Pages

Sunday, March 18, 2012

भीड़


मेरे भीतर
बहुत ही बुरी हालत में
ठेलम-पेल करती हुई
एक बदहवास भीड़
अजीब चाल में मुझे चिढाती हुई
हरवक्त रेंगती रहती है.....
मेरे ही नाक के नीचे
सभाएं आयोजित करती है , रैलियां निकालती हैं
मजे की बात है - मुझे नेता बनाती है
भावुकता के अतिवादी क्षणों में
ऊंचे-ऊंचे वादे करवाती है
आश्वासनों के दीये जलवाती है....
अपने खुले पेट पीट-पीट कर दिखाती है
मांगों की लम्बी फेहरिस्त भी थमाती है
जिसे पूरा करना मेरे बस की बात नहीं
उसी में मैं भी हूँ,कोई मुकुट धारी नहीं...
उम्मीदों के टूटने पर वे मुझे ही
विनष्ट करने की योजना बनाती हैं
और मैं चौबीसों घंटे
पीछे से अनेक -अनेक रूपों में
खुद पर अज्ञात हमलों के डर से
असहाय , निरुपाय महसूसती हूँ....
पूरी हिम्मत जुटाकर उन वादों से
सरेआम मुकर जाना चाहती हूँ
और उस दीये को भी
फूंक मार बुझा देना चाहती हूँ.....
मैंने तो जन्म नहीं दिया है
किसी भी राजशाही या तानाशाही को
बल्कि आत्मबल को थपकियाँ देकर सुलाया है
कमजोरियों के साथ जीना सीखा है
कतार में लगने का अभ्यास किया है
बिना प्रतिवाद के धक्का-मुक्की खाकर
और पीछे होना भी स्वीकारा है
लाल कालीन को घृणा से ही देखा है
जिसके नीचे बहती है खून की नदियाँ....
तो फिर मेरे भीतर
किस क्रान्ति के नाम पर
केवल मशालची ही दिखते हैं
जो मुझे ही मंच पर पटक कर
मेरे हड्डी-मांस-मज्जा से खेलते हैं....
सिर्फ एक वहशत , पागलपन
आशंकाओं का उफनता सैलाब
जैसे कि केवल मैंने ही
उन्हें बना दिया है
बंधुआ मजदूर सा आम आदमी
और धोखे से दिखा दिया है
राजमार्ग के उस छोर का राजमहल.....
मुझमें तो इतनी ताकत नहीं कि
किसी इतिहास को दुहराने से रोक दूँ
या फिर भीड़ को उकसा कर
कोई नया इतिहास रच दूँ.....
विकल्प के अभाव में
अभावों को सहती हूँ
उसी भीड़ के साथ जीती हूँ
और उसी भीड़ में मरती हूँ .




 

51 comments:

  1. अदभुद!!!
    समाज की विसंगतियों को बखूबी अभिव्यक्त किया है....

    सशक्त रचना के लिए आपको बधाई.

    सादर.

    ReplyDelete
  2. बेहद उम्दा और शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. विकल्पों के अभाव में
    अभावों को सहती हूं
    उसी भीड़ के साथ जीती हूं
    और उसी भीड़ में मरती हूं।

    स्वानुभूति की गहराई कविता में प्रकट हो रही हैं।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 19-03-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. सबका संग तो जीवन में ऊर्जा भरता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कई बार आदरणीय प्रवीण जी का कमेंट पढ़कर मैं भी चकराया हूँ:)

      Delete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।।

    ReplyDelete
  7. बहुत मर्मस्पर्शी और सशक्त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर भाव शानदार प्रस्तुति।,......

    MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....

    ReplyDelete
  9. ताकत कभी कभी खुद में पैदा करनी होती है ... नया इतिहास ही ऐसे ही रहना जाता है ...

    ReplyDelete
  10. भीड़ की नियति हमेशा दबा कुचला होना ही है ..कितनी प्रवीणता से आपने इस विसंगति पर प्रहार किया है .बहुत सुँदर

    ReplyDelete
  11. बेहद अदभुद ,सशक्त और शानदार रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आज की समाजिक-राजनैतिक व्यवस्था पर,सटीक चोट.

      Delete
  12. बाप रे ये तो लाल सलाम वाली कविता है ....

    ReplyDelete
  13. काबिल-ए-तारीफ। इसे पढ़ते हुए आ रही हंसी को रोकना मुश्किल है। सच्चाई के करीब पहुंचती कविता। तोड़ दीजिए वादे....अगर टूट भी जाएं....तो क्या करिए। कमजोरियों के साथ जीने का हौसला पसंद आय़ा। बहुत-बहुत शुक्रिया।

    ReplyDelete
  14. वाह! ज़िम्मेदारी थोपने के लिये भी कोई होना चाहिये!

    ReplyDelete
  15. एक अलग ही दृष्टिकोण, अच्छी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  16. इस शोर में कान बहरे , ... न कुछ दिखता है न समझ में आता है , होती है केवल बदहवासी !

    ReplyDelete
  17. यथार्थबोध के साथ कलात्मक जागरूकता भी स्पष्ट है।

    ReplyDelete
  18. विसंगतियाँ देख मन में उबाल आता है पर जब कुछ कर नहीं पाते तो ऐसे ही हताशा घेर लेती है ...

    ReplyDelete
  19. beautiful lines with deep feelings.
    but we have to realise that we should adjust .

    ReplyDelete
  20. विकल्प के अभाव में भीड़ के साथ दबते कुचलते चलना ही नियति हो जाती है !

    ReplyDelete
  21. बड़ा मुश्‍कि‍ल है इन लोगों को जगा पाना

    ReplyDelete
  22. आत्मबल को थपकियाँ देकर सुलाना ....यही तो सबसे बड़ी कमजोरी है जो लोकतंत्र को लोक के लिये नहीं बल्कि चुनिन्दा लोगो के चरणों में समर्पित कर देती है और आम आदमी हो जाता है केवल भीड़ का हिस्सा ...बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  23. भीड़ से ही हम निकले लोग हैं जो भीड़ को रास्ता देते हैं ,और भीड़ को भटकाने का उपक्रम भी / दशा व दिशा किसको व किसकी तय करनी है यह स्पष्ट हो तो भीड़ ,भीड़ नहीं होती ,नायक होती है अधिनायक बनाने के लिए ..... रोचक अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  24. bheed me apni soch kahin kho jati hai ....
    prabhavpoorna abhivyakti ...

    ReplyDelete
  25. विकल्पों के अभाव में
    अभावों को सहती हूं
    उसी भीड़ के साथ जीती हूं
    और उसी भीड़ में मरती हूं।
    bheed tantr meri niyati ,siron ko ginti rahti hoon ,

    aur fir bheed kaa koi chehraa bhi to nahin hotaa . .

    ReplyDelete
  26. भीड़ का कोई अपना चेहरा भी नहीं होता ,

    कोई निजी संवेदना भी नहीं ,

    मैं इसमें हूँ , ये मुझमे है,

    भीतर बाहर एक .

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन भाव संयोजन लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन ।

    ReplyDelete
  28. क्या अद्भुत चिंतन है... वाह! वाह!
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  29. सब कुछ तो है मेरे देश में ....फिर भी न जाने एक डर क्यु सताता है |बहुत सुन्दर प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  30. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    अप्रतिम रचना...शब्द शब्द बाँध लेता है..वाह....बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  31. bheer se bachiye huzur,
    bheer hote kankhazoor...
    jo privisht hue agar man me to,
    aap ho jayengi khud se duur...
    Amrita bheer ki mansikta hamein netagiri aur rajneeti ki bisaat ka mohra bana deti hai...ham agar seema rekha ke bahar rah kar nirnayak ki bhumika nibhayein to jyada uttam...

    aapne bheer ko aur uski mansikta se upje dwand ko bakhubi chitrit kiya hai...saadhuvaad...

    ReplyDelete
  32. खुबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  33. भीड़ को कहाँ फुर्सत कि नेता को समझे वो तो कीमत मांगती है अपनी सभी समस्याओं को उसे थमा अपने सर-आँखों बिठाने की । बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  34. मैं पढ़ती चली गई .....बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  35. अपने भीतर की भीड़ का साक्षी बने बिना न इससे छुटकारा होगा न इसमें कोई बदलाव आयेगा...आभार!

    ReplyDelete
  36. आपकी लेखनी को सलाम !

    अगर हो सके तो भीड़ तो नयी और बेहतर दिशा दिखाएँ. अभी भी बहुत से लोग बिना सही मार्गदर्शन और प्रेरणा के किसी भी भीड़ में शामिल हो जाते हैं.

    आभार !

    ReplyDelete
  37. अमृता जी कमाल कर दिया आपने मैं क्या कहूँ इस रचना की तारीफ़ में शब्द ही नहीं हैं मेरे पास.......हैट्स ऑफ भी छोटा लग रहा है बस यूँ मान लें की आपके ब्लॉग की बेहतरीन रचनाओ में से एक है ये पोस्ट......इसको कहीं लिख के भी रखिएगा ज़रूर आपने भीतर और बाहर की जिस भीड़ को शब्दों में ढाला है वो अदभुत है.......नतमस्तक हूँ इस पोस्ट के लिए.......खुदा करे आप ऐसे ही लिखती रहें.....आमीन।

    ReplyDelete
  38. सत्ता की ही व्यथा कथा बन गई यह रचना!!
    दुविधाओं दर्दीला सागर!!

    ReplyDelete
  39. किसी शायर ने कहा है:- आईना सलामत है चेहरा दरक गया , अपनी बरबादियों में खुद ही शरीक रहा हूँ, बात और है औरों पर शक गया

    ReplyDelete
  40. काफी सशक्त रचना...मील का पत्थर

    ReplyDelete
  41. वाह! कमाल की प्रस्तुति है अमृता जी.
    हृदय की व्यथा की सुन्दर कथा.
    विकल्प के अभाव में अभावों को सहन
    करना मजबूरी है.
    परन्तु,सच्ची लगन और चाह विकल्प को भी जन्म दे ही देती है.

    ReplyDelete
  42. यह राजनीति का दूसरा पक्ष और तीसरा चेहरा है. बहुत सशक्त रचना है.

    ReplyDelete