Pages

Thursday, May 10, 2012

प्रीतम का संदेशा


रोम-रोम को
अकस्मात सुख ने सिहराया है
चिर प्रतीक्षा की
व्याकुलता ने मानो वर पाया है
टिमटिमाते लौ से
जित ज्वाला सा जगमगाया है...

लगता है कि
मेरे प्रीतम का संदेशा आया है

ठहरी हवाओं को
प्रेम पंखो पर झुलाया है
पीपल पातों ने
ये कैसा कोलाहल मचाया है
चुप चातकी ने
चहक-चहक कर चौंकाया है...

हाँ ! प्रीतम का
प्यारा संदेशवाहक ही आया है

मरू नभ पर
घनघोर घन लहराया है
मोर मोरनी के
नयन में नयन दे मुस्काया है
नए-नए गीत
नई ध्वनियों ने मिल गाया है...

हुलस कर जिसे
मैंने भी निज-हाल सुनाया है

हर पल पर
लिखी पाती उसे थमाया है
कि ह्रदय को
कैसे मैंने उपासना-गृह बनाया है
अपने प्रीतम को
उसमें देव सदृश बिठाया है...

हठचेती ह्या ने
हठात भेद उगलवाया है कि

बिन मदिरा के
बेसुध सी रात ने मुझे भरमाया है
और भोर तक
जगते सपने ने निर्मोही को दिखाया है
हर तत्पर दिन
पुन: सूनी संध्या में समाया है...

हलाहल पी कर
मैंने भी ये संदेशा भिजवाया है

कि उसका दिया
विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
और हर्षोन्माद में
बस उसी को तो मैंने पाया है
दुःख देकर भी
आखिर उसी ने तो दुलराया है...

हाय ! प्रीतम तक
कैसा संदेशा उसने पहुँचाया  है .

42 comments:

  1. उसका दिया विरह उपहार भी प्रिय .... प्रेम का चरमोत्कर्ष

    ReplyDelete
  2. हर शब्द में उत्साह और उल्लास छलकता हुआ..

    ReplyDelete
  3. सचमुच दिल के अंग तरंग को झंकृत कर देने वाले सब्द है अमृता जी

    ReplyDelete
  4. bhaut hi khubsurat aur saargarbhit rachna....

    ReplyDelete
  5. बेहद खूबसूरत प्रेम की पाती

    ReplyDelete
  6. एक थकान की मन:स्थिति के बाद

    प्रीतम का संदेशा आ ही गया



    हमारी शुभकामना....बधाई

    ReplyDelete
  7. दिल की गहराइयों से...निकलती है...विरह की वेदना...

    ReplyDelete
  8. प्राकृतिक उपालाम्भों युक्त सुन्दर श्रृंगार रचना

    ReplyDelete
  9. Amrita,

    DURIYAAN BAHUT HI KATHIN HOTI HAIN AUR JAB EISE SANDESH MILTE HAIN TO MANOSTHI KAA VARNAN BILKUL SAHI KIYAA HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  10. और भोर तक
    जगते सपने ने निर्मोही को दिखाया है
    हर तत्पर दिन
    पुन: सूनी संध्या में समाया है...

    प्रेम में मन इतना लीं हो जाता है कि उसके सिवा कुछ और न दिखता है ...न सुहाता है ....

    निर्मोही सों नेहा लगाये ...
    जिया फिर भी उसी के गुण गाये ...
    शाश्वत प्रेम की गाथा ...
    समर्पण का अद्भुत भाव ...
    सुंदर रचना ...अमृता जी ...

    ReplyDelete
  11. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    हाय ! प्रीतम तक
    कैसा संदेशा उसने पहुँचाया है .

    सारगर्भित सुंदर रचना,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि ...: आज मुझे गाने दो,...

    ReplyDelete
  12. प्रेम पगी सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  13. रोम-रोम को
    अकस्मात सुख ने सिहराया है
    चिर प्रतीक्षा की
    व्याकुलता ने मानो वर पाया है
    टिमटिमाते लौ से
    जित ज्वाला सा जगमगाया है...

    कुछ ऐसा ही कर जाता है ...प्रीतम का संदेशा

    ReplyDelete
  14. बढ़िया |
    बहुत बहुत शुभकामनायें |
    आभार |

    ReplyDelete
  15. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    हाय ! प्रीतम तक
    कैसा संदेशा उसने पहुँचाया है .
    उफ़ ! स्वयं ही उसके आने का मार्ग भी बंद कर दिया..यही तो अहंकार का काम है...बहुत सुंदर कविता !

    ReplyDelete
  16. सुभानाल्लाह बहुत ही खुबसूरत कैसे भी सही संदेशा पहुँच गया :-)

    ReplyDelete
  17. कल 012/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. dil ko gudguda gayi..man ko bhaa gayee..aaj to prem kee paati ccha gayee..sadar badhayee ke satb

    ReplyDelete
  19. समर्पण का अद्भुत भाव ...
    सुंदर रचना ...अमृता जी ...

    ReplyDelete
  20. मुझे सूरदास की पंक्तियाँ याद आई .
    कहत कत परदेशी की बात
    मंदिर अर्ध अवधि बदी हमसो हरि आहार चली जात
    ग्रह नक्षत्र वेद जोर अर्ध करि, ताई बनत अब खात

    अद्भुत

    ReplyDelete
  21. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    दुःख देकर भी
    आखिर उसी ने तो दुलराया है...bahut badhiya ......

    ReplyDelete
  22. निःशब्द करती रूमानियत

    ReplyDelete
  23. सन्देश को बादलों के पर लगे और हम सब की दुआ भी साथ है.

    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  24. यह वह एहसास है जिसकी अनुभूति होने पर सुध-बुध बेकाबू हो ही जाते हैं।

    ReplyDelete
  25. ठहरी हवाओं को
    प्रेम पंखो पर झुलाया है
    पीपल पातों ने
    ये कैसा कोलाहल मचाया है
    चुप चातकी ने
    चहक-चहक कर चौंकाया है...

    हाँ ! प्रीतम का
    प्यारा संदेशवाहक ही आया है ठहरी हवाओं को
    प्रेम पंखो पर झुलाया है
    पीपल पातों ने
    ये कैसा कोलाहल मचाया है
    चुप चातकी ने
    चहक-चहक कर चौंकाया है...

    हाँ ! प्रीतम का
    प्यारा संदेशवाहक ही आया है

    समर्पण का अद्भुत भाव ...

    ReplyDelete
  26. अमृताजी,
    अगर गूंगे के मुख गुड रख दिया जाये तो वह उसके स्वाद का क्या बखान कर सकेगा ,सिर्फ सबदहीन होकर इस कविता में जी रहा हूँ.हर शब्द हर पंक्ति बिरह का बाण लिए हर ह्रदय को बेध रहा प्रतीत होता है.परमचैतन्य से इस जीव चैतन्य को भावित इस निर्झर सी रसधारा का प्रवाह सतत रहे .इस यूग की मीरा का हार्दिक नमन .

    ReplyDelete
  27. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    *तब तो ये मधुर रचना बनपाया है .... !!

    ReplyDelete
  28. निशब्द करती समर्पित प्रेम की उत्कृष्ट प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  29. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    दुःख देकर भी
    आखिर उसी ने तो दुलराया है...

    हाय ! प्रीतम तक
    कैसा संदेशा उसने पहुँचाया है .

    आपकी कविता विरह भाव से अपने उच्छवासों को अभिव्यक्त करने में सार्थक सिद्ध हुई है । मरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा ।धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  30. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    दुःख देकर भी
    आखिर उसी ने तो दुलराया है

    यही प्रेम की परिभाषा है.

    ReplyDelete
  31. समर्पण का भाव जो अहसास जगाता है बह अद्भुत होता है. भाव विभोर करती प्रस्तुति.

    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  32. anupam,adbhut bhavmy aur bhaktimy prastuti.
    bas bhaav vibhor avm tanmy hun padhkar.

    ReplyDelete
  33. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    और हर्षोन्माद में
    बस उसी को तो मैंने पाया है
    दुःख देकर भी
    आखिर उसी ने तो दुलराया है...

    बहुत सुंदर भाव, सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  35. कि उसका दिया
    विरह उपहार भी बड़ा मनभाया है
    vaah sundar rachna ....

    ReplyDelete
  36. दुःख देकर भी
    आखिर उसी ने तो दुलराया है...

    अलख के प्रति बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  37. सुन्दर रूमानी कविता!!! :)

    ReplyDelete
  38. बहुत भावमयी सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर प्रस्‍तुति। आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । मेरी कामना है कि आप अहर्निश सृजनरत रहें । मेरे नए पोस्ट अमीर खुसरो पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  40. वाह अमृता जी कितने जीवंत हैं आपके बिम्ब...और कितनी समृद्ध आपकी भाषा....आशा निराशा के इस असमंजस को कितनी खूबसूरती से पिरोया है आपने .....

    ReplyDelete