Pages

Thursday, April 26, 2012

तदर्थ गढ़ा है ...


आत्म विभोर होकर
सस्ते में मैंने मान लिया कि
हर एक शब्द हीरा है
मंहगा न पड़ जाता कहीं
आत्मभार इसलिए
चुटकी बजा कर उठा लिया
ऐसा-वैसा हर बीड़ा है ....
अब क्षमता से अधिक भार लिए
कलम के नीचे दब रही हूँ
खुद को तो बचाना ही है तो
अपनी स्याही की ताकत को
खोखले शब्दों में भर रही हूँ.....
हैरान हूँ , वही आड़ी बन कर
मुझे ही ऐसे चीरा है
किससे और कैसे कहूँ -
आहत अभिमान बड़ी पीड़ा है ...
उलटे शब्दों ने व्यंग से कहा -
निराशाओं की पगडण्डी
इतनी छोटी होती नहीं
आँखों से चाहे गिरा लो
जितने भी आँसू
पानी ही है कोई मोती नहीं
अब बिचारी गंगा भी
धर्म व नीति के विरुद्ध
आचरणों को धोती नहीं
समय की भी टूटी कमर है
इसलिए सबको वह ढ़ोती नहीं...
और तो और ... मेरे बिना
कोई बात भी तो होती नहीं.....
सीना चौड़ा करके गर्व से
शब्द आगे कहता रहा -
जरा देखो हर तरफ बस
मेरा ही बोलबाला है
हर उजली बातों के पीछे
कहीं तो छिपा कुछ काला है...
मुझसे ही सजे हुए सबके
अपने -अपने अखाड़े हैं
जितना भी खेले गुप्त दाँव-पेंच
लेकिन सब मुझसे ही हारे हैं....
आखिर मुझसे ही तो
हर एक नाम लिखा जाता है
फिर अपने ही जमघट में ही
तड़प-झड़प कर खो जाता है....
नाम वाले कहते हैं - मुझमें
उन्होंने अपना अर्थ भरा है
पर सच तो यही है कि मैंने भी
उनको तदर्थ गढ़ा है .

 

51 comments:

  1. भावों के गाढ़ेपन में शब्द अपना महत्व पा जाते हैं।

    ReplyDelete
  2. शब्दों के अपने अपने अर्थ होते हैं
    निःसंदेह उसे हमने जीया है
    फिर संवारा है

    ReplyDelete
  3. दीदी, कहाँ से लाती हैं ऐसे तगड़े तगड़े शब्द..'तदर्थ'..
    मुझे शब्दकोष पे इसका अर्थ ढूँढना पड़ा, और फिर तब दोबारा कविता पढ़ना पड़ा..
    जबरदस्त कविता है ;)

    ReplyDelete
  4. सच तो यही है कि...मैंने भी उनको, तदर्थ गढा है!

    ...भावपूर्ण सुन्दर रचना...आभार!

    ReplyDelete
  5. पर सच तो यही है __

    बहुत ही अनुपम अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  6. तदर्थ = जिसके लिए = जिस प्रयोजन के लिए गढ़ा है .... !
    सार्थक गढ़ा है .... !!

    ReplyDelete
  7. सिर्फ वाह कहने को जी चाहता है.......
    आपका जवाब नहीं.....

    ReplyDelete
  8. नाम वाले कहते हैं - मुझमें
    उन्होंने अपना अर्थ भरा है
    पर सच तो यही है कि मैंने भी
    उनको तदर्थ गढ़ा है .

    वाह!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति,..अमृता जी
    प्रभावित् करती रचना,..

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: गजल.....

    ReplyDelete
  9. वाह अमृता जी.................
    भावपूर्ण, प्रभावशाली और प्रवाह पूर्ण.....

    लाजवाब......

    ReplyDelete
  10. निराशाओं की पगडंडी
    इतनी छोटी होती नहीं
    आखों से चाहो गिरा लो
    जितने भी आंसूं
    पानी ही है कोई मोती नहीं
    सुन्दर उलझनों से भरी खुद को सुलझाती लड़ियाँ आपके लेखन को नमस्कार और भावों को नमन .

    ReplyDelete
  11. शब्द नहीं हैं मेरे पास......हैट्स ऑफ

    ReplyDelete
  12. शब्द.....शब्द....शब्द....!!
    ज़रूरत हो तो महत्त्वपूर्ण होते हैं.....
    कई जगह जहां मौन होना चाहिए.....
    यही शब्द (चाहे कितने भी अच्छे हों ) निरर्थक हो जाते हैं॥!!
    सुंदर....अति सुंदर...!

    ReplyDelete
  13. ओह आहत अभिमान कि पीड़ा ....
    नाम हो जाने पर इस अहंकार से कैसे बचें ....??
    अपने अहंकार से स्वयं को ही लड़ना पड़ता है ....जो इस अहंकार को जीत गया ...वो ही प्रभु तक पहुँच पाता है ....!!
    बहुत सुंदर रचना ....शुभकामनायें .....!!

    ReplyDelete
  14. अमृता जी, स्वयं से संवाद करती..यानि आत्मालाप करती इस कविता को सचमुच एक से अधिक बार पढ़ा..बधाई !

    ReplyDelete
  15. कलम के नीचे दब रही हूँ,
    ....................................
    अपनी स्याही की ताकत को,
    खोखले शब्दों में भर रही हूँ.

    भावनाओ के समुंदर से आपने बहुत सुंदर सुंदर मोतिया,
    चुन चुन कर शब्दों की जो माला जो पिरोई है, स्वागतेय है.

    शुभेच्छु

    सूर्या

    ReplyDelete
  16. भावों कि गहरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  17. हाँ मैंने भी उन्हें तदर्थ गढ़ा है . हाँ बाहर सिर्फ शब्द होतें हैं ,



    अर्थ होतें हैं हमारे ही अन्दर ,



    जैसे एक समंदर ,मैंने कब क्या कहा -

    तुझे क्या मालूम ,

    समझे बैठा है खुद को धुरंधर .

    अमृता जी बहुत ऊंचे पाए की रचना है .छल कपट की इस दुनिया का वाहन शब्द ही है .

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर
    वाकई शब्द करामाती है

    ReplyDelete
  19. अनिता जी की तरह ही मेरी भी हालत थी। पर मैंने इसके अर्थ समझने के लिए कई बार पढ़ा। बड़ा बिम्बात्मक कथ्य है। समझने दिमागी कसरत करनी पड़ती है। जिस विशेष प्रयोजन के लिए कविता गढ़ी गई है, वह अपने हिसाब-किताब में पूरी तरह सफल हुई है।

    ReplyDelete
  20. शब्द अपनी सत्ता को सर्वोपरि बता रहा है। लेकिन हमारी जिंदगी से आने वाले शब्द....जिंदगी और अनुभव से सर्वोपरि कैसे हो सकते हैं...यह सवाल बना रहता है। शब्द की सत्ता भी एक ताकत है। जिसका इस्तेमाल इससे खेलने वाले करते हैं.....लेखक, कवि, कलाकार। लेकिन जिंदगी के किसी खूबसूरत पल से रचना उसी मायने में सुंदर हो सकती है कि यह बाकियों को भी अपने अनुभव में शामिल करती है।

    ReplyDelete
  21. wonderful expression,continuity of feelings resembles spring flowing through mountain of dreamland to a plane of actuality.in fact a poem of highly imaginative. congrutulation. thank you.

    ReplyDelete
  22. शब्दों के जंगल-दंगल में गुम हो गया...अच्छी है शब्दों की बाजीगरी...

    ReplyDelete
  23. MAI HAMESHA AAP KI KAVITAYEN PADHTA RAHTA HOON..LEKIN AAJ COMMENT KARNE KO JI KAR GAYAA...PAHLE AAPNE KAHA KI-HAR EK SHABD HIRA HAI.
    PHIR AAGE AAP KAHTI HAIN KI-APNE SYAHI KI TAQAT KO KHOKHLE SHABDON ME BHAR RHI HOON.
    MAAF KIJIYEGA YE BAAT MUJHSE NHI PACHI..
    KHAIR..KAVITA PADH KAR HMESHA KI TARAH AAJ BHI MAZA AAYA..

    ReplyDelete
  24. आपकी यह कविता शब्दों के समुचित प्रयोग के कारण अपनी सुरभि चतुर्दिक फैलाने एवं पाठकों के अंतर्मन में थोड़ी सी जगह बना सकने में सार्थक सिद्ध हुई है । मन को दोलायमान करती आपकी कविता के हर शब्द समवेत स्वर में बोल रहे हैं । बहुत सुंदर । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  25. अमृताजी आपकी कवितायेँ वाकई बहुत गूढ़ होती हैं ...दो तीन बार पढ़कर ही उन्हें समझ पाती हूँ .....पर जो समझ आता है वोह सागर की तरह गहरा होता है ......अर्थपूर्ण होता है .. appeal करता है ..!!

    ReplyDelete
  26. nice writing, achchhi kavita hai.badhai.

    ReplyDelete
  27. Amrita,

    HAR SHABAD KI APNI HI SHAKTI HOTI HAI. SHABAD KHOKHLA TAB LAGTAA HAI JAB USKE PRYOG SAHI NA KIYAA JAAYE. KAVITAA KA ANT SAHI RAHAA.

    Take care

    ReplyDelete
  28. शब्द ब्रह्म कहे गए हैं मगर अब शायद वे ब्रह्मत्व खोने लग गए हैं!
    मैंने उसने या तुमने कहा हो, अब शब्द भला वो गुरुता कहाँ रख सके हैं !

    ReplyDelete
  29. मैं ही मैं हूँ, दूसरा कोई नहीं ...

    ReplyDelete
  30. 'तदर्थ' में निहित तो 'समर्पण' ही होता है |
    उच्च कोटि की कृति |

    ReplyDelete
  31. आदरणीया....
    चयनित शब्दों को नया रंग रोगन देकर एहसासों के समंदर में डुबोकर ऐसी प्रवाहमय कविता प्रस्तुत करने का आभार. शब्द और अर्थ दोनों के पैमाने पर खरी उतरती इस कविता को प्रस्तुत करने का आभार..... ! आगे भी प्रतीक्षा रहेगी

    ReplyDelete
  32. मुग्ध करते शब्द लाजबाब भाव . मन मुदित होत अ है आपको पढ़कर .

    ReplyDelete
  33. निशब्द करते भाव और शब्द....

    ReplyDelete
  34. भाव बढ़े हर चीज के , शब्द हुये बेभाव
    पत्थर मत इनको बना, इनका सरल स्वभाव.
    बाण, शब्द - भेदी चले, हुआ बहुत बिखराव
    गाज गिरी ; जब से हुआ, शब्दों में टकराव.
    लेते श्रद्धा - प्रेम जगे , वरना नाम है व्यर्थ
    शब्द कहे हर नाम को , मैंने गढ़ा तदर्थ.

    उच्च स्तरीय रचना पढ़ मन तृप्त हो गया, आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapne to kamal ka likha hai. badhai.

      Delete
  35. नायाब अर्थपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  36. गहरे भावों वाली सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  37. पीड़ा को खूब अभिव्यक्ति दी है आपने ....तदर्थ गढा है ...बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  38. chuninda behtarin shabd..khoobsurat prabahmayee rachna....aauron kee tarah maine bhee baar baar padha..kafi clist hai..koi bhee rachna tab samajh me aati hai jab kavi kee frequency se pathak kee freequecy match kar jaaye..bahut kuch to maine samjha par hakeekat me puri tarah nahi samajh paaya...sadar badhayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete
  39. bahut he shasakt rachna jitni tarif kee jaye kam hai..sach me aapka jawab nahi hai..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  40. स्याही की ताकत शब्दों मे भर दी तो खोखले रहे कहाँ ...
    एक -एक शब्द हीरा ही तो है !
    आपको पढना हमेशा ही सुख देता है !

    ReplyDelete
  41. निराशाओं की पगडंडी ... कितने ही आँसू बहा लो होता तो पानी ही है ... शब्द तदर्थ गढ़े जाएँ तो वो भी सार्थक हो जाते हैं ... बहुत गहन अभिव्यक्ति ....

    मैं अभी आपके ही ब्लॉग को खोज रही थी कि इतने में आपकी टिप्पणी मिली और मेरे लिए यहाँ तक आना सरल हो गया :)

    ReplyDelete
  42. बेहतरीन रचना
    अरुन (arunsblog.in)

    ReplyDelete
  43. कल 01/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  44. गहरे भाव लिए हुए सुन्दर अभिव्यक्ति....
    बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  45. ऊँ नम: शिवाय
    सर्वत्र कल्याण हो.
    'कल्याण'का भाव हो तो हर शब्द अनमोल है.
    हर शब्द भावों का खजाना है.

    सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  46. आत्म विभोर होकर सस्ते में मैंने मान लिया कि हर एक शब्द हीरा है मंहगा न पड़ जाता कहीं आत्मभार इसलिए चुटकी बजा कर उठा लिया ऐसा-वैसा हर बीड़ा है ....
    खूवसूरत पंक्तियाँ....

    ReplyDelete
  47. शब्दार्थ की तदर्थता....सुंदर भाव और चित्रण.

    ReplyDelete