Pages

Saturday, September 1, 2012

ये मधुर अनुहार है...


अब प्रेम की
जैसी भी गली हो
सहसा बढ़ गये हैं
पाँव मेरे...
अब तेरा
पता- ठिकाना
किसी से क्या पूछना ?
बस चलते-चलते
पहुँच जाना है
गाँव तेरे...
पंथ अपरिचित है तो क्या ?
दूरी अपरिमित है तो क्या ?
तुम जानते हो
मेरी वेदना सुकुमार है
और तुमसे ही तो
ये मधुर अनुहार है...
अब तुम चाहे
मुझे आँख दिखाओ
चाहे तो कसमें खिलाओ
पर लौट कर
कहीं न जाऊँगी...
बस
तेरी पलकों की
छबीली छाँव तले
सुध-बुध खोकर
खुद को भी बिसराउंगी . 

40 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना


    पंथ अपरिचित है तो क्या ?
    दूरी अपरिमित है तो क्या ?
    तुम जानते हो
    मेरी वेदना सुकुमार है


    क्या बात

    ReplyDelete
  2. वाह अमृता जी ..सुध बुध क्षण को पढ़ते पढ़ते ही खो गयी ....रम से गए इस रचना में ...बहुत सुमधुर अनुहार है ....!!

    ReplyDelete
  3. पंथ अपरिचित है तो क्या ?
    दूरी अपरिमित है तो क्या ?
    तुम जानते हो
    मेरी वेदना सुकुमार है
    और तुमसे ही तो
    ये मधुर अनुहार है...

    आपकी रचनाओं में शब्द विन्यास और भावों की गूढ़ता सुखद अहसास देती है.वाह !!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  4. Amrita,

    MERI BHAGWAAN SE PRAATHNAA HAI KI AAPKI KALPANAA HAMESHAA URHTI REHEIN AUR HUM AAPKI KAVITAAYON KAA KHAZAANAA PARHTE RAHEIN.

    Take care

    ReplyDelete
  5. अब क्या कहना .... बहुत सुन्दर ख्याल

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावों का सुन्दर शब्दों के साथ चित्रण ........

    ReplyDelete
  7. अत्यन्त प्रभावी रचना..

    ReplyDelete
  8. वाह! बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  9. वाह...
    सुन्दर प्रेम ...
    सुन्दर ख़याल...

    अनु

    ReplyDelete
  10. प्रेम ये ऐसा रोग है,कब कैसे लग जाता
    मिलने को मन व्याकुल,रात दिन तड़पाता,,,,

    RECENT POST,परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    ReplyDelete
  11. पंथ अपरिचित है तो क्या ?
    दूरी अपरिमित है तो क्या ?
    सुध-बुध खोकर
    खुद को भी बिसराउंगी
    ये मधुर अनुहार है...

    ReplyDelete
  12. अच्छी प्रेममयी रचना

    ReplyDelete
  13. वाह ...प्रेमपगी सुंदर रचना .... आप ऐसा भी लिखती हैं ? वरना आपकी कविता को समझने के लिए कम से कम दो तीन बार तो पढ़ना ही पड़ता है :)

    ReplyDelete
  14. बहुत ख़ूब!

    एक लम्बे अंतराल के बाद कृपया इसे भी देखें-

    जमाने के नख़रे उठाया करो

    ReplyDelete
  15. आपको पढ़ना वाकई अमृत पीने के सदृश है |उम्दा कविता |

    ReplyDelete
  16. प्रेम की सुंदर अनुभूति और अनुहार.

    बहुत खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  17. हृदयस्पर्शी प्रेमोपहार और समर्पण की सुकुमार सर्जना

    ReplyDelete
  18. याद आयी यह कविता अचानक

    पंथ होने दो अपरिचित

    प्राण रहने दो अकेला!



    और होंगे चरण हारे,

    अन्य हैं जो लौटते दे शूल को संकल्प सारे;

    दुखव्रती निर्माण-उन्मद

    यह अमरता नापते पद;

    बाँध देंगे अंक-संसृति से तिमिर में स्वर्ण बेला!



    दूसरी होगी कहानी

    शून्य में जिसके मिटे स्वर, धूलि में खोई निशानी;

    आज जिसपर प्यार विस्मित,

    मैं लगाती चल रही नित,

    मोतियों की हाट औ, चिनगारियों का एक मेला!



    हास का मधु-दूत भेजो,

    रोष की भ्रूभंगिमा पतझार को चाहे सहेजो;

    ले मिलेगा उर अचंचल

    वेदना-जल स्वप्न-शतदल,

    जान लो, वह मिलन-एकाकी विरह में है दुकेला!
    महादेवी वर्मा

    ReplyDelete
  19. आपकी इस कविता में सहजता औऱ प्रवाह दोनों का अद्भुत समन्वय है। जहां तक भावों की बात है तो प्रेम में डूबे मुसाफिर मन को आपने शब्दों में बांधने का सुंदर यत्न किया है। बहुत-बहुत आभार और शुक्रिया।

    ReplyDelete
  20. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  21. एक संगीन तजुर्बे के अंतहीन सफ़र का
    कोई अंजाम नहीं...कोई मुकाम नहीं....
    आप हर बार की तरह स्तब्ध करती रहती हैं.. इस बार कुछ ज्यादा.... बेशक ज्यादा...

    ReplyDelete
  22. प्रेम के इस मधुर सफर की शुरुआत है तो मंजिल भी जल्द ही मिट जायगी ... सुन्दर प्रवाह है रचना में ...

    ReplyDelete
  23. सुध-बुध खोकर खुदको बिसराकर प्रेम किया है, तो बिना पता ठिकाना उनके गाँव पहुँच ही जाना है... सुन्दर मधुर मनुहार... आभार

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन उदगार...
    बधाई !

    ReplyDelete
  25. पंथ अपरिचित है तो क्या ?
    दूरी अपरिमित है तो क्या ?
    तुम जानते हो
    मेरी वेदना सुकुमार है

    गजब है ये राह प्रेम की

    ReplyDelete
  26. तुम जानते हो
    मेरी वेदना सुकुमार है
    और तुमसे ही तो
    ये मधुर अनुहार है...!

    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  27. अब प्रेम की
    जैसी भी गली हो
    सहसा बढ़ गये हैं
    पाँव मेरे...
    ;;अपने वश में तो होता नहीं कुछ,
    कैसे रोके कोई पांव.
    अचानक कोई सा पल ,
    भर देता है प्राणों में प्यार,
    और दे जाता है बेदना अपार ,;;;;;;;;

    ReplyDelete
  28. अति सुन्दर भाव अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  29. बस हो ही गया मिलना.
    वह ऐसों की ही राह तक करता है, बधाई !

    ReplyDelete
  30. यही प्यास हो और यही समर्पण तो वो कब तक दूर रह सकेगा भला ।

    ReplyDelete
  31. पर लौट कर
    कहीं न जाऊँगी...
    बस
    तेरी पलकों की
    छबीली छाँव तले
    सुध-बुध खोकर
    खुद को भी बिसराउंगी.

    शब्द और भाव का समिश्रण आपकी कविता को प्रशंसनीय बना दिया है। पढ़ कर अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  32. मदिरालय जाने को घर से चलता है पीने वाला ,
    किस पथ से जाऊं असमंजस में है वह भोला भाला ,
    अलग अलग पथ बतलाते सब ,लेकिन मैं बतलाता हूँ ,
    राह पकड़ तू एक चलाचल पा जाएगा मधुशाला ......अति सूधो सनेह का मार्ग है.....सयानाप .... ...फिर अनुहार और मनुहार ,अपेक्षा हर किसी से तो होती भी नहीं ,
    कितनी दूरी मंजिल की हो चलते चलते कट जाती है ,.....प्रेम पथिक को मंजिल ढूंढें ,मंजिल खुद ही मिल जाती है...........परिपूर्ण मुग्धा भाव और समर्पण ही प्रेम की अन्विति है .....बढ़िया रचना ....
    मंगलवार, 4 सितम्बर 2012
    Connecting the Dots : Type 2 Diabetes
    The Basics (पारिभाषिक शब्दावली के साथ हिंदी में भी जल्द आ रहा है यह आलेख :बुनियादी बातें जीवन शैली रोग मधुमेह की )

    Diabetes ,which affects 25.8 million Americans , is a disease in which people have high blood glucose

    (blood sugar )levels due to the body's inability to produce or use insulin .

    Insulin is a hormone that converts the sugars and starches that you eat into glucose , the fuel for your cells.

    In Type 1 (often called juvenile) diabetes , the body does not produce insulin from birth .

    With Type 2 diabetes ,over time the body either stops producing enough insulin or does not respond properly to insulin (insulin resistance).

    Untreated or poorly managed diabetes can lead to chronically high blood sugar levels , a risk factor for heart disease , nerve damage , vision loss and other problems.

    ReplyDelete
  33. आज 4/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  34. खुद को बिसराने में ही प्रेम की परिणति है. बहुत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  35. प्रेम की डगर पर बढे तो कदम पीछे कहाँ ...कविता का यह प्रेम और समर्पण मुग्ध कर रहा है .

    ReplyDelete
  36. कवियित्री प्रेम में समर्पिता है ,व्याकुल है .कविता प्रेम को पाने की उसकी पीड़ा को व्यक्त करती है .भीतर की पीड़ा अन्दर की लय ,अंतर की आवाज़ सभी इस कविता में आन बसीं हैं .कवियत्री कहती है मेरा (तेरे प्रति मेरा प्रेम )प्रेम अनन्य है मैं तेरा ही अनुसरण ,अनुसार ,अनुहार करूंगी किसी और का नहीं .फिर जो हो सो हो -
    मंगलवार, 4 सितम्बर 2012
    जीवन शैली रोग मधुमेह :बुनियादी बातें
    जीवन शैली रोग मधुमेह :बुनियादी बातें

    यह वही जीवन शैली रोग है जिससे दो करोड़ अठावन लाख अमरीकी ग्रस्त हैं और भारत जिसकी मान्यता प्राप्त राजधानी बना हुआ है और जिसमें आपके रक्तप्रवाह में ब्लड ग्लूकोस या ब्लड सुगर आम भाषा में कहें तो शक्कर बहुत बढ़ जाती है .इस रोगात्मक स्थिति में या तो आपका अग्नाशय पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन हारमोन ही नहीं बना पाता या उसका इस्तेमाल नहीं कर पाता है आपका शरीर .

    पैन्क्रिअस या अग्नाशय उदर के पास स्थित एक शरीर अंग है यह एक ऐसा तत्व (हारमोन )उत्पन्न करता है जो रक्त में शर्करा को नियंत्रित करता है और खाए हुए आहार के पाचन में सहायक होता है .मधुमेह एक मेटाबोलिक विकार है अपचयन सम्बन्धी गडबडी है ,ऑटोइम्यून डिजीज है .

    फिर दोहरा दें इंसुलिन एक हारमोन है जो शर्करा (शक्कर )और स्टार्च (आलू ,चावल ,डबल रोटी जैसे खाद्यों में पाया जाने वाला श्वेत पदार्थ )को ग्लूकोज़ में तबदील कर देता है .यही ग्लूकोज़ ईंधन हैं भोजन है हरेक कोशिका का जो संचरण के ज़रिये उस तक पहुंचता रहता है .

    ReplyDelete