Pages

Thursday, May 17, 2012

क्षणिकाएँ



बेझिझक बोलों के अब
पोल खुले ही रहते हैं
जिसपर बेमानी बुद्धिवाद
चिथड़ों में सजे रहते हैं .


बबूला भी बलबलाकर
बड़ा होने में ही फूटता है
पर इन्द्रधनुषी इठलाहटों का
कोई भ्रम कहाँ टूटता है .


भला कौन किसको अब
कोई परामर्श दे सकता है
जहाँ एक घास का तिनका भी
अनुभवों को बाँचते फिरता है .


उपद्रवी ब्योरों का भी
ब्योरा-ये-हाल कोई तो कहे
जो चींटियों की धड़कनों पर भी
धड़कन रोके नजरें चुभाये बैठे हैं .


नगाड़ों में खुदुर-बुदुर कौन सुने
सब समय की ही तो बात है
नक्कारखाना भी अब हैरान है
जिसमें तूती की चलती धाक है .


तूफानी विचारों की आँधी में
बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
पर अक्सर आगे लगा 'उप'
बस 'आ' में बदल जाता है .



51 comments:

  1. बहुत बढ़िया अमृता जी......
    उपदेश को आदेश में बदलते देर नहीं लगती......

    सादर.

    ReplyDelete
  2. क्षणिकाओं में भी आप छा गयी हैं !

    ReplyDelete
  3. वाह क्या बात है...बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आमंत्रित सादर करे, मित्रों चर्चा मंच |

    करे निवेदन आपसे, समय दीजिये रंच ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच |

    ReplyDelete
  5. Amrita,

    DESH KI STITHI KAA VARNAN SAHI KIYA HAI. YEH SACH HAI KI BUDHIMAAN BHI AB PRAMARAASH DENE SE HICHKICHAATAA HAI KYONKI GHAAS KA TINKAA BHI ANUBHAV BANTTAA PHIRTAA HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  6. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .
    छोटी-छोटी फेर-बदल से कितने अर्थ बदल जाते हैं। उपदेश देने में तो सब माहिर होते हैं, उसे अपना लें तो भला हॊ।

    ReplyDelete
  7. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    सम्यक विचारों से ओतप्रोत आपकी यह क्षणिकाएं निश्चित रूप से प्रभावशाली हैं .....!

    ReplyDelete
  8. उप से आ की यात्रा देश के लिये घातक हो रही है।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया क्षणिकाए लगी अमृता जी,,,,

    बेझिझक बोलों के अब
    पोल खुले ही रहते हैं
    जिसपर बेमानी बुद्धिवाद
    चिथड़ों में सजे रहते हैं .

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,
    MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

    ReplyDelete
  10. deep thought with worry.
    so so nice post. i love it .

    ReplyDelete
  11. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    सभी क्षणिकाएं गहन अर्थ लिए हुये .... बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .
    शब्दों का बेहतरीन उपयोग ...और सुंदर भाव भारी क्षणिकाएं ....!!

    ReplyDelete
  13. अर्थों में लपेट कर अनर्थ करने में तो निपुण हो गये हैं लोग !

    ReplyDelete
  14. अनुभवी विनम्र होता है ... पर अधजल गगरी छलके जाए

    ReplyDelete
  15. प्रभावशाली और सम्यक क्षणिकाएं . बज रही है जी तूती. अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  16. गहन अर्थ लिए सुन्दर क्षणिकाएं .. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. वाह ...बहुत खूब।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं अमृता जी

    ReplyDelete
  19. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    ...बहुत खूब! सभी क्षणिकाएं बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  20. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .
    गहरे अर्थ लिये सुन्दर क्षणिकाएं ।

    ReplyDelete
  21. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    मतलब उप-देश के स्थान पर आ-देशः)
    सुंदर क्षणिकाएँ!!!

    ReplyDelete
  22. behtarin chadikayein..kavi ek rang anek..aapke lekhan ke tamam rangon me se ek juda rang..तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .
    wakahi jara se hera feri se mayne hee badal jaate hain..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  23. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    बहुत सुन्दर ... शब्दों/अर्थों का चमत्कार

    ReplyDelete
  24. आपकी क्षणिकाओं में गहरी संवेदना अपनी पूर्ण समग्रता में परिलक्षित होती है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  25. वाह ...बेहतरीन क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  26. बढ़िया विचार कणिकाएं .व्यंग्य लिए .

    ReplyDelete
  27. सच है उपदेश देने वाले बहुतेरे होते हैं, लेकिन यदि वे खुद ही उसपर अमल कर लें, तो इतना भी काफी होता है परिवर्तन के लाने लिए... सार्थक प्रस्तुति के लिए आभार

    ReplyDelete
  28. सभी एक से बढ़कर एक

    ReplyDelete
  29. उपदेश और आदेश के बीच का सूक्ष्म अंतर बखूबी समझा दिया आपने |

    ReplyDelete
  30. वाह दीदी...एकदम सच बात कही है आपने!!

    ReplyDelete
  31. क्षणिकाएं अच्छी लगी...आपकी बात ही जुदा है....

    ReplyDelete
  32. सभी सुन्दर........तीसरी वाली सबसे अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  33. बबूला भी बलबलाकर
    बड़ा होने में ही फूटता है
    पर इन्द्रधनुषी इठलाहटों का
    कोई भ्रम कहाँ टूटता है.

    यह क्षणिका विशेष रूप से बहुत अच्छा लगी.

    ReplyDelete
  34. वाह...बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  35. नगाड़ों में खुदुर-बुदुर कौन सुने
    सब समय की ही तो बात है
    नक्कारखाना भी अब हैरान है
    जिसमें तूती की चलती धाक है...

    बहुत खूब हैं...आपकी क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  36. सुन्दर क्षणिकाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  37. तूफानी विचारों की आँधी में
    बेचारा 'देश'तो वही रह जाता है
    पर अक्सर आगे लगा 'उप'
    बस 'आ' में बदल जाता है .

    वाह ,,,, बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,, सुंदर क्षणिकाएं

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

    ReplyDelete
  38. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं
    शानदार:-)

    ReplyDelete
  40. एक से बढ़कर एक.

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब! परामर्श, उपदेश, आदेश में उलझा देश और सन्देश!

    ReplyDelete
  42. सभी क्षणिकाएं दमदार हैं ... सत्य की प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  43. बढिया भाव -वेरेचक प्रस्तुति याद दिलाती हुई मुक्ति गान -हम होंगे कामयाब एक दिन .....कृपया जूझती करलें .
    अर्थों की एक साथ अनेक छटाएं बिखेरती विचार कणिकाएं वक्त की नव्ज़ से संवाद करती हैं सभी .कृपया यहाँ भी पधारें -
    .
    ram ram bhai
    रविवार, 27 मई 2012
    ईस्वी सन ३३ ,३ अप्रेल को लटकाया गया था ईसा मसीह को सूली पर
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    तथा यहाँ भी -
    चालीस साल बाद उसे इल्म हुआ वह औरत है

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ReplyDelete
  44. भला कौन किसको अब
    कोई परामर्श दे सकता है
    जहाँ एक घास का तिनका भी
    अनुभवों को बाँचते फिरता है .

    इन पंक्तियों में अच्छा कटाक्ष है।
    बढि़या कविता।

    ReplyDelete
  45. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट "कबीर" पर आपका स्वागत है । धन्यवाद।

    ReplyDelete
  46. ek ek kshanika gahre bhaav liye....kahan se laati hain aap inhe dhoondh kar aur bun deti hain shabdon ka makarjaal....ati sundar.

    ReplyDelete