Pages

Tuesday, March 3, 2015

भीतर तक रंगीली हो गयी ......

पपीहा से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि मधुमास क्या है ?
जवाब में वह
पी कहाँ , पी कहाँ की रट से
नये-नये पापों को नेहाने लगा

मधुकंठ से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि फगुनाहट क्या है ?
जवाब में वह
सौंधा-सौंधा सा
मंजराकर झरझराने लगा

मैना से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि जिद्दी जादू क्या है ?
जवाब में वह
चहक-चहक कर
ढाई आखर की पाती
पढ़ने और पढ़वाने लगी

तितली से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि मन का उड़ना क्या है ?
जवाब में वह
महक-महक कर
अपना गुलाबी गाल छुपाने लगी

बुलबुल से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि गुलाल क्या है ?
जवाब में वह
बहक-बहक कर
बौराये हास-परिहास को ही
बादलों में घोल फहराने लगी

भौंरा से तो
किसी ने बस इतना ही पूछा
कि रंग क्या है ?
जवाब में वह
फूलों से झट भींगकर
भर दम ऊधम मचाने लगा

और मुझसे तो
किसी ने पूछा भी नहीं
कि फाग क्या है ?
पर आप से ही मैं
सब रंगों में गिरकर
भीतर तक रंगीली हो गयी .

13 comments:

  1. रंगों में भरी रंग से भरी आहाट है ॥यही पगुनाहट है ...!!बहुत सुंदर भाव !!

    ReplyDelete
  2. फागुन का रंग ऐसे ही चढ़ता है...कोई भिगोये या न भिगोये मन रंगीन हो उठता है...होली मुबारक !

    ReplyDelete
  3. स्‍ाभी प्रेमी जीवों को मधुमास के रस से जोड़ कर जो प्रश्‍नोत्‍तरी हुई वह रंग-भंग से गुदगुदाती है

    ReplyDelete
  4. होली में इतना सारा सवाल-जवाब ? दूसरों के बहाने आपने तो सब रंग चुरा कर खुद को रंग लिया। काश, ये हुनर हमें भी आता .........

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव ..

    मन को रंगते हुए

    ReplyDelete
  6. अहा … और मैं प्रकृति के इन सब रंगों में रंगकर सराबोर हो गई … रंगोत्सव होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  7. यही तो फागुन की मस्ती है ... पूछने की जरूरत ही नहीं ... खुद ही रंग देती है उस रंग में जिस रंग में आप खुद रंगना चाहो ...
    रंगों के पर्व की हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  8. प्रत्येक प्रकृति के आयाम को कविता में समेटना, कई कोमलताओं में किसी एक ताकतवर कोमलता को फकडकर दो पक्तियों में भाव और कृति के साथ बिना बोले बांधना, पूछे गए सवाल का जवाब शब्दों में नहीं रंगों में रंग कर देना कई बिंब और प्रतीकों को लेकर आता है। एक धून, एक शब्द, एक वाक्य, एक पंक्ति... मन के भीतर कई रंगों को बिखेर देती है यह बताती सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  9. सब की अपना राग है अपना रंग है. उसी में सब जीवंत हैं.

    ReplyDelete
  10. फाग की आग को भला चिंगारी की क्या जरुरत :-)

    ReplyDelete
  11. सोंधी सोंधी महकती हुई गुलाल सी कविता

    ReplyDelete
  12. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    ReplyDelete