अमृता जी ,
    गहन दार्शनिक रचना....इन विरोधाभासों से गुज़र कर ही हम पहुँच पाते हैं स्वयं तक... जहाँ कोई विरोधाभास नहीं रह जाता ...

    ReplyDelete
  29. अमृता तन्मय जी
    नमस्कार !

    छोटी सी कविता … लेकिन कितनी अनुभूतियां !
    मैं लेना चाहूंगी
    जन्म-जन्मान्तर तक जन्म
    तुमसे बंधने के लिए
    या अपनी मुक्ति के लिए
    या फिर
    विरोधी सत्य के लिए ?


    आपकी लेखनी से और भी श्रेष्ठ सृजन होता रहे … भावों को अभिव्यक्ति मिलती रहे …

    ~*~नव वर्ष २०११ के लिए हार्दिक मंगलकामनाएं !~*~

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  30. विरोधाभासों के बीच एक आशावादी कविता...

    ReplyDelete
  31. आदरणीय अमृता जी
    नमस्कार
    बहुत सुंदर कवित

    ReplyDelete
  32. नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  33. आपको नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें...स्वीकार करें
    बहुत खूब ...अंदाज -ए- वयां पसंद आया

    ReplyDelete
  34. iss virodhabhas ka kendra bindu aap ho:)

    bhut khub surat rachna!

    nav varshi ki shubh kamnayen!

    pahli baar aaya achchha laga, follow kar raha hoon, aage se barabar aaunga....kuchh seekhne:)

    ReplyDelete
  35. Amrita,jeevan ke virodhabhas mein hi rishton ki madhurta chhupi huyi hai.jab ham un virodhabhashon ke beech apne rishton ko gadhy=te hain to saare pal behad khoobsoorat ho jaate hain...

    bahut hi sacchi baat likhi hai aapne.Apni grahyta ke hisab se hi kisi ke viratpane ka anubhav kiya jaa sakta hai...bahut khoob.

    ReplyDelete
  36. गहन, सार्थक, आध्यात्मिक

    ReplyDelete
  37. क्या बात कही आपने..अप्रतिम..

    ReplyDelete
  38. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete