Pages

Monday, March 23, 2015

क्या हर्ज है ?

कोई मंजिल मिल जाती कोई मुकाम मिल जाता
जिंदगी की जानलेवा अदाओं को काबिल नाम मिल जाता

मुसाफ़िराना गुफ़्तगू के महज मुश्किल से इशारे हैं
मतलब जो समझे वो कुछ जीते वर्ना सब तो हारे हैं

कागज़ का एक उड़ता टुकड़ा है जिसपर कुछ लिखा है
ये जिंदगी ! बेऐतबारी में ही तो तेरा पता दिखा है

बदखती का ये आलम है तो तुझे लापता ही कहना है
समझी हूँ तुझे न समझी थी न ही कभी समझना है

तुझे जीना न आया तो तुझसे बेज़ोश क्यों होऊं ?
बस ख़्वाब है तू सोच कर अपना होश क्यों खोऊं ?

दर्द का फ़लसफ़ा है तू या फ़ुरक़त का कोई फ़साना है
ये जिंदगी ! तू जिंदगी ही है तो क्यों ये शोख़ वीराना है ?

जहां ज़िंदा दफ़न होकर जिंदाँ से रस्में यूँ जोड़ लेते हैं
वहां साया भी सरफ़रोशी की कसमें यूँ तोड़ देते हैं

अपनी मदहोशी में कभी शेर होकर जिलाओ तो मैं मानूं
ये जिंदगी ! कभी शराबे-सेर होकर पिलाओ तो मैं जानूं

लगी रह तू जिंदगी अपना अलग ही गुल खिलाने में
ये माशूकाना बेखबरी है तो क्या हर्ज है तुझपर मुस्कुराने में ?

30 comments:

  1. लगी रह तू जिंदगी अपना अलग ही गुल खिलाने में
    ये माशूकाना बेखबरी है तो क्या हर्ज है तुझपर मुस्कुराने में ?..
    इस बेखबरी पे मुकुराना हर किसी को नसीब कहाँ होता है ... गम को हंस के झेलना भी किसी किसी की किस्मत में होता है ... हर शेर लाजवाब ... बेनूर ...

    ReplyDelete
  2. मदहोशी में कभी शेर होकर जिलाओ तो.............यह मुश्किल है।

    ReplyDelete
  3. वाह...सुपर्ब ! :)

    ReplyDelete
  4. मिज़ाज का यह तीखापन बहुत पसंद आया-
    बदखती का ये आलम है तो तुझे लापता ही कहना है
    समझी हूँ तुझे, न समझी थी, न ही कभी समझना है

    ReplyDelete
  5. कोई मंजिल मिल जाती कोई मुकाम मिल जाता
    जिंदगी की जानलेवा अदाओं को काबिल नाम मिल जाता
    Waah.... Behad Umda

    ReplyDelete
  6. एक पहेली है जिन्दगी...कभी दुश्मन तो कभी सहेली है जिन्दगी...

    ReplyDelete
  7. हैल्थ से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां पर Click करें...इसे अपने दोस्तों के पास भी Share करें...
    Herbal remedies

    ReplyDelete
  8. दर्द का फ़लसफ़ा है तू या फ़ुरक़त का कोई फ़साना है
    ये जिंदगी ! तू जिंदगी ही है तो क्यों ये शोख़ वीराना है ?

    ................ लाजवाब शेर

    ReplyDelete
  9. हर लम्हे में कुर्बत हो जीस्त से तो ही सच्ची जिंदगानी है...वर्ना क्या है....सब फानी है.

    ReplyDelete
  10. दर्द का फ़लसफ़ा है तू या फ़ुरक़त का कोई फ़साना है
    ये जिंदगी ! तू जिंदगी ही है तो क्यों ये शोख़ वीराना है ?

    फ़लसफ़ाना ग़ज़ल का सुंदर अंदाज़ ।

    ReplyDelete
  11. ये जिंदगी ! बेऐतबारी में ही तो तेरा पता दिखा है...
    मंजिल-मुकाम व जानलेवा अदाओं के काबिल नाम की जरुरत के बिना जिंदगी हम तक भी पहुँच गयी है। तारीफ़ के लिए शब्द नहीं है मेरे पास.

    ReplyDelete
  12. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Government Jobs.

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन .............. सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  14. शायद इसलिए ही ज़िंदगी की कोई मुकम्बल परिभाषा नहीं होती।

    ReplyDelete
  15. तुझे जीना न आया तो तुझसे बेज़ोश क्यों होऊं ?
    बस ख़्वाब है तू सोच कर अपना होश क्यों खोऊं ?

    सच ही है. लाजवाब

    ReplyDelete
  16. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    ReplyDelete
  17. दर्द का फ़लसफ़ा है तू या फ़ुरक़त का कोई फ़साना है
    ये जिंदगी ! तू जिंदगी ही है तो क्यों ये शोख़ वीराना है ?

    बहुत ही सुंदर रचना ।

    ReplyDelete
  18. आदरणीया एक मुद्दत बाद आपकी रचनाओं तक आने का मौका मिला ,,आज तो आपका शायरान अंदाज देखने को मिला एक निवेदन हमेशा की तरह कर रहा हूँ कि उर्दू के शब्दों जो यदा कदा ही सुनने में मिलते हैं उनका अर्थ भी रचना के नीचे होंगे तो आपकी बात हम जैसे अति साधारण लिखने वालों और पढने वालों तक ज्यादा अच्छे से पहुचेगे,,मेरे मशविरे को अन्यथा मत लीजियेगा ,,ढेर सारी शुभकामनाओं और आपकी लेखनी को नमन के साथ अपने ब्लॉग से जुड़ने का निमंत्रण भी प्रेषित कर रहा हूँ सादर

    ReplyDelete
  19. आज आपका शायराना अंदाज देखने को मिला ..बिलकुल हट के ..आदरणीया एक निवेदन फिर कर रहा हूँ यदि आप उर्दू के शब्दों का अर्थ भी लिखेंगी तो हम जैसे सीखने वालों को काफी मदद मिलेगी ,बधाई के साथ

    ReplyDelete
  20. कोई मंजिल मिल जाती कोई मुकाम मिल जाता
    जिंदगी की जानलेवा अदाओं को काबिल नाम मिल जाता

    ख़ास है यह ग़ज़ल ।

    ReplyDelete
  21. ये जिंदगी ! बेऐतबारी में ही तो तेरा पता दिखा है - सही है।

    ReplyDelete
  22. Great job to attract the visitors. Lots of thank from my Smart Lifestyle site.

    ReplyDelete
  23. मतलब जो समझे वो कुछ जीते वर्ना सब तो हारे हैं
    बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  24. मुसाफ़िराना गुफ़्तगू के महज मुश्किल से इशारे हैं
    मतलब जो समझे वो कुछ जीते वर्ना सब तो हारे हैं

    कागज़ का एक उड़ता टुकड़ा है जिसपर कुछ लिखा है
    ये जिंदगी ! बेऐतबारी में ही तो तेरा पता दिखा है

    बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  25. बहुत ही बेहतरीन रचना है कुछ hindi quotes भी पढ़े

    ReplyDelete