Pages

Friday, April 20, 2012

किस भाँति मैंने....


मत पूछो कि
किस भाँति मैंने
निज को लुटाया है

अपने ही बंद झरोखे को
धीरे से खुलते पाया है
मैं न जानूं कौन है वो पर
चुपके से कोई तो आया है....
नींद बड़ी गहरी थी तो
झटके में उसने जगाया है
पसरे चिर सन्नाटे को
हौले-हौले थपकाया है.......

मत पूछो कि
किस भाँति मैंने
मन को लुटाया है

स्फुटित श्वास ,स्तब्ध नयन
हाय ! ये कैसा सौन्दर्याघात है
एक उत्तेजित,उल्लसित किन्तु
स्निग्ध उल्कापात है.....
ढुलमुलायी हवाओं में भी
कोई न कोई तो बात है
क्या ये अतर्कित प्रेम का
उदित,अनुदित उत्ताप है.....

मानो मुंदी-मुंदी रातों में
धूप सा वह उग आया है
मेरे पथरीले पंथों पर
दूब बन कर लहराया है.......
उहूँ ! मेरे विश्व में ये कैसा
संदीप्त सनसनाहट मचाया है
तैर रही हैं लहरें और
सागर को ही डूबाया है......

अब तो ये मत पूछो कि
किस भाँति मैंने
उसको पाया है .




56 comments:

  1. बहुत बढ़िया |
    सच्चे भाव ||

    ReplyDelete
  2. निज के मिटने पर ही स्वरूप का रसास्वादान होता है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,..

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत ही बढि़या शब्‍द संयोजन ।

    ReplyDelete
  5. मानो मुंदी मुंदी रातो में धूप सा लहराया है वाह अमृता जी बहुत मनमोहक प्रस्तुति है

    ReplyDelete
  6. वाह....

    उत्तम शब्द संयोजन.....
    वज़नदार रचना.............

    अनु

    ReplyDelete
  7. ठीक है अमृताजी, नहीं पूछूंगा

    .. पर आपने तो बहुत कुछ बता दिया है जी

    बहुत ही सुन्दर पोस्ट....

    ReplyDelete
  8. मन को लुटाया तो उसको पाया !
    बेहद खूबसूरत एहसास !

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब ! रचना के भाव और प्रवाह अपने साथ बहा ले जाते हैं...सदैव की तरह एक सशक्त प्रस्तुति...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर शब्दों को आपने कविता में ढाला है!....आभार!

    ReplyDelete
  11. स्फुटित श्वास ,स्तब्ध नयन
    हाय ! ये कैसा सौन्दर्याघात है
    एक उत्तेजित,उल्लसित किन्तु
    स्निग्ध उल्कापात है.....
    यह प्रयोग बहुत ही अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  12. सुभानाल्लाह.....बेहद ही खुबसूरत और शानदार मत पूछों कैसे मैंने उसको पाया है ....वाह......हैट्स ऑफ इसके लिए ।

    ReplyDelete
  13. अपने ही बंद झरोखे को धीरे से खुलते पाया है...
    लाजवाब.. अद्भुत भाव ....

    ReplyDelete
  14. जब रातों में धूप खिले और पत्थर पर दूब दिखे तब समझना चाहिए कि कुछ अकल्पनीय घटा है...बहुत सुंदर कविता !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर कविता। स्वागत है।

    ReplyDelete
  16. shabdon par aapki pakad, vaakayi, kaabil-e-taarif hai!!

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  18. त्रिप्ती का ...सम्पूर्णता का कोमल स्पर्श और ...सुंदर एहसास ...!!
    बहुत सुंदर रचना ....!!

    ReplyDelete
  19. तैर रही हैं लहरें और
    सागर को ही डूबाया है.bahut khoob

    ReplyDelete
  20. शब्द शब्द में एक अलौकिक अनुभव है ...

    ReplyDelete
  21. ओक्सिमोरोन(विरोधालंकार) का जादू है इस पोस्ट में-लहरे तैर रहीं सागर को डुबाया है .बहुत निजी प्रयोग .

    ReplyDelete
  22. बहुत खूब.... सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  23. Amrita,

    PREMBANDHAN KAA VARNAN BAHUT MAN BHAVAN KIYAA HAI.

    Take care

    ReplyDelete
  24. ये पूछने की नहीं, समझाने और महसूस करने की बात है.. निश्छल प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति.

    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर शब्दों का संयोजन बधाई

    ReplyDelete
  26. स्फुटित श्वास ,स्तब्ध नयन
    हाय ! ये कैसा सौन्दर्याघात है
    एक उत्तेजित,उल्लसित किन्तु
    स्निग्ध उल्कापात है.....
    ढुलमुलायी हवाओं में भी
    कोई न कोई तो बात है
    क्या ये अतर्कित प्रेम का
    उदित,अनुदित उत्ताप है.....

    अद्भुत शब्दों का संयोजन और गहन प्रेम की अभिव्यक्ति .... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  27. your picturisation of feelings of eternity flowing through mandane to spirit and internal external expressions takes away to a very real world of super bliss endowed to human as love and compassion.unfortunately we have confined our feelings to matter, where as you have opned a window to peep into the bliss inside.congrutulation .

    ReplyDelete
  28. The way you have expressed for a very abstract human feelings flowing eternally from the plane of matter to spirit in the form of love and compassion the goal and pursuit of all human beings in all his efforts for happiness.it needs no mentioning that this poetry is unique in this sense.wishing all good for you.
    birendra.

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर भावों के अंतर्मन का व्यक्तिकरण .
    हम जब डूबते है . तब शायद ऐसा ही महसूस होता है .
    ईर्ष्या होती है मै कभी जीवन के इतने करीब क्यों
    नहीं पहुँच पाया .प्रणाम स्वीकारें .

    ReplyDelete
  30. भावों की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  31. उलझे हुए मनोभावों को मन की तलहटी से पन्ने पर उतारने वाली आपकी अद्भुत लेखनी को नमन

    ReplyDelete
  32. जब मैं था तब तू नहीं ,जब तू हैं मैं नाहिं ,
    सब अँधियारा मिट गया ,जब दीपक देखा माहिं !- कबीर
    अनुभूति के क्षणों में सब मन-भावन लगता है .

    ReplyDelete
  33. Bahut sundar .....khubasurat anubhuti....Amrita ji....

    ReplyDelete
  34. स्फुटित श्वास ,स्तब्ध नयन
    हाय ! ये कैसा सौन्दर्याघात है
    एक उत्तेजित,उल्लसित किन्तु
    स्निग्ध उल्कापात है.....
    ढुलमुलायी हवाओं में भी
    कोई न कोई तो बात है................behtarin shabd sanyojan...sahityik bhasha...bahti hui shandaar bhabavyakti...aisa lagta hain jaise koi apne dekhe hue sapne ko shabdon kee chitrakaari se hoobahu shaklabanakar saamane khada kar de..sadar badhayee

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर सृजन , बधाई.

      कृपया मेरी १५० वीं पोस्ट पर पधारने का कष्ट करें , अपनी राय दें , आभारी होऊंगा .

      Delete
  35. प्रेम सरोवर में डुबकी लगवाती पोस्ट .गहन अनुभूतियों का स्पर्श करवाती पोस्ट .

    ReplyDelete
  36. बहुत बढ़िया मनोभाव ..सुन्दर गेय रचना

    ReplyDelete
  37. स्फुटित श्वास ,स्तब्ध नयन
    हाय ! ये कैसा सौन्दर्याघात है
    एक उत्तेजित,उल्लसित किन्तु
    स्निग्ध उल्कापात है.....
    ढुलमुलायी हवाओं में भी
    कोई न कोई तो बात है
    क्या ये अतर्कित प्रेम का
    उदित,अनुदित उत्ताप है.....

    शब्द व भाव चयन रचना को गगन की ऊँचाइयों तक ले गया. लेखन शैली में शीर्षस्थ कवियों की स्मृति हो आई

    ReplyDelete
  38. उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  39. नमस्ते............बहुत खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  40. पथरीले पंथों पर डूब सा लहराया है ...

    वाकई आपने ईश्वर का आशीष पाया है ...
    मैं फुर्सत के उन पलों को तलाश रहीं हूँ जब आपकी रचनाओं को डूबकर कई कई बार पढ़ पाउंगी इलेक्ट्रोनिक मीडिया शायद वो किताब जैसी तसल्ली नहीं दे पाता

    ReplyDelete
  41. श्रृंगार की अभिव्यक्तियाँ मुझे बहुत अच्छी लगती है और आपकी यह कविता तो श्रृगार रस में ही सनी पगी है ...
    यादगार रचना ....

    ReplyDelete
  42. इसमें मन का क्या कसूर...

    सुंदर भावनात्मक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  43. Bahut hi Sundar prastuti. Mere post par aapka intazar rahega. Dhanyavad.

    ReplyDelete
  44. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  45. उहूँ ! मेरे विश्व में ये कैसा ...
    संदीप्त सनसनाहट मचाया है ....
    तैर रही हैं लहरें और ,
    सागर को ही डूबोया है ......
    अद्धभुत भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति .... !!

    ReplyDelete
  46. सुन्दर भावों को आपने शब्दों में ढाला है

    ReplyDelete
  47. प्रगाढ़ प्रेम से उद्भूत रचना ,स्थूल से सूक्ष्म की और प्रयाण ....
    रविवार, 22 अप्रैल 2012
    कोणार्क सम्पूर्ण चिकित्सा तंत्र -- भाग तीन
    कोणार्क सम्पूर्ण चिकित्सा तंत्र -- भाग तीन
    डॉ. दाराल और शेखर जी के बीच का संवाद बड़ा ही रोचक बन पड़ा है, अतः मुझे यही उचित लगा कि इस संवाद श्रंखला को भाग --तीन के रूप में " ज्यों की त्यों धरी दीन्हीं चदरिया " वाले अंदाज़ में प्रस्तुत कर दू जिससे अन्य गुणी जन भी लाभान्वित हो सकेंगे |
    वीरेंद्र शर्मा

    ReplyDelete
  48. वाह ! बहुत सुन्दर अमृताजी

    ReplyDelete
  49. कल 27/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  50. गहन भावाभिव्यक्ति.
    बहुत कुछ कहती हुई.

    ReplyDelete
  51. पूरी कविता में प्रकाश की ओर ले जाती यात्रा का छिपा भाव सन्निहित है. बहुत ही सुंदर कविता.

    ReplyDelete