Pages

Wednesday, August 28, 2013

अकारण ही ...



अकारण ही
अर्धरात्रि का समय
मुझे ऐसे घेरता है
कि मेरा इन्द्र भयभीत हो जाता है
एक भयानक झंझावात उठता है
और उसी पर एक प्रलयंकारी
वृष्टि एवं अग्निवर्षा होने लगती है....
योगमाया का ही तो प्रभाव है
कि प्रगाढ़ निंद्रा में सोये मेरे द्वारपाल
अचानक जग कर्तव्यपालन में
पूरी तरह से लग जाते हैं ....
बंदीगृह की तत्परता और
सूप की व्यग्रता देखी नहीं जाती
यमुना और शेषनाग रह-रह कर
सामने आने लगते हैं ....
मेरा शिलापट भी क्षुधातुर हो उठता है
पर जो बेड़ियाँ हैं न
वो और भी दृढ़ता से बांध जाती है
करागार का फाटक पहले ही
खुलने से मना कर देता है ....
बड़ी बेचैनी है , घबराहट है
इस गर्भ में ये कैसी आहट है ?
सावधानी तो बरत रही हूँ
पर असावधानियाँ कंस-सी
आतातायी हो रही है ....
अब अपने ही अत्याचारों के भार को
सहन करने में असमर्थ हूँ
पर उस अजन्मे अवतार को जन्म दूँ
कहाँ इतनी मैं समर्थ हूँ ?
अर्धरात्रि के बीतते ही
झंझावात के साथ-साथ
गर्भ भी शांत हो जाएगा
और दिन में स्वप्नावतार को
पूरी तरह से भूलभाल कर
अपने घर-ऑफिस के कामकाज में
बैल की तरह फिर से लग जाएगा .

27 comments:

  1. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना,,,
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,
    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  3. कृष्णाष्टमी की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बृहस्पतिवार- 29/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः8 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  5. सब कृष्ण को पुकार तो रहे हैं पर अपने अपने स्वार्थ में भी लिप्त हैं ॥शायद इसी लिए कृष्ण अवतार ले कर नहीं आ रहे ... बहुत सुंदर और गहन रचना ....

    जन्माष्टमी की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  7. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  8. जीवन के समग्र स्वीकार के प्रतीक ' संपूर्ण पुरूष ' कृष्ण को आना ही है ....यह ख्याल अकारण नहीं है...
    श्री कृष्णजन्मोत्सव की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  9. निश्‍चय ही दिन का यह स्‍वप्‍नावतार नए दिन के प्रारम्‍भ में सब भूलभाल जाएगा और कार्यालय-घर के कार्यों में बैल की तरह लग जाएगा। क्‍या गहन बात कह दी शुभअवसर के लिए अपवित्र हो चुके भूखण्‍ड और काले हो चुके समय में।

    ReplyDelete
  10. बहुत गहन और सटीक अभिव्यक्ति...श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ

    ReplyDelete
  12. इस तरह गर्भित व्यथा/ व्याकुलता निर्मूल होती नहीं शायद.

    ReplyDelete
  13. मन की व्यग्रता को एक अजन्मे गर्भ का प्रतीक देना और फिर रोजमर्रा के काम में व्यग्रता का शिथिल हो जाना .....सोच की गहराई को प्रणाम !!!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर रचना .
    http://yunhiikabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. सटीक भाव ... रोज़ ही ऐसे भाव उठते हैं मन में ओर सुबह होते होते शिथिल हो जाता है सब कुछ ... ये उस की माया है या मन का डर ...
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई ...

    ReplyDelete
  16. गहन भावाभ्यक्ति!
    प्रतीकात्मक ढंग से अप्रतिम भाव उकेरे हैं आपने।
    सादर बधाई आदरणीया

    ReplyDelete
  17. मन की भी विचित्र स्थिति है, पल में माशा पल में तोला. बखूबी अभिव्यक्त किया आपने, हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  18. वेगवती धारा जैसे कृष्ण को ही ढूंढ रही हो ऐसा उद्दाम आवेग लिए है यह रचना प्रश्न वाचक मुद्रा में।

    ReplyDelete
  19. मन में कितना-कुछ उमड़ता है,टिकता कहां है !

    ReplyDelete
  20. मिथकीय बिंबों से सजी रची यह कविता मानवीय सीमाओं को मार्क करती है लेकिन सोच में आधुनिक दृष्टिकोण को प्रतिनिधित्व देते हुए उन सीमाओं को रेखांकित कर जाती है.

    ReplyDelete
  21. पर बिना जन्म दिए भी चैन नहीं आयेगा..उस दिन की प्रतीक्षा में तो यह सारा आयोजन है

    ReplyDelete
  22. प्रसव की असीम वेदना एक नए सूर्य को जन्म देगी ……बहुत शानदार

    ReplyDelete
  23. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  24. आपके कविताओं की समसमायिकता काबिल-ए-तारीफ है. बहुत-बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  25. मनःतंतुओं को झंकृत करती कविता।

    ReplyDelete
  26. झकझोर देने वाली रचना ..अमृता जी कृष्णा जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं ..सादर

    ReplyDelete