Pages

Wednesday, April 18, 2018

तुझको सौंपे बिना ....

तुझसे ही है क्यों अनलिखा अनुबंध ?
तुझको सौंपे बिना जो जिऊं
मुझको है सौगंध !

जब केसर रंग रंगे हैं वन
सुरभि- उत्सव में डूबा है उपवन
गंधर्व- गीतों से गूँजे ये धरती- गगन
दूर कहीं अमराई में जो कोयल कूके
तो क्यों न गदराये मेरा सुंदर तन- मन ?

तुझसे ही है क्यों अनजाना आबंध ?
तुझको सौंपे बिना जो रहूं
मुझको है सौगंध !

पुलकमय हर अंग है होने को समर्पित
देखो , प्राण का यह दीप है प्रज्वलित
अंतर पिघल हो रहा आप्लावित
कान अपना ध्यान हर आहट पर लगाये
तो क्यों न पलक पांवड़े बिछाऊं ओ ! चिर- प्रतीक्षित ?

तुझसे ही है क्यों अनकहा उपबंध ?
तुझको सौंपे बिना जो झड़ूं
मुझको है सौगंध !

स्वीकार करो ओ ! मनप्रिय अज्ञात प्रीतम
अंगीकार करो ओ ! तनप्रिय अतिज्ञात प्रीतम
उद्धार करो ओ ! हृतप्रिय अभिज्ञात प्रीतम
तुझे छू हुआ मन धतूरा , सुरती धड़कन व कर्पूरी तन
तो क्यों न सौगंध लूं ओ ! आत्मप्रिय ज्ञात प्रीतम ?

तुझसे ही है क्यों अनदेखा संबंध ?
तुझको सौंपे बिना जो मरूं
मुझको है सौगंध !


13 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19.04.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2945 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. उस प्रीतम को भी तो सौगंध है, जिसके लिए यह आत्मनाद है, कि वह इस प्रेम-निमंत्रण को इसके अप्रतिम सौंदर्य के साथ अंगीकार-आत्मस्वीकार करे।

    ReplyDelete
  3. नैसर्गिक शब्द भाव होते हैं

    ReplyDelete
  4. ...प्रकृति का कण-कण और प्राणों का हर स्पंदन जिसके कारण है उस अनाम के लिए भक्तिरस में सराबोर करती सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, ज़िन्दगी का हिसाब “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २३ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक में दो अतिथि रचनाकारों आदरणीय सुशील कुमार शर्मा एवं आदरणीया अनीता लागुरी 'अनु' का हार्दिक स्वागत करता है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete
  8. कविता अधिकतर उदात्त भाव में विचरती है. कहीं-कहीं प्रियतम स्थूल हुआ है.
    आपकी विशिष्ट काविता शैली का विश्लेषण किए जाने की ज़रूरत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. U are requested to analyse and explain to us the inner thought hidden in the poetry.for this we shall be thankful to u.

      Delete
    2. भावों का प्रभावी प्रवाह ।

      Delete
  9. गज़ब कर दिया……बहुत ही सुन्दर अन्दाज़ है शब्दों को पकड्ने का

    ReplyDelete