Pages

Wednesday, January 8, 2014

मैं बंदिनी .....

मैं बंदिनी
जंजीरों में जकड़े
बोझिल जीवन को लेकर
पथ के अंगारों को
अपने आलिंगन में लेकर
इक परिशेषी प्यास
परखते नयन में लेकर
और बिखरे सूनेपन को
मोही मन में लेकर
सुनसान दिशाओं में
शिथिल चरणों से
चले जा रही हूँ
चले जा रही हूँ......

मैं अंगारिणी
अपने ही अस्ताचल की ओर
इस तरह से बढ़ते हुए
अपने ही ह्रदय की
अबूझ कठोरता से
लड़े जा रही हूँ
लड़े जा रही हूँ
कहीं इस कठोरता में
मेरा ही भाव सूख न जाए
व थम-थम कर बहता सा
कहीं बहाव सूख न जाए
और अतरल होकर कहीं
सारा पिघलाव सूख न जाए......

मैं बंधकी
अपने रपटीले आकर्षण की
फिसला-फिसला कर भी
कोई तो अब बांधे
ज्वाला सा मेरे इस यौवन को
और यौवन के मूर्च्छित स्खलन को
और स्खलन के हर अवसादन को
और अवसादन के हर क्रंदन को....

सच! अहोभागी हैं वे
जिनके आंसुओं में भी
प्रमुद फूल खिलते हैं
और गंधी का सागर
उनके काँटों से भी
लिपट कर गले मिलते हैं
पर इस मरू के मग में
कोई प्राण-घन कहाँ घिरते हैं
और अज्ञात पीड़ा के होंठों पर
बरबस अतिप्रश्न ही फिरते हैं....

मैं कंटकिनी
काँटों सी ही
उलझते अतिउत्तरों में
क्यों ऐसे अटक रही हूँ
और अटक-अटक कर भी
भटके जा रही हूँ
भटके जा रही हूँ
अपने प्रसुप्ति के
हर परदेशी क्षण में
और उन अंगारों के ही
सुदृढ़ आलिंगन में
अपनी मूकता के सारे
मुरमुराते से विचेतन में
और उन अनुस्मृति के
उसी रपटीले आकर्षण में......

मैं क्षुब्धिनी
अपने क्षोभ से
अब बस यही कहती हूँ कि वह
मेरे आकर्षण को ही विकर्षित कर दे
और विकर्षण से मुझे दिग्दर्शित कर दे
और दिग्दर्शन से मुझे आत्म-संवेदित कर दे
और आत्म-संवेदन से बस मुझे परिशोधित कर दे

मैं बंदिनी .....

36 comments:

  1. सुन्दर कविता गहन अर्थ समेटे |आभार

    ReplyDelete
  2. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  3. आपकी प्रस्तुति गुरुवार को चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है |
    आभार

    ReplyDelete
  4. आत्‍मइच्‍छा पूर्ण हो, शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. ओह! आपकी शब्दमाला और भाव विलक्षण हैं अमृता जी.
    सच में तन्मय करते हैं.

    आभार.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर ..... मन की चाह की गहरी अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावधारा अमृता जी

    ReplyDelete
  8. अद्भुत अभिव्यक्ति, हम मन में जीवन की राह नियत करते रहते हैं, पर यह तो ऐसी अलबेली चाह लिये है कि सब भटकन सा लगता है।

    ReplyDelete
  9. समय का पहिया घूमता है और फिर कांटे की सोहबत का असली अर्थ पता चलता है.

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  11. इच्छाए अनन्त हैं .....शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
    नई पोस्ट लघु कथा

    ReplyDelete
  12. मै बंदिनि, अंगारिणि, बंधकी, क्षुब्धिनि
    मैं मुक्त, स्वच्छंदिनि, वर्षा, लुब्धा,मोहिनि
    मेरे ये कितने रूप, कितने सपने

    ReplyDelete
  13. भावों और शब्दों का अद्भुत संयोजन....

    ReplyDelete
  14. किन्तु मन की इच्छाओं का कभी अंत कहाँ होता है...दो गज़ जमीन चाहिए तो गज कफन के बाद।

    ReplyDelete
  15. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  16. गहन अर्थ समेटे बहुत ही सुंदर .रचना...

    ReplyDelete
  17. ओ पंखुरी...कितना कुछ है तेरे आकाश में...

    ReplyDelete
  18. वाह ! अमृता जी सब कुछ कह दिया है आपने अपनी रचना में...........

    ReplyDelete
  19. Kaby ke itihash me hriday ki wedna ka itna bhawmay chitran durlabh saa milta hai.aap ke bhawon ki anbhuti antartam ki gahraiyon ko jhakjhor deti hai . Kase sthir hai bhawnaon ka aisa toofan?

    ReplyDelete
  20. Kaby ke itihash me hriday ki wedna ka itna bhawmay chitran durlabh saa milta hai.aap ke bhawon ki anbhuti antartam ki gahraiyon ko jhakjhor deti hai . Kase sthir hai bhawnaon ka aisa toofan?

    ReplyDelete
  21. वाह गहन वेदना का अद्भुत चित्रण ...बधाई अमृता जी ।

    ReplyDelete
  22. बेहद गहन भाव लिये मन को छूती अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  23. अद्भुत भाव संयोजन … फिर भी चलते जाना है, जब तक जीवन है ....

    ReplyDelete
  24. कल 13/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  25. कितने भाव समेटे दिल में कितने रूप छिपाए तन में...चली जा रही मैं विहंसिनी..कोई साथ चल रहा मेरे..पल पल नजर टिकाये अपनी..मैं प्रणयिनी.....

    ReplyDelete
  26. ATISUNDAR ...GAHAN BHAWO KO SAMETE HUYE BADHAYI

    ReplyDelete
  27. उत्कृष्ट भाव ... अंतिम पंक्तियों पे आते आते तो भावाग्नी चरम हो उठती है ... गहन भावाव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  28. अद्भुत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  29. सुंदर भाव...सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  30. बहुत गहन और सुन्दर |

    ReplyDelete
  31. परितोषिक है प्रणय शोध की अनुमत भोग्या ,
    अनुपूरक आकांक्षाओं से मुखरित भाव व्यंजना |
    साधो आ. अमृता जी ;... शब्द वाचस्पति भवः |

    ReplyDelete
  32. साधो आ. अमृता जी ...
    आप निःसंदेह, शब्द वाचस्पति हैं |
    ....
    प्रणय शोध को अनुमत भोग्या |
    विस्मृत को उदीप्त मुखरित करती भाव व्यंजना |

    ReplyDelete
  33. मन की उलझी अवस्थाओं से मुक्त हो जाए हर बंदिनी
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete