Pages

Friday, August 17, 2012

अमृत चख...


कितना
सहज,सरल
है डगर
चलता चल

मत कर
अगर-मगर
लग जाए न
कहीं ठोकर
पर
मत रुक
वहीं रोकर

मटक-मटक
चल पनघट
घट भर
और घर चल

जमघट से
बचकर निकल
मत तक
इधर-उधर
तनने दे
टेढ़ी नजर
सर पर
घट रख
तन कर गुजर

तय है
यह सफ़र
मत उलझ
राह पर
रहगीर मिले
या रहबर
शुक्रिया कर
चलता चल

कहीं जाए न
साँझ ढल
घट में ही
रह जाए न
सब जल
और
रीता-रीता
बस तू
हाथ मल

प्यास तू
अमृत भी तू
छक कर
अमृत चख
फिर उगल

देर न कर
मत मचल
इधर-उधर
घट भर
और घर चल .


35 comments:

  1. कल कल की गूँज है इस कविता में। वैसे ही बहती चली जा रही है।..वाह!

    ReplyDelete
  2. बचपन का मासूम पाठ याद आ गया ... बहुत ही बढ़िया प्रयोग

    ReplyDelete
  3. तय है
    यह सफ़र
    मत उलझ
    राह पर
    रहगीर मिले
    या रहबर
    शुक्रिया कर
    चलता चल



    हर पंक्ति का अलग
    अपना अंदाज और
    संदेश है।
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. सहज/सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  5. चल घर चल,हठ मत कर...पनघट पर जल भर...रब से डर..
    रश्मि दी ने ठीक कहा....
    पाठ बचपन का, मगर अर्थ गहन छुपे हैं...

    सुन्दर!!!

    ReplyDelete
  6. प्यास तू
    अमृत भी तू
    छक कर
    अमृत चख
    फिर उगल

    ....सहज शब्दों में बहुत गहन और सशक्त अभिव्यक्ति॥

    ReplyDelete
  7. प्यास तू
    अमृत भी तू
    छक कर
    अमृत चख
    फिर अमृत उगल
    वाह ... !

    ReplyDelete
  8. चलता चल कि....
    जैसे पानी रे पानी
    शुक्रिया आपका..रब का भी
    अमृता वाणी... अमृता वाणी .......



    ReplyDelete
  9. प्यास तू
    अमृत भी तू
    छक कर
    अमृत चख
    फिर उगल
    सचमुच अद्भुत प्रयोग... बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  10. मुसाफिर होने के हक को अदा करने की प्रेरणा देती है कविता। जिंदगी के सफर में कोई मकसद है तो भटकाने वाले तमाम प्रलोभन भी, उनसे खुद को बचाकर आगे निकल जाने की जिजीविषा को जीवंत करती रचना। बहुत-बहुत स्वागत है। नए प्रयोगों की तो तारीफ होनी चाहिए। रचना का सरल, सहज प्रवाह भी ध्यान आकर्षित करता है। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  11. प्यास तू
    अमृत भी तू
    छक कर
    अमृत चख
    फिर अमृत उगल
    वाह ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  12. अति सुंदर रचना है , क्यों न बार बार पढूं ?

    ReplyDelete
  13. तय है
    यह सफ़र
    मत उलझ
    राह पर
    रहगीर मिले
    या रहबर
    शुक्रिया कर
    चलता चल

    आपकी कविता कहूँ या रचना या कह दू भावों की लड़ियाँ .किस शब्द को कहूँ किससे नादाँ किसे कहूँ सयाना .मैं तो बस रह गया निःशब्द

    ReplyDelete
  14. छोटी -छोटी बातों में जीवन के गूढ़ अर्थ .कमल किया है आपने

    ReplyDelete
  15. पनघट से घर तक का सफ़र...इतना सहज और सरल तो नहीं है...मार्ग में गरल भी हैं...पर समझदार वही है...जो अमृत लेकर निकल ले...वापस घर तक...

    ReplyDelete
  16. Amrita,

    HAMEIN JEEVAN BHI ISI BHANTI GUZAARNAA CHAAHIYE.

    Take care

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बढ़िया । राही मासूम रजा की एक सुंदर कविता पढ़ने के लिए आपका मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete

  18. अमृत चख...

    कितना
    सहज,सरल
    है डगर
    चलता चल

    मत कर
    अगर-मगर
    लग जाए न
    कहीं ठोकर
    पर
    मत रुक
    वहीं रोकर

    मटक-मटक
    चल पनघट
    घट भर
    और घर चल

    भीड़ से
    बचकर निकल
    मत तक
    इधर-उधर
    तनने दे
    टेढ़ी नजर
    सर पर
    घट रख
    तन कर गुजर

    तय है
    यह सफ़र
    मत उलझ
    राह पर
    रहगीर मिले
    या रहबर
    शुक्रिया कर
    चलता चल

    कहीं जाए न
    साँझ ढल
    घट में ही
    रह जाए
    न सब जल
    और
    रीता-रीता
    बस तू
    हाथ मल

    प्यास तू
    अमृत भी तू
    छक कर
    अमृत चख
    फिर उगल

    देर न कर
    मत मचल
    इधर-उधर
    घट भर
    और घर चल .कवियित्री अभिव्यक्त होना चाहती है स्वयं भी ,विचार कौंधता है और वैचारिक दृष्टि से कवियित्री चिंगारी की तरह अपनी बात कहती है .संसार बहुत कुटिल है ,यहाँ बहुत कुछ ऐसा है जो तुम्हारे विपरीत है रुको मत अपना काम करो और आगे बढ़ो ,छोटे बिम्ब और क्रियाओं के गति शील बिम्ब लेकर कवियित्री आगे बढती है ,रचनात्मकता है कवियित्री में ,बेशक लयात्मकता का प्रभाव कहीं कहीं टूटता है ,लेकिन थोड़े अभ्यास से इसका भी निर्वाह हो सकता है ,असल बात है विचार की लय वह कहीं भंग नहीं होती है प्रबल आवेग लिए रहती है तमाम रचना में .
    ram ram bhai
    शुक्रवार, 17 अगस्त 2012
    गर्भावस्था में काइरोप्रेक्टिक चेक अप क्यों ?

    ReplyDelete
  19. भीड़ से
    बचकर निकल
    यहाँ लयात्मकता भंग होती है लेकिन कवियित्री को शास्त्र की समझ है
    ..कविता के शास्त्र की जानकार है वह .

    ReplyDelete
  20. कुछ नया प्रयोग अच्छी प्रस्तुति,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  21. तय है
    यह सफ़र
    मत उलझ
    राह पर
    रहगीर मिले
    या रहबर
    शुक्रिया कर
    चलता चल
    राह की उलझनों में उलझ कर रह जाने से बेहतर है राह पकड़ तू एक चलाचल पा जाएगा मधुशाला।

    ReplyDelete
  22. ऐसा लगा जिसे कोई ताल पर गीत गा रहा हो....वाह ।

    ReplyDelete
  23. यह अमृत तो ऐसा है जो एक बार चख लिया तो फिर उगलते नहीं बनता...सुंदर लेखन !

    ReplyDelete
  24. जीवन-प्रपात सी कविता. प्रपात जो जीवन-कला सिखाता है. चलते रहने की गति देता है.

    ReplyDelete
  25. वाह ... बहुत खूब...

    ReplyDelete
  26. बचपन में पढ़े हिन्दी पोथी की रिदम याद हो आयी .. :-)
    वाकई गजब शिल्प की कविता है!

    ReplyDelete
  27. कल-कल झरती जीवन रचना... गतिमान

    ReplyDelete
  28. नया प्रयोग और ताजापन ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  29. गूढ़ अर्थ लिए सुंदर रचना

    ReplyDelete
  30. सर पर घट रखकर तन कर तू गुजर !
    यही प्रेरणा तो जनमानस में शक्ति बनकर ऊर्जा का संचार करती है !

    ReplyDelete
  31. थक रुक थक,
    पर उठ चल।

    बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  32. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  33. सुन्दर प्रस्तुति। मरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब ... लाजवाब अंदाज़ है इस रचना में ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  35. very good thoughts.....
    मेरे ब्लॉग

    जीवन विचार
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete